आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड के लिए लगेंगे विशेष शिविर

 





ललितपुर। उत्तर प्रदेश में हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने में जुटी योगी सरकार सभी तरह की स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ाना चाहती है। आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड की सुविधा अधिक से अधिक पात्र जरूरतमंदों तक पहुंचाने के लिए कसरत तेज कर दी गई है। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अधिकारी सहायक श्रम आयुक्त संजय कुमार सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि मेहनत व मजदूरी करने वाले श्रमिकों का भी आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज होगा। श्रम विभाग में पंजीकृत सभी श्रमिकों व उनके परिवार के लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा। इसके लिए छह सितंबर से जिला मुख्यालय पर विशेष कैंप लगाए जाएंगे। श्रम प्रवर्तन अधिकारी दामोदर प्रसाद अग्रहरि ने बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्नमिार्ण कर्मकार कल्याण बोर्ड में पंजीकृत श्रमिकों व उनके परिवार के सदस्यों का आयुष्मान कार्ड (गोल्डन कार्ड) बनाए जाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाना है। बोर्ड में पंजीकृत श्रमिकों का कार्ड मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के तहत गोल्डन कार्ड बनाया जाना है। मुख्यमंत्री द्वारा योजना के तहत श्रमिकों को लाभांवित कराए जाने की घोषणा पूर्व में ही की गई थी। प्राथमिकता के आधार पर अब इन पंजीकृत श्रमिकों व उनके परिवार का कार्ड बनाए जाने के लिए यह विशेष अभियान चलाया जा रहा है। कार्ड बनाने के लिए जनपद मुख्यालय पर कैंप का आयोजन किया जाएगा। श्रमिकों व उनके परिवार के सदस्यों को कैम्प तक लाने की जिम्मेदारी श्रम विभाग की होगी। जो भी लाभार्थी कैंप में आएगा उसे अपने साथ पहचान के तौर पर आधार कार्ड राशन कार्ड, श्रम पंजीयन परिवार रजिस्ट्रेशन नकल व अन्य पहचान के मान्य प्रमाण पत्र और लाना अनिवार्य है। राशन कार्ड में परिवार के जिन सदस्यों का नाम होगा, उनका आयुष्मान कार्ड बनाया जाएगा। श्रम विभाग द्वारा कैम्प का आयोजन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र महरौनी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिरधा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जखौरा समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तालबेहट समुदायिक समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बार, स्वास्थ्य केंद्र मडावरा विकास भवन परिसर में किया जाएगा, जहां पर लाभार्थियों के लिए बिजली, पानी व बैठने की समुचित व्यस्था होगी। श्रम विभाग द्वारा लाभार्थियों की सूची तैयार कराई जा रही है। कैम्प में कार्ड बनाए जाने की व्यवस्था कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि जो भी श्रमिक पंजीकृत हैं, उन्हें चाहिए कि वह नियत तिथि व स्थान पर पहुंचकर अपना व अपने परिवार का कार्ड अवश्य बनवाएं।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि