राजर्षि टण्डन की क्षेत्रीय समन्वयक ने नेमवि में पौधे रोपित किए

ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए अधिक से अधिक वृक्ष लगाने की अपील
ललितपुर। शासन की मंशा के अनुरूप उ.प्र. राजर्षि टण्डन मुक्त विश्वविद्यालय प्रयागराज, क्षेत्रीय समन्वयक झाँसी डा.रेखा त्रिपाठी एवं नेमवि के प्राचार्य डा.अवधेश अग्रवाल द्वारा महाविद्यालय परिसर में वृक्षारोपण कार्यक्रम आयोजित कर पौधे रोपित किए गए। इस मौके पर क्षेत्रीय समन्वयक झांसी डा. रेखा त्रिपाठी ने कहा कि सृष्टि के संतुलन के लिये एवं पर्यावरण संरक्षण के लिए वृक्षारोपण आवश्यक है। सम्पूर्ण विश्व में पर्यावरण के बिगड़ते संतुलन से मानव जीवन को गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है। यदि समय रहते चेतना नहीं आई तो पृथ्वी पर भयंकर स्थिति हो जायेगी। कोविड-19 में आक्सीजन की समस्या को दृष्टिगत रखते हुए अधिक से अधिक संख्या में वृक्षारोपण किया जाना आवश्यक है। नेमवि प्राचार्य डा.अवधेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि प्रतिदिन चलने वाले वाहनों एवं फैक्ट्रियों के निकलने वाले धुयें से जहां वायु प्रदूषित हो रही है वहीं औद्योगिक कचरों व नालियों के गंदे पानी से पावन नदियां भी प्रदूषित हो रही है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे पर्यावरण की सुरक्षा हेतु जागृत हों। यदि समय रहते पर्यावरण के प्रति जागृत नहीं हुए तो मानव जीवन संकट में पड़ जायेगा। असि.प्रो. मनोविज्ञान एवं सह समन्वयक डॉ. सूबेदार यादव ने कहा कि जीवन जन्तु वनस्पति की समष्टि को पर्यावरण कहा जाता है। यह तत्व वायु, जल, ऊर्जा, प्रकाश, गैस, धातु व खनिज आदि हैं। इन तत्वों के अंधाधुंध दोहन से पर्यावरण प्रदूषित हो रहा है। पर्यावरण संरक्षण के उपायों का जीवन में प्रयोग नहीं किया जा रहा है। उन्होंने अपील की कि अपने घर के आंगन में प्राणवायुदायक एवं फलदार वृक्षों को लगाकर पर्यावरण के संरक्षण में मदद करें। इस अवसर पर डा. ओमप्रकाश चौधरी, डा. लक्ष्मीकान्त मिश्रा, डा.राजेश तिवारी, डा.विनीत अग्निहोत्री, डा.अनूप दीक्षित, डा.पराग कुमार, संदीप श्रीवास्तव, फहीम बख्श, क्षेत्रीय कार्यालय झाँसी के लिपिक शिवकुमार, अतुल कुमार सहित दीपक रावत, राजेश, सुरेश आदि उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या