प्रशिक्षण शिविर में दूसरे दिन कार्यकर्ता प्रदेश में लोकतंत्र बचाने की जंग लड़ रहे:— प्रियंका गांधी



==================== उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले श्रृखलाबध तरीके  से

  तैयारी में लगी हुई है। पार्टी की ओर से प्रदेश में प्रशिक्षण शिविर लगाए जा रहे हैं ।  आज प्रयागराज जनपद दूसरे दिन प्रशिक्षण शिविर मे प्रियंका गांधी वचुअॅल उपस्थित रही पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रशिक्षण शिविर में आए नेता और कार्यकर्ताओं से कहा कि कार्यकर्ता प्रदेश में लोकतंत्र बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। शनिवार को जिला शहर कांग्रेस कमेटी की ओर से प्रशिक्षण शिविर लगाया गया। शहर में हाइकोर्ट स्थित निजी गेस्ट हाउस में तो यमुनापार में मेजा रोड स्थित निजी होटल में नेताओं को कैम्प लगाकर प्रशिक्षित किया गया। कांग्रेस की ओर से उत्तर प्रदेश में प्रशिक्षण से पराक्रम महाभियान के तहत 700 ट्रेनिंग कैंप लगाए जा रहे हैं। पार्टी के ट्रेनिंग कैंप के जरिए 2 लाख पदाधिकारियों को प्रशिक्षित करने का महाभियान चल रहा है।

उत्तर प्रदेश के अब तक 63 जिलों में जिला स्तरीय प्रशिक्षण पूरा हो चुका है। ट्रेनिंग कैंप के दौरान पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि कार्यकर्ता प्रदेश में लोकतंत्र बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। प्रदेश के हर छोटे-बड़े मुद्दे पर कांग्रेस लड़ाई लड़ रही है। प्रशिक्षण शिविर में डिजिटल माध्यम से शामिल हुईं प्रियंका ने  संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने का उद्देश्य चुनाव से पहले प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं की।सेना तैयार करना है। प्रियंका ने कहा (कार्यकर्ता) सब गांव-गांव गए और कांग्रेस का संदेश पहुंचाया,अब आपको बार-बार जनता के बीच जाते रहना है। जिलाध्यक्ष अरुण तिवारी ने बताया कि प्रशिक्षण शिविर में बूथ प्रबंधन, सोशल मीडिया के बेहतरीन उपयोग, कांग्रेस की विचारधारा, भाजपा और आरएसएस का सच जैसे गहन मुद्दों पर गंभीर चर्चा की गई। जिला प्रभारी वसीम अंसारी ने कहा कि वार्ड अध्यक्ष, ब्लॉक अध्यक्ष, न्याय पंचायत अध्यक्षो की ग्यारह सदस्यों की कमेटी तैयार की जा रही है। इस बार चुनाव प्रत्याशी नहीं बल्कि आम कार्यकर्ता हर बूथ पर दमदारी से लड़ेगा और भाजपा को कड़ी चुनौती देगा। जिला कांग्रेस प्रवक्ता हसीब अहमद ने बताया कि शिविर में 323 नेता और पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रशिक्षण हासिल किया। 


इस दौरान: जिलाध्यक्ष अरुण तिवारी, नफीस अनवर, वसीम अंसारी, हसीब अहमद, विवेक पाण्डेय, मंजू संत, तस्लीम उद्दीन, अल्पना निषाद, डॉ दिनेश सोनी, फुजैल हाशमी, रामछबीले मिश्रा, मो०हसीन, सुनील पटेल, अतुल तिवारी, शकील अहमद, राजीव पाण्डेय, दरख्शा कुरैशी, रंजन प्रजापति, सिब्बतैन बब्लू समेत आदि लोग शामिल हुए।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि