वृक्ष हमारे जीवन में बहुउपयोगी है : जिलाधिकारी




इन्टैक के वृक्षारोपण अभियान के अन्तर्गत 60 हजार पौधे रोपे गये

ललितपुर। इन्टैक ललितपुर चैप्टर के एक लाख वृक्षारोपण अभियान के अन्तर्गत विरधा ब्लाक के ग्राम ऐरावनी में जिलाधिकारी  ने पौधारोपण कर अभियान को गति दी। अभियान में जानी मानी समाजसेवी संस्था साई ज्योति संस्थान के सहयोग से क्षेत्र के 20 गॉव में 60 हजार पौधे रोपे गये। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि वृक्ष हम सभी के जीवन में बहुउपयोगी हैं जो हमको शु़द्ध प्राणवायु आक्सीजन प्रदान करते हैं। कोरोना महामारी के समय जिस तरह से समूचे देष को आक्सीजन की कमी से दो-चार होना पड़ा उसने वृक्षों के महत्व को समझाया है। जिलाधिकारी ने उपस्थिति जनों का आवाहन करते हुये कहा हम सभी को प्रतिवर्ष 10 पौधे लगाना चाहिये। जनपद ललितपुर में वनों की अधिकता के चलते ही बारिस अन्य जनपदों से अच्छी होती है। हमें इन वनों जंगलों को बचाना है और अधिक से अधिक पेड लगाना है जिससे हम आने वाली पीढियों के स्वास्थ्य के लिये अच्छा वातावरण दे सकें। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने विभिन्न सरकारी योजनाओं और विकास कार्यों की जानकारी लोगों को दी। उन्होंने बताया कि कैसे आप सभी सरकार की आवासीय योजना, मनरेगा, षिक्षा, स्वास्थ्य एवं राषन वितरण प्रणाली का अधिक से अधिक लाभ ले सकते हैं। कहा कि सरकार द्वारा ललितपुर को विकास के नये पथ पर ले जाने के लिये हवाई अड्डे, बॉटनीकल पार्क, मेडीकल कालेज आदि की स्वीकृति देकर विकास के नये आयाम से जोडा जा रहा है। जिलाधिकारी द्वारा साई ज्योति संस्थान एवं इन्टैक ललितपुर चैप्टर द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की। इंटैक संयोजक सन्तोष कुमार शर्मा ने कहा कि इन्टैक अपनी धरोहरों, संस्कृति के संरक्षण, पर्यटन विकास एवं पर्यावरण संरक्षण के लिये अपनी कारगर भूमिका निभा रहा है। इसके लिये संस्था द्वारा निरंतर जागरूकता अभियान भी चलाया जाता है। इंन्टैक ललितपुर ने जनपद की धरोहरों और पर्यटन स्थलों का प्रचार प्रसार विष्वभर में किया है तथा 25 लाख लोगों को जागरूक भी किया है। आज इन्टैक के इस अभियान में युवा अपनी सक्रिय भागीदारी निभा रहे है।  में वरिष्ठ पत्रकार मनोज पुरोहित, ग्राम प्रधान कमला रायक्वार, प्रधानाध्यापिका कल्पना शर्मा, ग्राम विकास अधिकारी मेनका श्रीवास्तव, प्रधान प्रतिनिधि अर्जुन रायक्वार, अध्यापक रीतेष तिवारी, रामबाबू विष्वकर्मा, उमेष बमरौला, निषान्त देव खैरा, भारती चौरसिया, ज्योत्स्ना विष्वकर्मा, रूबी जैन, थानाध्यक्ष पाली समेत तमाम ग्रामीण उपस्थित रहे। कार्यकम के अन्त में साई ज्योति संस्था के रमन शर्मा द्वारा आभार व्यक्त किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि