डॉक्टर कृष्णन का जीवन समाज में नई ऊर्जा का संचार करता है -राजकुमार जैन



 राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान में शिक्षक दिवस का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें शिक्षा को बढ़ावा देते हुए सदर विधायक रामरतन कुशवाहा ने कहा कि गीली मिट्टी को जिस तरह कुम्हार सुंदर घड़े का आकार देता है, ठीक वैसे ही बच्चे को अच्छा इंसान बनाता है शिक्षक। मां-बाप के अलावा बच्चा सबसे अधिक वक्त अपने शिक्षकों के साथ ही गुजारता है। यही वजह है कि शिक्षक बच्चों के व्यक्तित्व पर गहरा प्रभाव छोड़ते हैं। शिक्षक ना सिर्फ हमें शिक्षा देते हैं बल्कि अच्छी-अच्छी चीजें भी सिखाते हैं। जीवन जीने को लेकर भी कई अच्छी बातें छात्रों से साझा करते हैं।
हर साल 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर देश भर के तमाम शिक्षण संस्थानों में अध्यापकों का सम्मान होता है। धार्मिक ग्रंथों में लिखा है कि व्यक्ति को इच्छा प्राप्ति के लिए ईश्वर की भक्ति और ज्ञान प्राप्ति के लिए गुरु की सेवा करनी चाहिए। गुरु शिष्य के जीवन में व्याप्त अंधकार को मिटाकर प्रकाश फैलाते हैं। गुरु बिना ज्ञान हासिल नहीं होता है।इसके लिए हर एक व्यक्ति के जीवन में गुरु का होना बहुत जरूरी है। इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य शिक्षकों के सम्मान के साथ-साथ शिक्षा के प्रति लोगों (अभिभावकों और बच्चों) को जागरुक करना है। राजकीय औद्योगिक संस्थान के प्राचार्य मानसिंह भारती ने कहा कि शिक्षक सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं जीवन जीना भी सिखाते हैं, एक बच्चा जब इस दुनिया में जन्म लेता है, तो इसके बाद उसके कई रिश्ते-नाते जुड़ते है। माता-पिता, दादा-दादी, नाना-नानी, भाई-बहन जैसे नाजाने कितने रिश्तों से बच्चो की दुनिया घूमती है। रोजाना इन रिश्तों से उसका सामना होता है और इन्हीं के साथ उसकी दुनिया भी आगे बढ़ती है, लेकिन इसके अलावा एक और शख्स होता है, जो एक बच्चे के सुनहरे भविष्य के लिए उसके वर्तमान को सुधारता है और वो है बच्चे के शिक्षक। एक बच्चे के जीवन में उसके टीचर का अहम रोल होता है, जिसे वे बखूबी निभाते भी हैं। कार्यक्रम में उपस्थित सदर विधायक रामरतन कुशवाहा, भाजपा जिला अध्यक्ष राजकुमार जैन प्रदीप चौबे पूर्व जिला अध्यक्ष चूना, एवं  कार्यकर्ताओं सहित संस्थान का स्टाफ गण मौजूद रहा

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

शौंच को गई शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद हत्या

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि