देश व समाज के निर्माण में शिक्षकों की अहम भूमिका - केशव प्रसाद मौर्य


लखनऊः दिनांक: 05 सितम्बर, 2021

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्या ने आज दुर्गा पार्क, पनकी, कानपुर नगर में जनपद कानपुर नगर की लोक निर्माण विभाग, राजकीय निर्माण विभाग एवं सेतु निगम की विभिन्न परियोजनाओं एवं सड़को ,जिनकी लम्बाई 240 किमी0 एवं लगभग 200 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। इसके साथ ही उन्होंने जनपद कानपुर नगर की लगभग 300 करोड रुपये की नई बडी परियोजनाओं के निर्माण कार्याे की घोषणा की। जिसके अन्तर्गत गंगा बैराज-शुक्लागंज पुरवा मोहन लालगंज सड़क को स्टेट हाइवे घोषित कर चार लेन सड़क बनाने हेतु 175 करोड़, लखनऊ-कानपुर रेल मार्ग पर जयपुरिया स्कूल क्रासिंग पर आर0ओ0बी0 60 करोड की लागत से, झांसी-कानपुर रेल मार्ग पर दादानगर में एक उपरगामी सेतु 48 करोड 55 लाख तथा उन्नाव से गंगा बैराज पार सैरईया क्रासिंग पर फोरलेन उपरगामी सेतु 79 करोड की लागत से बनाया जायेगा। उन्होंने अर्मापुर में बनाये गये पुल का नामकरण गणेश शंकर विद्यार्थी के नाम किये जाने हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।
शिक्षक दिवस के अवसर पर उन्होंने गुरुओं को प्रणाम करते हुये कहा कि गुरु के बिना शिष्य अधूरा है। विकास के लिये शिक्षा जरुरी है और शिक्षा के लिये शिक्षक का होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि केन्द्र में मा0 प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में व प्रदेश में मा0 मुख्यमंत्री  के नेतृत्व में अनेकों उल्लेखनीय विकास कार्य किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में माफियाओं के विरुद्ध अभियान चलाकर व लगाम लगाकर कानून व्यवस्था को दुरस्त किया गया है, जिसके कारण प्रदेश में औद्योगिक निवेश तेजी से हो रहा है। प्रदेश में अन्य प्रदेशों के उद्यमी उद्योग स्थापित कर रहे है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने साढे चार साल में प्रदेश में अभूतपूर्व विकास कार्य कर नये कीर्तिमान स्थापित किये है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में केन्द्र सरकार के सहयोग से पूर्वांचल एक्सप्रेसवे, गंगा एक्सप्रेसवे, बुन्देलखण्ड एक्सप्रेसवे का निर्माण कर रही है। उन्होंने कहा कि कानपुर से प्रयागराज की सड़क भी चारलेन से छःलेन बनायी जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार सबका विकास, सबका विश्वास, सबका साथ, सबका सम्मान के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बरसात के उपरान्त खराब हुयी सडको को 15 सितम्बर से 15 नबम्वर, 2021 तक विशेष अभियान चलाकर सड़को की मरम्मत कर गढ्ढामुक्त बनाने का कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि गांव की सड़को को जिला मुख्यालय की सड़को से जोडा जायेगा। इसके साथ ही सड़को की इन्टरस्टेट कनेक्टीविटी देने का कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अर्न्तराष्ट्रीय स्तर पर उपलब्धि हासिंल करने वाले खिलाड़ियों के गांव तक मेजर ध्यान चन्द्र के नाम से सड़क बनाये जाने का कार्य किया जा रहा है तथा वीर शहीद जवानों के गांव तक जयहिन्द वीर पथ नाम से सड़क तथा  हाई स्कूल व इण्टर के टाप 20 छात्र /छात्राओं के गांव तक डा0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम के नाम से सड़को का निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ ही हर्बल मार्ग भी बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कानपुर महानगर उ0प्र0 का सबसे बडा महानगर है और इस महानगर का समग्र विकास किया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत अनेको सड़को, पुल का निर्माण कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सड़कों का महाजाल बिछाया जा रहा है बड़ी तादाद में रिंग रोड बाईपास आर ओ बी 1 नदी सेतु का निर्माण किया जा रहा है यही नहीं सोशल सेक्टर की अनेकों योजनाओं के तहत पात्र लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है, इससे पूर्व उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों क्रमशः श्रीमती वीना चौधरी, श्रीमती एकता यादव, ले0क0 श्री गोपाल सिंह, श्री सुन्दर लाल समुद्रे, श्री अनुराग राणा के साथ शिक्षक रहे एम0एल0सी0 श्री अरुण पाठक व विधायक श्री उपेन्द्र पासवान को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया।
कार्यक्रम में केबिनेट मंत्री श्री सतीश महाना ने संबोधित करते हुये कहा कि प्रदेश में साढे चार वर्षाे से विकास की गति को तेज कर विकास कार्य किये जा रहे है। सड़को को गढ्ढायुक्त से गढ्ढामुक्त करने व नयी सड़के बनाने का कार्य किया गया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में एक लाख बीस हजार गढ्ढामुक्त सड़को की मरम्मत कर उन पर नयी सड़क बनाने का कार्य किया गया है। उन्होंने कहा कि कानपुर महानगर में लोक निर्माण विभाग की सड़को के साथ ही 200 सड़के नगर निगम क्षेत्र की भी लोक निर्माण विभाग द्वारा बनायी गयी है। कार्यक्रम में सांसद श्री देवेन्द्र सिंह भोले व महापौर, श्रीमती प्रमिला पाण्डेय ने भी जनपद में कराये गये विभिन्न विकास कार्याे के संबंध में जानकारी दी।
इस अवसर पर एम0एल0सी0 श्री अरुण पाठक व विधायकगण श्री सुरेन्द्र मैथानी, श्री उपेन्द्र पासवान, श्री भगवती प्रसाद सागर, श्री अभिजीत सिंह सांगा सहित  श्री सुनील बजाज, श्रीमती वीना आर्या सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि