जल्द ही अंक तालिकाओं पर अंक अंकित किये जाने की मांग


मुख्यमंत्री के आवास का घेराव करने की चेतावनी

ललितपुर। पांचवें दिन भी राजकीय इंटर कॉलेज के 877 छात्रों के साथ हुए अन्याय के खिलाफ एनएसयूआई के तत्वाधान में घंटाघर के मैदान पर धरना प्रदर्शन का जारी रहा। इस दौरान एनएसयूआई जिलाध्यक्ष रितिक शुक्ला मोन्टी ने कहा कि राजकीय इंटर कॉलेज के पूर्व प्रधानचार्य राजेन्द्र त्रिपाठी, वर्तमान प्रधानाचार्य अरुण बाबू शर्मा एवं समस्त विद्यालय प्रशासन की लापरवाही के कारण छात्रों के अंकपत्र पर अंक नही आये। जिस पर सभी छात्र लगातार पांच दिन से धरना प्रदर्शन कर रहे है जिसके बाद भी कुंभकर्ण की नींद सो रहा शासन प्रशासन जागा नही है, अब यदि जल्द ही छात्रों के अंकपत्र पर अंक अंकित नही हुए तो सभी छात्र लखनऊ कूच कर मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंगे। छात्र शैलेश राजा ने बताया कि उत्तर प्रदेश की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला के आदेश को विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय नहीं मान रहे हैं। जिस आदेश में उत्तर प्रदेश की सचिव ने कहा है कि जिन छात्रों की अंक तालिका पर अंक प्रदर्शित नहीं है, वह किसी भी विद्यालय में उच्च शिक्षा के लिए प्रवेश ले सकते हैं लेकिन कुछ छात्र जब प्रवेश हेतु रजिस्ट्रेशन करवाने गए। तो विश्वविद्यालय के साइड पर रजिस्ट्रेशन नही हुआ क्योंकि जिन छात्रों की अंकतालिका पर अंक प्रदर्शित नही है वह प्रवेश के लिए आवेदन नही कर सकते। विश्वविद्यालय प्रशासन से पूछने पर बताया कि हमारे सभी महाविद्यालय में मेरिट के आधार पर प्रवेश किया जाता है इन छात्रों के प्रवेश की व्यवस्था हम नही कर सकते। छात्र दीपांशु कौशिक ने कहा कि स्नातक महाविद्यालय में प्रवेश के लिए रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 31 अगस्त है अगर 31 अगस्त के पहले पहले राजकीय इंटर कॉलेज के 877 छात्रों की अंक तालिका पर अंक प्रदर्शित नहीं किए गए तो 877 छात्रों की पूरी साल खराब हो जाएगी। छात्र अनुराग सिरोठिया ने कहा कि आगे के आंदोलन में छात्रों के साथ-साथ उनके अभिभावक भी शामिल होंगे। ऐसे में छात्रों के भविष्य के साथ लगातार खिलवाड़ हो रहा है छात्रों का भविष्य अंधकार में है विद्यालय व बोर्ड प्रशासन मिलकर छात्रों का मानसिक शोषण कर रहे है। इस दौरान शिवांश तिवारी, शुभम शुक्ला, विवेक मिश्रा, सौरभ रैकवार, अनुभव तिवारी, कपिल सेन, सुंदरम राठौर, अनुराग सिरौठिया, संस्कार कुशवाहा, दीपांशु कौशिक, शैलेश राजा, प्रिंस गोस्वामी, पीयूष चतुर्वेदी, शैलेस राजा, हम्मीर सिंह, भूपेंद्र, अखिलेश राजपूत, लवकुश राजपूत, सौरभ राजपूत, विशाल सिंह, विशाल नागल, रोहित कुशवाहा, राहुल यादव, धीरज साहू, साहिल राठौर, सुमित साहू, अजय राजपूत, हरिओम, धीरेंद्र, पीयूष, अवतार, संजय, अनुज, दिलीप, रोहित, पुष्पेंद्र, अमन मटके, शैलेष राजा, राजीव सिंह, काश्लेन्द्र राजा, रितिक यादव, विशेन्द्र यादव, सजत साहू, अंकित साहू, अमन राजा, कृष्णकांत राजपूत, अक्षय यादव, अंकित यादव, आनंद झा, पीयूष चतुर्वेदी, दीपांशु कौशिक, मनीष निरंजन, कपिल, योगेंद्र पस्तोर, विशाल, शिव कुमार, अजय पाल, आशीष निरंजन, विवेक राठौर, पवन कुमार, अभिषेक राठौर, योगेंद्र पाल, गौरव दीक्षित, सौरभ दीक्षित, धर्मेंद्र पाल, अवदेश दीक्षित, अमित कुमार, महेंद्र कुमार, केवल कुमार, अरविंद, करन सिंह, इकेश कुमार, दीपक साहू, नीतिनि प्रजापति, अरविंद सेन, अजीत सिंह, ऋषभ यादव, इंद्रजीत, निहाल कुशवाहा, मनोज, रामजी पाटकर, धर्मेंद्र कुशवाहा, अनिल राजपूत, राकेश अहिरवार, अमित कुमार, सत्यम राजपूत, रविन्द्र राजपूत आदि छात्र मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा