ललितपुर में तीरंदाजी संघ की स्थापना

 







प्रदेश अध्यक्ष को भेजा ज्ञापन

ललितपुर। जनपद ललितपुर में लम्बे समय से तीरंदाजी संघ की स्थापना को लेकर शासन से निरंतर मांग की जाती रही है। इस पहल को आगे बढ़ाने में नेहरू महाविद्यालय के प्राचार्य ने बीड़ा उठाया। शासन से निरंतर विचार विमर्श एवं पत्राचार किया गया। शासन ने हमारी इस प्रतियोगिता के प्रति रूझान, उत्साह एवं कार्य प्रणाली को देखकर प्रदेश अध्यक्ष अवनीश कुमार अवस्थी आईएएस ने उत्तर प्रदेश तीरांदाजी संघ ने पर्यवेक्षक के रूप में योगेन्द्र राणा संयुक्त सचिव उ.प्र. तीरांदाजी संघ को ललितपुर जनपद भेजा और उन्होंने जनपद में तीरंदाजी प्रतियोगियो से सम्बन्धित उपकरणों, मैदानों का निरीक्षण कर 12 सितम्बर 2021 को संघ का गठन किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उ.प्र. सरकार ने प्रदेश में केवल दो जनपदों को तीरदांजी संघ की स्थापना हेतु स्वीकृति दी, जिसमें सोनभद्र एवं ललितपुर जनपद शामिल है। इस मौके पर नेमवि प्राचार्य डा.अवधेश अग्रवाल ने कहा कि यह हमारे जनपद का सौभाग्य है कि जनपद में तीरंदाजी संघ की स्थापना की गई। उन्होंने कहा कि बुंदेलखण्ड विश्वविद्यालय झांसी द्वारा इस प्रतियोगिता को कराने का दायित्व नेहरू महाविद्यालय को दिया था जिसमें विभिन्न महाविद्यालयों के प्रतिभागियों ने उत्कृष्ट प्रदर्शन कर प्रतियोगिता के प्रति अपने लगन व रूचि को प्रदर्शित किया था। मुझे आशा है कि संघ की स्थापना के बाद जनपद में उत्कृष्ट खिलाड़ी इस प्रतियोगिता में चयनित होकर महाविद्यालय, विश्वविद्यालय व प्रदेश को गौरान्वित करेंगे। नेमवि क्रीड़ाधिकारी डा.अनिल सूर्यवंशी ने बताया कि तीरंदाजी संघ की स्थापना होने से जनपद ललितपुर के छात्र/छात्रायें ओपेन तीरदांजी प्रतियोगिता राज्य स्तरीय, राष्ट्रीय प्रतियोगिता में हो सकेंगे और राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर जो सुविधायें मिलेंगी संघ द्वारा छात्र/छात्राओं को सभी सुविधाओं मुहैया करायी जा सकेंगी। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि तीरदांजी संघ के गठन में संरक्षक मण्डल में नेमवि प्राचार्य डा.अवधेश अग्रवाल, जिला क्रीड़ाधिकारी रेखा रावत, अध्यक्ष प्रदीप चौबे प्रबंधक नेहरू महाविद्यालय, उपाध्यक्ष प्रदीप जैन, सचिव डा.अनिल सूर्यवंशी एसो.प्रो. नेमवि, सह सचिव राजेन्द्र सिंह बुंदेला पूर्व राष्ट्रीय खिलाड़ी, कोषाध्यक्ष सौरभ के अलावा सदस्यों में सुनील राजपूत, जुनैद रजा, अभिषेक कुमार आदि शामिल किए गए है। इस अवसर पर डा.सुधाकर उपाध्याय, डा.संजीव शर्मा, डा.सुभाष जैन, डा.ओ.पी.चौधरी, डा.राजेश तिवारी, डा.बलराम द्विवेदी, डा.अवनीश त्रिपाठी, डा.शैलेन्द्र सिंह चौहान, डा.पराग कुमार, फहीम बख्श, रवि कुमार, भरत सिंह, मिलन, राकेश प्रजापति, तरूण धोते, हर्षित झा, रवि चंद्रवंशी, गुलशन नामदेव, अमन धौलिया, हर्षित झा, पुनीत गौर, अनुष्का शर्मा, संस्कृति वैद्य आदि उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि