लखीमपुर दुर्घटना में मृत दलित श्याम सुंदर के परिवार से मिले डा0 लालजी प्रसाद निर्मल] दलित परिवार ने कहा योगी जी के न्याय पर उन्हें पूर्ण विश्वास है। मृत दलित के परिवार से मिलने कोई भी विपक्षी नेता नहीं गया - डा0 निर्मल


 


लखनऊ 08 अक्टूबर] 2021  लखीमपुर के दलित परिवार से मिलकर विगत देर रात्रि को लखनऊ वापस लौटे उ0प्र0 अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष डा0 लालजी प्रसाद निर्मल ने कहा है कि लखीमपुर अब पूरी तरह शांत है।  उन्होंने कहा कि घटना में मृत सुभम मिश्र] श्याम सुंदर] हरिओम मिश्र] रमन कश्यप] दलजीत सिंह] गुरविंदर सिंह] लवप्रीति सिंह] नक्षत्र सिंह के परिवारों को राज्य सरकार द्वारा प्रदत्त 45 - 45 लाख रूपये के आर्थिक सहायता की चेक जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध करा दी गयी है।  
 
डा0 निर्मल ने बताया है कि उन्हें जानकारी प्राप्त हुई थी कि मृतकों में एक श्याम सुंदर दलित परिवार से हैं] जिनके परिवार से कोई भी मिलने नहीं गया।  वह तत्काल लखीमपुर पहुँचकर मृत श्याम सुंदर के निवास जयपरा मजरा शिवहा पहुँचे और मृतक के शोकसंतृप्त परिवार से मिले।  श्याम सुंदर के पिता श्री बालक राम ने रोते हुए बताया कि उनके बेटे को न्याय चाहिए और उन्हें मुख्यमंत्री योगी जी के न्याय पर पूरा भरोसा है। वृद्ध पिता ने संकट के समय आर्थिक सहायता के लिए मुख्यमंत्री जी का हांथ जोड़कर आभार भी व्यक्त किया।  
 
इसके पश्चात डा0 निर्मल मृत पत्रकार रमन कश्यप के परिवार से भी मिले। उनके पिता राम दुलारे कश्यप ने भी योगी जी के न्याय पर पूर्ण आस्था व्यक्त की और कहा कि उन्हें भी सरकार द्वारा दी गयी आर्थिक सहायता का चेक प्राप्त हो गया है।  
 
डा0 निर्मल ने विपक्ष के नेताओं के व्यवहार पर गंभीर आपत्ति दर्ज की और कहा है कि कांग्रेस] सपा और बसपा नेताओं का दलित परिवार से मिलने न पहुँचने से स्पष्ट है कि विपक्ष के एजेण्डे में दलित नहीं हैं।  उन्होंने कहा है कि लखीमपुर की दुर्भाग्यपूर्ण घटना से कांग्रेस] सपा माहौल को खराब कर राजनैतिक लाभ लेना चाहते थे लेकिन योगी सरकार की सक्रियता और वहां की जनता के असहयोग ने उनके मंसूबों पर पानी भेर दिया।
 
प्रियंका गांधी के झाड़ू और झगड़ालू कृत्य पर डा0 निर्मल ने कहा है कि प्रियंका के झाड़ू लगाने से यहां की स्थिति में अब कोई बदलाव आने वाला नहीं है।  दलितों ने बहुत पहले ही कांग्रेस की राजनीति पर झाड़ू फेर दिया है।  दलितों की देवी कही जाने वाली मायावती को भी आड़े हांथों लेते हुए डा0 निर्मल ने कहा कि मायावती वर्तमान में सबसे लुटी-पिटी और हताश नेत्री बनकर रह गयी हैं] क्योंकि उनके सभी वसूली एजेंट अन्य पार्टियों में शिफ्ट हो गये हैं।
 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा