पुनर्वास विश्वविद्यालय: कुलपति ने पीपल का पौधा रोपित कर किया वृक्षारोपण सप्ताह का शुभारम्भ

लखनऊः दिनांक: 09 जुलाई, 2021 डॉ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के कुलसचिव अमित कुमार सिंह ने बताया कि डॉ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में आज से वृक्षारोपण सप्ताह का शुभारम्भ किया गया है। कार्यक्रम का शुभारम्भ विश्वविद्यालय के कुलपति, प्रो0 राणा कृष्ण पाल सिंह जी द्वारा पीपल का पौधा रोपित कर किया गया। राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा वृक्षारोपण सप्ताह का संचालन किया जा रहा है। एक सप्ताह तक चलने वाले वृक्षारोपण कार्यक्रम में विश्वविद्यालय स्तर से 100 पीपल के पौधे तथा विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों से 50 पीपल के पौधे कुल 150 पीपल के पौधे रोपित किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। वृक्षारोपण के पश्चात कुलपति जी ने पर्यावरण के लिए वृक्षों के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि शायद ही कोई इंसान होगा जो पीपल के वृक्ष के फायदों को न जानता हो। पीपल एकमात्र ऐसा विशालकाय वृक्ष है जो चौबीस घण्टे ऑक्सीजन प्रदान करता है। भारतीय संस्कृति में भी इस वृक्ष को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है तथा अनेक पर्वों पर इसकी पूजा की जाती है। इस अवसर पर कुलपति जी ने निर्देश दिये कि विश्वविद्यालय परिसर में स्थानों को चिन्हित कर पीपल के वृक्ष तथा औषधीय महत्व के वृक्षों के साथ फलदार वृक्ष जैसे आम, ऑवला, अमरूद आदि के पौधे भी रोपित किये जायें। उन्होंने कहा कि हमें न सिर्फ ये पौधे रोपित करने हैं बल्कि इनकी सुरक्षा भी करनी है। ये दायित्व हम सब को निभाना होगा तभी आज रोपित किये गये ये पौधे कल वृक्ष बन सकेंगे। उल्लेखनीय है कि राज्यपाल सचिवालय, उत्तर प्रदेश द्वारा निर्देश दिये गये हैं कि विश्वविद्यालय/संस्थान परिसर में या निकटवर्ती क्षेत्रों में या विश्वविद्यालय से सम्बद्ध महाविद्यालयों में कम से कम एक लाख पीपल के वृक्ष रोपित किये जायें। इसी क्रम में विश्वविद्यालय में वृक्षारोपण सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है। इस अवसर पर परीक्षा नियंत्रक, श्री अमित राय, प्रो0 एस0एस0झा0, प्रो0 रजनी रंजन, डा0 शेफाली यादव, राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के समन्वयक, डा0 राशि कृष्ण सिन्हा, डा0 अंजली सिंह सहित विश्वविद्यालय के अधिकारियों/कर्मचारियों द्वारा पीपल के पौधे रोपित किये गये।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?