विभिन्न फसलों के पचास फीसदी उत्पादन की मिली स्वीकृति



ललितपुर। जिलाधिकारी अन्नावि दिनेश कुमार की अध्यक्षता में विभिन्न औद्यानिक विकास योजनाओं के अन्तर्गत संचालित कार्यक्रमों की अनुमोदनार्थ बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें जिलाधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि जिला औद्यानिक मिशन योजनान्तर्गत पपीता उद्यान रोपण 3 हेक्टेयर, अमरूद उद्यान रोपण 10 हेक्टेयर, ड्रैगन फ्रूट उद्यान रोपण 1 हेक्टेयर, संकर सब्जी उत्पादन 25 हेक्टेयर, पुष्प उत्पादन-गेंदा खेती 8 हेक्टेयर, मसाला क्षेत्र विस्तार 50 हेक्टेयर में उत्पादन हेतु स्वीकृति प्रदान की गई। जिलाधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि इस वर्ष प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजनान्तर्गत ड्रिप सिंचाई पद्धति से 118 हेक्टेयर एवं स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति से 3752 हेक्टेयर क्षेत्रफल को आच्छादित किये जाने का लक्ष्य निर्धारित है। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजनान्तर्गत हल्दी प्रसंस्करण हेतु 21 नवीन खाद्य प्रसंस्करण इकाईयों एवं अन्य प्रसंस्करण क्षेत्र में कार्यरत 51 पुरानी खाद्य प्रसंस्करण इकाईयों के जीर्णोद्धार हेतु लक्ष्य प्राप्त हुये है। इस योजनान्तर्गत कुल परियोजना लागत का 35 प्रतिशत अनुदान के तहत दिया जायेगा एवं 3 प्रतिशत सब्सिडी ब्याज पर खाद्य प्रसंस्करण उद्योग नीति-2017 के तहत प्रदान की जायेगी। जनपद के जो भी इच्छुक उद्यमी किसान इस योजना का लाभ लेना चाहते है वे भारत सरकार की बेवसाइट पर अपना पंजीकरण करा सकते है पंजीकरण में किसी भी प्रकार की समस्या होने पर जिला उद्यान अधिकारी कार्यालय में सम्पर्क करें। बुन्देलखण्ड एवं विन्ध्य क्षेत्र में औद्यानिक विकास योजनान्तर्गत जनपद द्वारा 150 हेक्टेयर में नवीन उद्यान रोपण हेतु प्रस्तावित लक्ष्य निदेषालय को भेजे गये है। जल्द ही स्वीकृति प्राप्त होने की सम्भावना है। राष्ट्रीय कृषि विकास योजनान्तर्गत पान विकास कार्यक्रम में जनपद हेतु 26 प्रस्तावित लक्ष्य प्राप्त हुये है जिसमें प्रति बरेजा 1000 वर्गमीटर निर्माण 50453 का अनुदान अनुमन्य है। जिलाधिकारी द्वारा जिला उद्यान अधिकारी को निर्देशित किया गया कि जनपद में च्डज्ञैल् योजनान्तर्गत ड्रिप एवं स्प्रिंकलर कार्यक्रम का लाभ किसानों को कलस्टर में देने का प्रयास करें ताकि ज्यादा से ज्यादा किसानों को लाभ प्रदान किया जा सके और अधिकतर क्षेत्रफल को आच्छादित किया जा सके जिससे भारत सरकार की यह योजना जनपद में मॉडल के रूप में ऊभर कर आये। जिलाधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि उपरोक्त योजनान्तर्गत लाभ प्राप्त करने हेतु उद्यान विभाग के डी.बी.टी. पोर्टल पर अपने नजदीकि जनसेवा केन्द्र पर जाकर ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते है। आनलाईन पंजीकरण में किसी भी तरह की समस्या आने पर श्री शालिगराम निरंजन मो.नं.-9415946855 से सम्पर्क किया जा सकता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि