जीआईसी के छात्रों का टूटा सब्र का बांध घंटाघर पर किया चक्का जाम






जनपद ललितपुर  में छात्रों के  जीवन के साथ खिलवाड़ हो रहा है खिलवाड़ का स्तर चाहे उच्च शिक्षा हो चाहे माध्यमिक शिक्षा लगातार छात्रों के भविष्य के साथ मजाक किया जा रहा है पूर्व में प्रशासन के आश्वासन के साथ छात्रों की उम्मीद टिकी थी परंतु  फिर एक बार  पानी फिरता नज़र आया जीआईसी इंटरमीडिएट के छात्र लगातार धरना प्रदर्शन व प्रशासन  विधायक मंत्रीगणों को देते रहे ज्ञापन लेकिन फिर भी कहीं से सहयोग छात्रों को प्रदान नहीं हुआ राजकीय इंटर कॉलेज के छात्रों ने प्राचार्य पर अंकसूची इलाहाबाद बोर्ड कार्यालय को न भेजने का और अपनी गलती छुपाने के लिए लगातार छात्रों को गुमराह करने का आरोप लगाते हुए कहा अब जब उच्च शैक्षिक संस्थानों के प्रवेश की तिथि आ गई है तो  पुनः इंटरमीडिएट की परीक्षा कराने के लिए परीक्षा फार्म भरकर परीक्षा में सम्मिलित होने का दबाव बनाया जा रहा था पूर्व में छात्रों ने माध्यमिक शिक्षा मंत्री डॉ दिनेश शर्मा जी को भी पत्र भेज कर अपनी गुहार लगाई थी परंतु वहां से भी सिर्फ आश्वासन ही मिला , इसी क्रम में आज 877 छात्रों ने घंटाघर पर चक्का जाम कर प्रशासन को अपनी समस्या पर ध्यानआकर्षित कराया वही ललितपुर सदर एसडीएम ने छात्रों को आश्वासन देते हुए कहा है कि आपकी समस्या का निवारण जल्द से जल्द होगा असल में छात्रों की वास्तविक समस्या यह है कि  जीआई सी इंटरमीडिएट के छात्रों के प्री बोर्ड के अंक बोर्ड में ना भेजे जाने के कारण उनकी फाइनल अंक तालिका में उनके अंक प्रस्तुत नहीं हो रहे हैं जिस कारण छात्रों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है  जिले की अन्य माध्यमिक विद्यालयों में छात्रों की अंक तालिका पर दर्शाए गए हैं जिससे उन छात्रों का प्रवेश विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों में सुगमता से हो जा रहा है परंतु राजकीय इंटर कॉलेज के छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है जिसके चलते छात्र आंदोलनरत हैं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि