टीम मिशन बेटियाँ ने स्कूली बच्चों के साथ मनाया विश्व हिंदी दिवस

टीम मिशन बेटियाँ ने स्कूली बच्चों के साथ मनाया विश्व हिंदी दिवस


 

बच्चों ने हिंदी के महत्व को समझा जाना और अपनी कला के माध्यम से उकेरा भी
ललितपुर। टीम मिशन बेटियाँ ने हिंदी दिवस के महत्व को स्कूली बच्चों को समझाया और बताया बच्चों ने एकाग्रता के साथ वक्ताओं की बात को समझा टीम मिशन बेटियाँ ने आर्ट पेपर बच्चों को वितरित किये ओर बच्चों को हिंदी के प्रति उनकी भावनाओं को आर्ट पेपर पर उकेरने के लिए कहा। बच्चों ने अपनी तूलिका के माध्यम से अपने उन्मुक्त मन से हिंदी दिवस पर सुंदर सुंदर चित्रों को आर्ट पेपर पर उकेरा। टीम मिशन बेटियाँ के प्रदेश संयोजक जाकिर खान ने अपने विचारों को बच्चों के सम्मुख रखा उन्होंने बताया कि भारत की मातृभाषा हिंदी आज पूरी दुनिया में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में से एक है। देश में हर साल 14 सितंबर को 'हिंदी दिवसÓ मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था। इसके बाद देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने इस दिन को महत्व देते हुए 14 सितंबर को 'हिंदी दिवसÓ के रूप में मनाने की घोषणा की। शिक्षिका प्रतिभा यादव ने बताया कि हिंदी भाषा को देवनागरी लिपि में भारत की कार्यकारी और राजभाषा का दर्जा आधिकारिक रूप में दिया गया। गांधीजी ने हिंदी भाषा को जनमानस की भाषा भी कहा है। भारतीय संविधान के भाग 17 के अध्याय की धारा 343 (1) में हिंदी को संघ की राजभाषा का दर्जा दिया गया है। भारत में 1949 से हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाता है। कार्यक्रम में टीम मिशन बेटियाँ के प्रदेश संयोजक जाकिर खान, झांसी मण्डल संयोजक मुनीर इस्माइली, जिला संयोजक उर्वशी साहू, सीमा जैन, तारा देवी, नंदनी, आदर्श रावत, शाकिर खान उपस्थति रहे। कार्यक्रम के अंत मे जिला संजोयक श्रीमति उर्वशी साहू ने पू. मा. विद्यालय पनारी, प्राथमिक विद्यालय इंग्लिश मीडियम पनारी, पू.मा.विद्यालय रघुनाथपुरा के बच्चों एवम समस्त स्टाप का आभार व्यक्त किया। भारती, आयुषी, सोनम, कामना, कुमकुम, पूनम, यशिका साहू, शैलू, रचना अहिरवार, द्रोपती, नीरज, राजपाल, शिवम, अरमान, महेंद्र एवम अन्य बच्चों ने कार्यक्रम में सहभागिता कर कार्यक्रम को सफल बनाया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

मंगलमय हो मिलन तुम्हारा

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?