प्रदेश में लागू की जाये वरिष्ठ व्यापारी पेंशन योजना : सुमित अग्रवाल

विभिन्न समस्याओं के जल्द निस्तारण की उठायी मांग
अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल (पंजी.) ने मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन
ललितपुर। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के दौरान लम्बे समय तक लॉकडाउन रहने से व्यापारियों की आर्थिक कमर टूट गयी है। ऐसे में व्यापारियों को योजनाओं के जरिए मदद करने का कार्य केन्द्र व प्रदेश सरकार को करना चाहिए। यह उदगार व्यक्त करते हुये अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मण्डल (पंजी.) ने जिला प्रभारी सुमित अग्रवाल के नेतृत्व में मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन जिला प्रशासन के जरिए भेजा है। ज्ञापन में व्यापारियों ने मांग उठाते हुये बताया कि प्रदेश में वरिष्ठ व्यापारी पेंशन योजना लागू की जाए, उत्तर प्रदेश में दलहन स्टॉक की सीमा हटाई जाए एवं खाद्य विक्रेताओं के यहां अनावश्यक सर्वे छापे बंद किए जाएं। कोरोना से मृत व्यापारी को मुख्यमंत्री व्यापारी दुर्घटना बीमा योजना के अंतर्गत शामिल करते हुए उसके परिजन को दस लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए लॉकडाउन के समय का दो माह के बिधुतबिल माफ किए जाए साथ ही बिजलीबिल का फिक्सचार्ज एवं सरचार्ज समाप्त किए जाएं, प्रदेश में 3 सितंबर व्यापारी दिवस घोषित किया जाए, व्यापारी सुरक्षा प्रकोष्ठ को प्रभावी बनाते हुए व्यापारियों को उचित सुरक्षा दी जाए, डीजल पेट्रोल रसोई गैस की कीमतें घटाने के लिए महंगाई पर रोक लगाने के लिए इनको जीएसटी के दायरे में लाया जाए, जीएसटी की रिटर्न दाखिल करने की अवधि को 30सितंबर तक बढ़ाया जाए किसी भी प्रकार का अर्थ दंड और जुर्माना ना लिया जाए। इन सभी मांगों को जल्द से जल्द पूरा कर व्यापारियों को राहत प्रदान किये जाने की मांग करते हुये अन्यथा की स्थिति में आंदोलन की चेतावनी दी गयी। ज्ञापन देते समय जिला प्रभारी सुमित अग्रवाल, करीम पप्पू राइन, नरेंद्र तिवारी, पुष्पेंद्र बमरोला, सौरभ जैन, विकाश सोनी, निहाल सेन, सचिन नामदेव, नेपाल सिंह, बृजेश ताम्रकार, दीपक आस्था, मनीष सोनी, भोले सोनी, सुरेंद्र, नरेंद्र जैन, निक्की जैन, अंशुल जैन, प्रमोद कुमार, विशाल राठौर, कृष्णकांत सोनी, सौरभ जैन आदि मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी पद पर कोई भर्ती नहीं होगी केंद्र सरकार ने नोटिस जारी कर दिया

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या