महंत अवैद्यनाथ ने हिन्दुत्व का गौरव बढाया : रामरतन कुशवाहा

 राम मंदिर की पुरोधा थे स्वर्गीय अवैध नाथ जी महाराज-  मनोहर लाल पंथ




विश्व हिन्दू महासंघ ने सामाजिक समरसता दिवस पर दी श्रद्धान्जलि
ललितपुर। विश्वहिन्दू महासंघ ने राष्टसंत व्रहमलीन महंत अवैद्यनाथ के समाधिदिवस को सामाजिक समरसता दिवस के रूप में मनाते हुए उनको श्रद्धान्जलि अर्पित की और कहा उन्होने हिन्दुत्व का गौरव बढाया। स्थानीय घंटाघर चौक नगरपालिका परिसर प्रांगण में कार्यक्रम का शुभारम्भ विधायक सदर रामरतन कुशवाहा ने करते हुए कहा प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राममंदिर बनवाकर गुरू का सपना साकार किया। उन्होने कहा राममंदिर भारत की संस्कृति पहचान हिन्दुत्व की आस्था का प्रतीक होगा। उन्होने कहा प्रभु राम नही ंतो राष्ट नहीं रामराज्य सुशासन की आदर्श संकल्भ्पना है। कार्यक्रम में प्रदेश के राज्यमंत्री मनोहरलाल पंथ ने महंत अवैद्यनाथ को अपनी श्रद्धान्जलि देते हुए कहा उन्होने रामजन्मभूमि की सबसे पहले आधारशिला रखवाने का श्रेय अर्जित किया वह हिन्दु समाज के लिए गौरव रहे। जिला पंचायत अध्यक्ष कैलाश निरंजन ने योगी जी के कार्यकाल को सुशासन का प्रतीक बताते हुए कहा वह सामाजिक समरसता के प्रतीक हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष राजकुमार जैन ने कहा महंत अवैद्यनाथ ने पांच वार सांसद विधायक रहकर गोरखपुर के विकास के लिए जो आयाम दिए वह हिन्दू साधना के प्रतीक हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता मण्डल प्रभारी झांसी मण्डल ने करते हुए गौरक्ष पीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन में विश्वहिन्दू महासंघ द्वारा किए जा रहे कार्यो का स्मरण कराकर महंत अवैद्यनाथ को नमन किया। कार्यक्रम के दौरान राजीव शुक्ला को जिला उपाध्यक्ष मनोनीत कर सम्मानित किया गया। इस मौके पर अधिशाषी अधिकारी नगरपालिका निहाल सिंह के अतिरिक्त संरक्षक अनिल जैन अंचल, अजयजैन साइकिल, निखिल तिवारी, हरिकिशोर नरवरिया, महेश पटैरिया, अरविन्द जैन कुम्हैण्डी, धु्रव साहू, महेन्द्र त्रिपाठी, मनोज बबीना, मनोज चौबे,सुखसाहव परमार, दयाराम निरंजन, चक्रेश सतभैया, सजीव सौरया, रामबाबू राजपूत,विवेक व्यास, प्रकाश विश्वकर्मा विक्रान्त सडैया, सूरजसिंह चौहान, भावना गोस्वामी, मनविन्दर कौर, चेष्टा श्रीवास्तव, सपना समाधिया, श्वेता राज यादव, कुसुम अहिरवार आदि ने अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन जिला प्रभारी अक्षय अलया ने किया। इस दौरान नगरपालिका पार्षद व्रमलीन अनुराग चौबे को उपस्थित लोगों ने श्रद्धान्जलि अर्पित कर उनकी सेवाओं का स्मरण किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि