ललित लोकवाणी की केक काटकर मनाई 11वीं वर्षगाँठ

 







सामुदायिक बैठक कर रेडियो संचालन को लेकर हुयी चर्चा

ललितपुर। साई ज्योति संस्था द्वारा संचालित सामुदायिक रेडियो 90.4 एफ.एम. ललित लोकवाणी ने 11 वर्ष पूरे होने के अवसर पर सामुदायिक बैठक का आयोजन करके केक काटकर किया गया जिसमे कई गावों के साथियों ने प्रतिभाग किया। साई ज्योति संस्था के संचालक अजय श्रीवास्तव जी ने बताया कि आज रेडियो ललित लोकवाणी के 11 वर्ष पूरे होने के अवसर पर हम आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद देना चाहते हैं। 2010 मे आज ही के दिन प्रारम्भ हुआ रेडियो का सफर आज अपने 11 वर्ष पूर्ण कर चुका है। उन्होने कहा कि जब हमने रेडियो कि शुरुआत कि थी तो काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा, लेकिन सभी के सहयोग से सफलतए मिलती गई। इस सफर में समुदाय का साथ मिला, हमारे साथी अन्य सामुदायिक स्टेशनों का सहयोग, सरकारी गैर सरकारी संस्थाओं का सहयोग, हमारे मीडिया साथियो का सहयोग, इन सब के सहयोग के लिए साई ज्योति एवं रेडियो ललित लोकवाणी की पूरी टीम कि ओर से हम आप सभी को अपना आभार व्यक्त करते हैं और उम्मीद करते हैं की आगे भी इसी तरह हमें आप सबका सहयोग मिलता रहेगा। सामुदायिक बैठक मे उपस्थित लोगो को रेडियो स्टेशन के प्रबंधक पंकज तिवारी ने बताया की भारत मे कोरोना वायरस के खिलाफ जंग जारी है, और टीकाकरण किया जा रहा है, टीके की विश्वसनीयता को लेकर कई तरह की भ्रान्तियाँ फैलाई जा रही है, इससे कई लोग टीका लगवाने से डर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ये बात सही है कि किसी भी नई चीज को लेकर मन में संशय होना स्वाभाविक है, आज कोरोना वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में जैसा संशय है एक समय यही बात टिटनेस और पोलियो के टीके को लेकर भी थी। परन्तु आज हमें महसूस होता है की टिटनेस, पोलियो और अन्य जानलेवा बीमारियों पर विजय हमने सघन टीकाकरण अभियान चलाकर ही पाई है. उन्होंने उपस्थित लोगों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि कोरोना से बचाव मे जो वैक्सीन दी जा रही है वे पूरी तरह सुरक्षित हैं, आप किसी प्रकार के भ्रम और अफवाहों पर ध्यान ना दे, और जब भी आप की बारी आए कोरोना वैक्सीन का टीकाकरण अवश्य लगवाए है। इस कार्यक्रम मे रामशंकर, राकेश, ओमशंकर, ग्राम प्रधान मनोज कुमार, आलालपुर के महेंद्र प्रताप सिंह बुन्देला आलपुर, साई ज्योति संस्था से रमन शर्मा, रमेश श्रीवास्तव, ब्रषभान सिंह, ललित लोकवाणी के स्टेशन प्रबंधक पंकज तिवारी सामुदायिक रिपोर्टर काशीराम, राम कुमारी रचना आदि उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा