बमनगुवां विद्यालय में नहीं पहुंच रहे शिक्षक


ललितपुर। शिक्षा के मंदिर में बच्चों के भविष्य से लगातार हो रहे खिलबाड़ के खिलाफ अब ग्रामीण लामबंद हो गये हैं। कस्बा तालबेहट के ग्राम पंचायत धनगौल के ग्राम बमनगुवां का है। यहां शिक्षकों के विद्यालय न आने और प्रशासन को गुमराह करते हुये बच्चों की संख्या अधिक दिखाये जाने का आरोप लगाया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि इस विद्यालय में बच्चे ही शिक्षक कि भूमिका निभा रहे हैं। तीन स्टाफ होने के बाबजूद एक भी टीचर स्कूल में मौजूद नहीं होते। बताया कि विद्यालय में 11 बजे के बाद भी शिक्षक विद्यालय नहीं पहुंचते। जानकारी करने पर बताया जाता है कि तीनों शिक्षको में से कभी एक आता है तो कभी एक पर समय पर आज तक कोई नहीं पहुंचता।बच्चो ने कहा जब तक उनका मन लगता तब तक पड़ते है फिर खुद स्कूल का ताला लगा कर छुट्टी कर लेते है  इस बारे में गांव के लोगो से जानकारी ली तो उन्होंने भी बताया कि जो प्राथमिक विद्यालय के हैड मास्टर पंकज पाठक यह पिछले दो तीन साल में चार बार सस्पेंड हो चुके हैं इसके बाद भी तीनों शिक्षक बराबर बच्चो की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहै हैं।इस विद्यालय के विषय में कई बार जिला प्रशासन को अवगत करा दिया गया है फिर भी जिला प्रशासन अब तक मौन है। बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि यदि टाइम टेबल से विद्यालय सुचारू रूप से नहीं चलता है तो घंटाघर ललितपुर पर अनशन करने को मजबूर होंगे। 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि