जनपद में 20000 लक्ष्य के सापेक्ष 20990 लोगों ने लगवाया टीका

टीकाकरण महा अभियान में बुंदेलखण्ड में 1.67 लाख से अधिक लोगों का किया गया टीकाकरण
भ्रांतियों को दरकिनार कर बुंदेलखंड में लक्ष्य के सापेक्ष 105 फीसद ने लगवाया टीका
ललितपुर। कोरोना से लोगों को सुरक्षित बनाने के लिए प्रदेश में चलाया जा रहा टीकाकरण अभियान लोगों के जोश के कारण तेजी से परवान चढ़ रहा है। मंगलवार के एक दिवसीय महा अभियान में जनपद में युवाओं ने बढ़-चढक़र हिस्सा लिया और लक्ष्य के सापेक्ष अधिक टीकाकरण हुआ है। ज्ञात हो महा अभियान के लिए जनपद का लक्ष्य 20000 था जिसके सापेक्ष 20990 लोगों ने टीका लगवाया है। वहीं बुंदेलखण्ड के झांसी और चित्रकूट मण्डल 105 फीसदी टीकाकरण कराने में सफल रहा। बुंदेलखंड में 1,57,700 के सापेक्ष 1,67,115 लोगों ने टीका लगवाया। दोनों मण्डलों के अपर निदेशक स्वास्थ्य ने सभी जिलाधिकारियों व मुख्य चिकित्साधिकारियों के प्रयासों की सराहना की है। कोविड-19 से लोगों को बचाने के लिए प्रदेश में इस साल 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू किया गया था। शुरूआत में इसको लेकर लोगों में कुछ भ्रांतियां रहीं, लेकिन राज्य सरकार व स्वास्थ्य विभाग के लगातार प्रयासों से अब लोगों में जागरूकता आ चुकी है। टीकाकरण को लेकर युवाओं में जोश है। तीन अगस्त को उत्तरप्रदेश बुंदेलखण्ड के सातों जनपदों में हुआ टीकाकरण इसकी बानगी है। झाँसी मण्डल की अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. अल्पना बरतारिया ने बताया कि मंडल में सबसे ज्यादा टीके जालौन जनपद में लगाए गए। यहां 24000 के सापेक्ष 26808 यानी 111.7 फीसद लोग प्रतिरक्षित हुए। झाँसी जिले में सबसे अधिक 30000 का लक्ष्य रखा गया था, इसके मुकाबले यहाँ 26139 लोगों ने टीके लगवाए। वही ललितपुर में निर्धारित लक्ष्य 20000 के सापेक्ष 20990 यानी लगभग 105 प्रतिशत लोगों ने टीका लगवाया। वहीं चित्रकूटधाम मण्डल के अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. आरबी गौतम ने बताया कि मंडल में सबसे ज्यादा टीके महोबा जनपद में लगाए गए। यहां 18000 के सापेक्ष 21986 यानी 122 फीसद लोग प्रतिरक्षित हुए। चित्रकूट जिले में 21700 का लक्ष्य रखा गया था। इसके मुकाबले 24640 लोगों ने टीके लगवाए। इसी तरह हमीरपुर में निर्धारित लक्ष्य 20000 के सापेक्ष 21513 यानी 107 प्रतिशत और बांदा जनपद में निर्धारित किए गए 24000 लक्ष्य के मुकाबले 25039 लोगों ने टीका लगवाया, जो कि लक्ष्य का 104 फीसद रहा। दोनों निदेशक ने कहा कि शासन से मिली वैक्सीन की उपलब्धता के आधार पर टीकाकरण हुआ। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा दिया गया यह लक्ष्य एक टेस्ट के रूप में था। ऐसे ही प्रयास आगे भी जारी रहेंगे। शीघ्र ही पूर्ण प्रतिरक्षण का लक्ष्य भी हासिल किया जाएगा। उन्होंने मंडल के चारों जिलाधिकारियों और मुख्य चिकित्साधिकारियों के रणनीति और तैयारियों की सराहना की है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा