शासन द्वारा कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए धूमधाम से मनाया जाएगा जल विहार महोत्सव




ललितपुर। श्री राम लीला हनुमान जयंती महोत्सव समिति की एक बैठक समिति के अध्यक्ष पंडित बृजेश चतुर्वेदी की अध्यक्षता मैं संपन्न हुई। बैठक में जनपद ललितपुर के श्रद्धा और उत्साह के ऐतिहासिक पर्व जलविहार को उत्साह पूर्वक शासन द्वारा निर्देशित कोरोना गाइड लाइन के अनुसार मनाने का निर्णय लिया गया। बैठक में बताया गया कि इस समय कोरोना महामारी से बचाओ की आवश्यकता ज्यादा है जिसको लेकर सभी पर्व शासन द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार ही मनाए जा रहे हैं। इस वर्ष जल विहार महोत्सव श्री रघुनाथ जी बड़ा मंदिर चौबयाना से प्रारंभ होकर रावरपुरा महावीरपुरा, सुभाषपुरा, घंटाघर, सावरकर चौक, तालाबपुरा होते हुए सुमेरा तालाब पर सभी विमान पहुंचेंगे जहां पर वैदिक मंत्र उच्चारण से सभी का बिहार कराया जाएगा और आरती उतारी जाएगी। इसके पश्चात सभी विमान अपने अपने निज मंदिर को प्रस्थान करेंगे। इस वर्ष शासन की गाइड लाइन के अनुसार कहीं पर भी ज्यादा भीड़ एकत्रित करने की पूर्णता मनाही है। समिति के सभी सदस्यों द्वारा नगर के सभी देवा लयों में संपर्क करके सभी प्रबंधक एवं पुजारीजी से आग्रह किया गया कि वह सीमित संख्या में अपने विमान के साथ भगवान का बिहार कराने के लिए सुमेरा तालाब पर पहुंचे। साथ ही नगर के सभी आम जनमानस से समिति द्वारा विशेष आग्रह किया गया कि वह अपने अपने यथा स्थान पर विमान की आरती उतार कर भगवान की अगवानी करें जिससे ज्यादा भीड़ से बचा जा सके और हमारा परंपरागत त्योहार भी मनाया जा सके। कोरोनावायरस को ध्यान में रखते हुए श्रीरामलीला हनुमान जयंती महोत्सव समिति द्वारा जगह जगह पर निशुल्क मास्क का वितरण किया जाएगा। समिति द्वारा नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी को पत्रक सौंप कर 17 सितंबर जलविहार पर्व मार्ग पर सैनिटाइजर छिड़काव की व्यवस्था की जाए। इसके साथ ही घंटाघर, महावीरपुरा, सावरकर चौक, सुम्मेरा तालाब पर अलग अलग टीम बनाकर मार्ग में सैनिटाइजर की छिड़काव व्यवस्था की जाए। बैठक का संचालन डा.प्रबल सक्सेना महामंत्री ने किया। इस मौके पर रमेश रावत, राजेश दुबे, अमित तिवारी, हरविंदर सलूजा, रत्नेश तिवारी, जगदीश पाठक, चंद्रशेखर राठौर, हरिमोहन चौरसिया, मुन्नालाल त्यागी, अवधेश कौशिक, राकेश तामिया, धर्मेंद्र चौबे, भरत रिछारिया, शिवकुमार शर्मा, गिरीश चौबे, राजीव हुण्डैत सहित समिति के सभी पदाधिकारी उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि