समाजवादी कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में विरोध प्रदर्शन

लखनऊ दिनांकः 15.07.2021 समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के निर्देश पर आज उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में सरकारी मशीनरी द्वारा की गई धांधली तथा उत्तराखण्ड में बढ़ते भ्रष्टाचार और पलायन तथा बेरोजगारी के खिलाफ देहरादून, हरिद्वार, ऋषिकेश, हल्द्वानी, रूद्रपुर, चम्पावत, और पिथौरागढ़ में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में विरोध प्रदर्शन किया और महामहिम राष्ट्रपति महोदय को सम्बोधित ज्ञापन स्थानीय अधिकारियों को सौंपा। महामहिम राष्ट्रपति महोदय को सौंपे गए ज्ञापन में कहा है कि पंचायत चुनावों में बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी के सदस्य निर्वाचित हुए थे लेकिन सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग कर उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने ब्लाक प्रमुख एवं जिला पंचायत अध्यक्षों के पदो पर जबरन कब्जा कर लिया। समाजवादी पार्टी उत्तराखण्ड ने उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की मांग की। उत्तराखण्ड समाजवादी पार्टी ने अपने ज्ञापन में कहा है कि इस प्रदेश की आर्थिक स्थिति जर्जर है। शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल हैं। महंगाई चरम पर है। उत्तराखण्ड भ्रष्टाचार की प्रयोगशाला बना दिया गया है। हरिद्वार में कुम्भ के दौरान कोरोना टेस्टिंग में करोड़ों रूपये का घोटाला हुआ है। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए। देहरादून में सर्वश्री प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 एस.एन. सचान, प्रो0 आर.के. पाठक, सुभाष पंवार, अतुल शर्मा, राजेन्द्र चौधरी, गुलफाम अली, नासिर मंसूरी, अनुराग कुकरेती, कल्याण सिंह, राकेश यादव, नईम अंसारी, हरिद्वार में साबिर अंसारी, लवदत्ता, श्रवण सांख्यधर, मुहब्बत अली, मस्कूर कुरैशी, हल्द्वानी में शुऐब अहमद, मोंटी सिंह, मजलिस चौधरी, सुनैद अहमद, अख्तर अली, जियाउद्दीन कुरैशी, योगेश शर्मा, मुन्ना सलमानी, ऋषिकेश में रमेश गौड, अतुल यादव, अशोक ग्रोवर, राजपाल यादव, रूद्रपुर में योगेन्द्र यादव, चम्पावत में ललित मोहन भट्ट, मुकेश टमटा, पिथौरागढ़ में रमेश बिष्ट, दीपक भट्ट, मुक्तेश्वर में चिलकोटी, दीवान मलडला, तैय्यब अंसारी, शिवजी यादव, शिवकुमार सिंह, मोहम्मद अली, सुधीर चैधरी, रूप सिंह, अमर सिंह, दीनानाथ, मुन्ना यादव, राजेन्द्र कुमार, संदीप कुमार, रामसागर यादव तथा नमन रस्तोगी आदि ने विरोध प्रदर्शन में भाग लिया और ज्ञापन सौंपा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या