प्रदेश में 4.5 लाख सरकारी नौकरियां,1.61 करोड़ से अधिक नौजवानों को निजी संस्थाओं में नौकरियां व रोजगार



सोशल मीडिया पर प्रसारित कंटेंट छोटे व प्रभावी होने चाहिए,
जिसे पढ़कर लोगों को समझने में आसानी हो
लखनऊ:ः 08 अक्टूबर, 2021:ः मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि वर्तमान समय सोशल मीडिया का है। प्रिंट एवं विजुअल मीडिया में एक तरफा संवाद होता है। सोशल मीडिया में दो तरफा संवाद होता है। जो लोग ग्राउण्ड जीरो पर जीरो हैं, सोशल मीडिया पर प्रभावी होने के कारण छोटी-छोटी बातों को लेकर हम सबको घेरने का प्रयास करते हैं। जहां हमारे कार्यकर्ता जागरूक, सक्रिय और सचेत हैं, वहां वे उतनी ही प्रभावी ढंग से जवाब देते हैं, जिससे सम्बन्धित बात मीडिया ट्रायल का विषय नहीं बनती। वहां विषय ट्रेण्ड नहीं कर पाता। प्रिंट अथवा विजुअल मीडिया में आप, आपके संगठन या आपकी सरकार के विरुद्ध किसी बात के आने पर प्रतिक्रिया के लिए दूसरों पर निर्भर रहना पड़ता है, किन्तु सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर तत्काल जवाब देने का अवसर होता है। तुरन्त जवाब नहीं देने पर उसी बात पर मीडिया ट्रायल शुरू हो जाता है। सम्बन्धित विषय ट्रेण्ड होने लगता है। वह बात लाखों, करोड़ों लोगांे तक पहुंचती है और नकारात्मक वातावरण बनता है।
मुख्यमंत्री जी आज यहां जनपद गोरखपुर में योगी राज बाबा गम्भीरनाथ प्रेक्षागृह में भारतीय जनता पार्टी के गोरखपुर मण्डल की आई0टी0 एवं सोशल मीडिया कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जागरूक नागरिक व दुनिया के सबसे बड़े दल भारतीय जनता पार्टी से जुड़े होने के नाते आपकी जिम्मेदारी है कि डिजिटल मीडिया का सकारात्मक एवं प्रभावी उपयोग करें। इसके लिए उचित प्रशिक्षण आवश्यक है। इसीलिए गोरखपुर प्रभाग, जिसमें गोरखपुर मण्डल के चारों जनपद सम्मिलित हैं द्वारा यह विशेष कार्यशाला आयोजित की गयी है। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की कि कार्यशाला में वर्तमान समय के सबसे महत्वपूर्ण मीडिया का उपयोग संगठनात्मक गतिविधियों के अलावा केन्द्र व प्रदेश सरकार की योजनाआंे को आमजन तक पहुंचाने के लिए सकारात्मक रूप से उपयोग करने का निर्णय लिया गया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान में फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर, व्हाट्सएप आदि सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भारतीय जनता पार्टी के एकाउण्ट हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी, केन्द्र सरकार, प्रदेश सरकार की भी सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर प्रभावी उपस्थिति है। इन एकाउण्ट्स की पोस्ट को हम लाइक करें, ट्वीट को रिट्वीट करें, अपने सकारात्मक छोटे कमेंट लिखें, तो यह काफी प्रभावी हो सकता है। अगर कोई कहे कि कुशीनगर में कोई कार्य नहीं हो रहा है, तो कार्यकर्ता कुशीनगर के अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे की फोटो लगाकर बता दे कि इतना भी सफेद झूठ न बोला करो। कोई कहे कि देवरिया में काम नहीं हो रहा है, तो महर्षि देवरहा बाबा के नाम पर बन रहे मेडिकल कॉलेज की फोटो अपलोड कर दें। इसका पर्याप्त असर पड़ेगा और कोई नकारात्मक टिप्पणी नहीं कर पाएगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 1990 के दशक के अन्त में जब वे सार्वजनिक जीवन में आये थे, तब प्रिंट मीडिया का बोलबाला था। समाचार पत्रों की बड़ी अहमियत थी। समाचार पत्रों के द्वारा घर एवं गांवों में सूचनाएं लोगों को मिलती थीं। सार्वजनिक स्थलों पर भी लोग समाचार पत्र पढ़ते और उन पर चर्चा करते थे। प्रिंट मीडिया की अहमियत आज भी कम नहीं है। आज से 20 से 22 वर्ष पूर्व विजुअल मीडिया ने अपने अनेक चैनलों से न्यूज बुलेटिन प्रसारित करना प्रारम्भ किया था। प्रत्येक आधे घण्टे में तत्काल घटित घटना को रिपोर्टर एवं अन्य स्रोतों के माध्यम से प्राप्त कर विजुअल मीडिया प्रसारित करती है। विगत एक दशक से सोशल मीडिया व उसके अलग-अलग वर्जन देखने को मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले लोग समाचार के पास जाते थे, आज समाचार उनके पास आता है। उनकी जेब में है। वर्तमान में स्मार्ट फोन और अन्य माध्यमों से सोशल मीडिया देश और दुनिया की जानकारी दे रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में कोई ऐसा जनपद नहीं है, जहां विकास से सम्बन्धित कार्य नहीं हुआ है। प्रदेश में गरीब आबादी को शासन की योजनाओं से आच्छादित किया गया है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत 2.61 करोड़ शौचालय से 10 करोड़ की आबादी आच्छादित हुई है। प्रदेश सरकार ने 40 लाख लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना की सुविधा उपलब्ध करायी है, जिससे 2 करोड़ लोग सीधे लाभान्वित हुए हैं। 15 करोड़ लोगों को कोविड के दौरान प्रदेश में मुफ्त राशन दिया गया है। 2.53 करोड़ किसान परिवार को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से आच्छादित किया गया है। 1.56 करोड़ परिवार को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन एवं 1.38 करोड़ परिवार को निःशुल्क बिजली कनेक्शन दिये गये हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के माध्यम से बालिका के जन्म से स्नातक की पढ़ाई के लिए 15 हजार रुपये उस परिवार को उपलब्ध कराया जा रहा है। इससे 10 लाख परिवार लाभान्वित हुए हैं। बेसिक शिक्षा के स्कूलों में पढ़ने वाले 1.81 करोड़ बच्चों को निःशुल्क यूनीफार्म, बैग, बुक्स, जूता, मोजा, स्वेटर इत्यादि प्रदेश सरकार द्वारा उपलब्ध कराया जा रहा है। प्रदेश में अभ्युदय योजना के माध्यम से 10 लाख से अधिक प्रतियोगी बच्चों को विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाआंे के लिए वर्चुअली व फिजिकली जोड़कर निःशुल्क कोचिंग प्रशिक्षण देने का कार्य किया जा रहा है। प्रदेश में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के माध्यम से 1.60 लाख बालिकाओं का विवाह सम्पन्न कराया गया है। 10 लाख दिव्यांगजन को दिव्यांगजन पेंशन की सुविधा दी जा रही है। 29 लाख से अधिक निराश्रित महिलाओं को निराश्रित महिला पेंशन प्रदान की जा रही है। वृद्धावस्था पेंशन योजना के माध्यम से 60 लाख से अधिक वृद्धजनों को पेंशन दी जा रही है। साथ ही, प्रदेश में 4.5 लाख सरकारी नौकरियां एवं निजी निवेश को बेहतर वातावरण प्रदान कर 1.61 करोड़ से अधिक नौजवानों को निजी संस्थाओं में नौकरियां व रोजगार की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। स्वरोजगार को आगे बढ़ाने के लिए 60 लाख लोगों को बैंकों से जोड़ा गया है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इन सभी लाभान्वित लोगों से संवाद बनाने से बड़ा नेटवर्क तैयार किया जा सकता है। योजनाओं से लाभान्वित परिवारों को सोशल मीडिया से जोड़कर उनकी व्यापक उपस्थिति दर्ज करायी जाए। भारतीय जनता पार्टी की सोशल मीडिया साइट से पार्टी के कार्यकर्ताओं को जुड़कर केन्द्र एवं राज्य सरकार की विकास योजनाओं को अपलोड करें। सोशल मीडिया पर प्रसारित कंटेंट छोटे व प्रभावी होने चाहिए, जिसे पढ़कर लोगों को समझने में आसानी हो। केन्द्र व प्रदेश में संचालित सभी योजनाओं को सोशल मीडिया से जोड़कर विपक्ष का जवाब दिया जाए, तो विपक्ष कहीं नहीं ठहरेगा।
-------

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा