छात्रों पर लाठीचार्ज के खिलाफ छात्रसभा ने किया प्रदर्शन

 







छात्रों पर लाठीचार्ज के खिलाफ छात्रसभा ने किया प्रदर्शन
जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजकर उठायी कार्यवाही की मांग
ललितपुर। इण्टरमीडियट परीक्षा परिणाम वर्ष 2021 के परीक्षार्थियों के अंक पत्र में अंक प्रदर्शित न होने को लेकर प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस द्वारा बर्बतापूर्ण तरीके से किये गये लाठीचार्ज के खिलाफ समाजवादी छात्रसभा ने एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। ज्ञापन में बताया कि उत्तर प्रदेश की इण्टरमीडियट में अध्यनरत समस्त छात्रों को उत्तर प्रदेश वोर्ड द्वारा प्रमोट किया गया है जिसमें बोर्ड द्वारा तयमानक के अनुसार पिछले वर्षों एवं प्री बोर्ड के प्रदर्शन के अनुसार सभी छात्रों को अंक दिये गये है। लेकिन राजकीय इण्टर कॉलेज ललितपुर के 877 छात्रों के अंक तालिका पर कोई भी अंक प्रदर्शित नहीं हुये है। सिर्फ प्रमोट प्रदर्शित हो रहा है। जिसका कारण यह है कि बोर्ड द्वारा पूर्व में प्रत्येक इण्टरमीडियट कॉलेजो से छात्रो के पिछले वर्ष एवं प्री बोर्ड परीक्षा के प्रदर्शन अंक मांगे गये थे। लेकिन राजकीय इण्टर कॉलेज ललितपुर प्रधानाचार्य एवं प्रशासन की लापरवाही से छात्रो के अंक बोर्ड को प्रस्तुत नहीं कराये गये । जिस कारण छात्रो को बहुत ही विकट परेशानियों का सामना करना पड़ रहा। सभी छात्रो को विश्व विद्यालय में प्रवेश हेतु रजिस्ट्रेशन के लिये आवेदन करना है। जो कि बिना अंको के सम्भव नहीं है। ऐसे में छात्रो का भविष्य अंधकार में है। विश्व विद्यालय में रजिस्ट्रेशन न होने के कारण तमाम छात्रो की आगे की शिक्षा बधित हो रही है। उन्होंने बताया कि शांन्ति पूर्वक बच्चे अपनी बात जिला प्रशासन से रख रहे तभी पुलिस प्रशासन द्वारा छात्रो के ऊपर लाठी चार्ज की गई। जिसका संगठन घोर निन्दा करता है। इस प्रकरण की मजिस्ट्रेट जॉच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही कराये जाने की मांग उठायी गयी। कहा गया कि अतिशीघ्र समस्त 877 छात्रो के अंकतालिका पर अंकित किये जावे जिससे विद्यार्थीयो का भविष्य बर्वाद होने से बचाया जा सके एवं राजकीय इण्टर कॉलेज के प्रशासन पर छात्रो के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का प्रकरण दर्ज किया जाये। अन्यथा की स्थिति में समाजवादी छात्र सभा आंदोलन के लिये बाध्य होगी। जिसका जिम्मेदार राजकीय इण्टर कॉलेज ललितपुर होगा। ज्ञापन देते समय जिलाध्यक्ष सत्येन्द्र सिंह यादव सेतू, राजेश यादव, महेन्द्र सिंह यादव, ज्योति सिंह लोधी, गिरधारी यादव, विनोद रायकवार, नैपाल यादव, मु.निजाम शाह, नमन कुशवाहा, राज राठौर, आशीष कुमार, आदित्य यादव, पीयूष चतुर्वेदी, सिद्धार्थ जैन, गोलू यादव, यशराज, सत्यम साहू के अलावा अनेकों पदाधिकारी मौजूद रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि