स्वतंत्रता की 75 वी वर्षगाँठ "अमृत महोत्सव" के रूप में मनाएगा अभाविप।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद मालवा प्रान्त के कार्यकर्ता स्वतंत्रता दिवस की 75 वीं वर्षगाँठ को "अमृत महोत्सव" रूप में मनायेगें।
जब हम ग़ुलामी के उस दौर की कल्पना करते हैं, जहां करोड़ों-करोड़ लोगों ने सदियों तक आज़ादी की एक सुबह का इंतज़ार किया तब ये एहसास और बढ़ता है कि आज़ादी के 75 साल का अवसर कितना ऐतिहासिक और कितना गौरवशाली है। इस पर्व में शाश्वत भारत की परंपरा भी है। स्वाधीनता संग्राम की परछाई भी है। और आज़ाद भारत की गौरवान्वित करने वाली प्रगति भी है। इसी महत्व को युवाओं के बीच ले जाने हेतु विद्यार्थी परिषद मालवा प्रान्त 15 अगस्त से "अमृत महोत्सव" अभियान प्रारम्भ करने जा रही है। इस अभियान के निमित्त अभाविप ने पहले चरण में "एक गाँव-एक तिरंगा" थीम के अंतर्गत 2,500 ऐसे गाँव चयनित किये हैं जहाँ वे समाजजन के साथ मिलकर के 15 अगस्त को ध्वजारोहण करेंगे और विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम करेंगे । इस अभियान में अभाविप के 10 हजार से अधिक कार्यकर्ता और सामान्य छात्र इसमें लगेंगे जो अलग-अलग गांवों में जाकर सामान्य जन-लोगों को स्वतंत्रता का महत्व समझाएंगे और उनके साथ मिल कर के उस गाँव में 15 अगस्त को ध्वजारोहण करेंगे । इस अभियान के निमित्त आज अभाविप मालवा प्रान्त के द्वारा पोस्टर का विमोचन कार्यक्रम किया गया जिसमें मुख्य रूप से सेवानिवृत कर्नल मनोज जी बर्मन, मालवा प्रांत के प्रांत संगठन मंत्री नीलेश जी सोलंकी, प्रांत अध्यक्ष योगेश जी रघुवंशी एवं प्रांत मंत्री घनश्याम सिंह चौहान, महानगर मंत्री लक्की आदिवाल उपस्थित रहे । सेवानिवृत्त कर्नल मनोज बर्मन ने कहा कि स्वतंत्रता बड़े संघर्षों से मिली है हजारों लाखों लोगों ने स्वतंत्रता के लिए देश की आजादी के लिये बलिदान दिया। इस बलिदान और आजादी का महत्व हमें लोगों तक पहुँचना चाहिये । मालवा प्रान्त अध्यक्ष योगेश रघुवंशी जी ने कहा कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का उद्देश्य है कि अभियान के माध्यम स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव प्रत्येक गाँवो में भी एक उत्सव के रूप में मनाया जाए और समाज का प्रत्येक जन इस अभियान में सम्मिलित हो और उन गाँवो का स्वतन्त्रता संग्राम में जो योगदान रहा है उनका अध्ययन करे और समाज तक पहुँचाये। मालवा प्रान्त मंत्री घनश्याम सिंह चौहान ने कहा कि अभाविप मालवा प्रान्त की 15 अगस्त से अमृत महोत्सव प्रारम्भ होगा जो वर्ष भर चलेगा । 15 अगस्त को अभाविप मालवा प्रान्त के 10 हजार से अधिक कार्यकर्ता और सामान्य छात्र मिल कर 2,500 गाँवो में ध्वजारोहण करेंगे ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा