सोलह पार्षदों ने ईओ के खिलाफ खोला मोर्चा


सात सूत्रीय मांगों का ज्ञापन डीएम को भेजा
ललितपुर। नगर पालिका परिषद में तैनात अधिशाषी अभियन्ता निहालचंद्र पर मनमाना रवैया अख्तियार करने का आरोप लगाते हुये सत्तादल समेत एक दर्जन से अधिक पार्षदों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन भेजा है। ज्ञापन में बताया गया कि ललितपुर नगर पालिका में नियुक्त ईओ निहालचन्द द्वारा अपने पद के कार्यों को भली-भांति न किये जाने के कारण हम पार्षदों व जनता को काफी असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। वर्तमान में नगर पालिका के समस्त वाहन खराब पड़े हुये हैं, हाथ ठेला टूटे हुये हैं, वार्डो की स्टीट लाईटें खराब पड़ी हुयी है। हम पार्षदों द्वारा इन समस्याओं के सम्बन्ध में कई बार अधिशाषी अधिकारी को अवगत कराया गया है लेकिन उनके द्वारा जनता के कार्यों को कराये जाने में कोई रूचि नहीं ली जाती है बल्कि नगर पालिका के अन्य 16 पार्षदों के साथ मिलकर राजनैतिक षडयन्त्र रचे जाते हैं और सभी कार्यों को रोका व प्रभावित किया जाता है। हाल ही में अधिशाषी अधिकारी द्वारा बजट कम होने की बात कहकर नगर पालिका के सभी आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को हटा दिया गया था, लेकिन दो दिन बाद केवल सफाई कर्मचारी वापिस ले लिये गये तथा ऑफिस के कर्मचारियों को वापिस नहीं लिया गया जिससे नगर की लाईट व्यवस्था के साथ-साथ ऑफिस के सभी कार्य प्रभावित हो रहे है, कर्मचारियों की कमी के कारण प्रभावित हो रहे कार्यों से जनता में काफी रोष व्याप्त हो रहा है। अधिशाषी अधिकारी द्वारा आधे आउटसोर्सिंग कर्मचारी बहाल किये जाने से कर्मचारियों में भी हीन भावना उत्पन्न हो रही है। ऐसा करने के पीछे अधिशाषी अधिकारी का उददेश्य कर्मचारियों में फूट डालना और नगर पालिका के कार्यों को प्रभावित करना है। सार्वजनिक त्योहारों पर विगत वर्षों से नगर पालिका द्वारा कई कराये जाते हैं जैसे मुरम फिलिंग का कार्य, रंगाई पुताई का कार्य लाईट की व्यवस्था आदि परन्तु इस वर्ष अधिशाषी अधिकारी द्वारा त्योहारों पर किसी भी प्रकार के कार्य नहीं कराये गये जिस कारण समाज व आमजन में नगर पालिका की छवि धूमिल हुयी है और हम पार्षदगणों को भी शर्मिन्दा होना पड़ रहा है। पार्षदों ने मामले की जांच करायी जाकर ईओ के खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग उठायी है। ज्ञापन देते समय पार्षद कृष्ण कुमार पंथ, भारत भूषण चौरसिया, मोदी पंकज जैन, हरिओम कुशवाहा, रामसखी, कुंजलता कुशवाहा, अफजुल रहमान, नाजिया रजा, जगभान कुशवाहा, शिवानी पाठक, गीता, अनुराग जैन शैलू, रामबाबू यादव, महेंद्र सिंघई आदि पार्षदों के हस्ताक्षर अंकित है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हिन्दी में प्रयोग हो रहे किन - कौन किस भाषा के शब्द

बिहार में स्वतंत्रता आंदोलन : विहंगम दृष्टि

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा