सभी पार्टियों का ब्राह्मण प्रेम, ब्राह्मणों के साथ छलावा, लोग कोरोना संकट और महंगाई से परेशान हैं लेकिन जुमलेबाज नेता वोट के लिए परेशान हैं – रिजवान अहमद

लखनऊ, कल दिनांक 03 अगस्त 021 को नागरिक एकता पार्टी के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव रिजवान अहमद का देवीपाटन मंडल का दौरा हुआ जिसमें पार्टी कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह फूल मालाओं से उनका स्वागत किया जिसमें प्रमुख रूप से गोंडा शहर में मंडल अध्यक्ष मो० हकीम तथा बहराइच जिलाध्यक्ष आबिद अली और बलरामपुर में प्रदेश महासचिव महेश कनौजिया ने स्वागत किया इसके बाद तुलसीपुर में आयोजित कार्यकर्ता सम्मलेन के दौरान चौधरी पंकज सिंह पटेल को 292 गैसड़ी विधानसभा का प्रभारी, फूल चंद को 291 तुलसीपुर का प्रभारी व प्रिंस सिंह पटेल को 302 सोहरत गढ़ का प्रभारी घोषित करने के बाद प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि आज मौजूदा सरकार में एक तरफ जहाँ जनता कोरोना काल से त्राही-त्राही कर रही है तो दूसरी तरफ आसमान छूती महंगाई से परेशान “एक तरफ कुआँ तो दूसरी तरफ खाई” ये मुहावरा बिलकुल फिट बैठता है जनता पर | एक तरफ राजनीतिक दल चुनाव जीतने के लिए जनता को मुख्य मुद्दों से भटकाकर धर्म और जाति-पात का सहारा लेकर वोट मांगते हैं तो दूसरी तरफ विकास के नाम पर मंहगाई सर पर लाद देते हैं जिससे जनता की स्थिति विकास के बजाय निर्धनता की तरफ तेजी से बढ़ जाती हैं लोगों के पास न तो रोजगार है न ही बेहतर शिक्षा व्यवस्था और न ही स्वास्थ्य सेवायें, हर जगह जुमले बाजी से लोगों का पेट भरा जा रहा है चुनाव सर पर आते ही कोई धर्म का सहारा लेगा तो कोई जाति का और ब्राह्मण सम्मलेन कराकर वोट का धूर्वीकरण किया जायेगा किसानों के समस्यों ज्यों की त्यों ही बनी हुई हैं | आज प्रदेश में अनुसूचित, पिछड़ों व मुसलामानों के अधिकार्रों का हनन व उत्पीड़न किया जा रहा है जिसका सामाजिक, धार्मिक व आर्थिक शोषण हो रहा है, आज पार्टी यह भी ऐलान करती है कि अनुसूचित, पिछड़ों व मुसलामानों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ हम सबका संघर्ष जारी रहेगा | इस सम्मलेन में प्रदेश महासचिव महेश कनौजिया, मंडल अध्यक्ष मो० हकीम, बहराइच जिलाध्यक्ष आबिद अली, सोहरतगढ़ विधानसभा प्रभारी प्रिंस सिंह पटेल, तुलसीपुर विधानसभा प्रभारी फूलचंद, गैसड़ी विधानसभा प्रभारी चौधरी पंकज सिंह पटेल व राम केवल आदि लोग मौजूद रहे |

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा