लखनऊ में एन0सी0डी0सी0, भारत सरकार की शाखा स्थापित किये जाने हेतु भूमि हस्तान्तरण विषयक एम0ओ0यू0 हस्ताक्षरित


 उप मुख्यमंत्री, श्री ब्रजेश पाठक की अध्यक्षता में भारत सरकार

एवं राज्य सरकार के अधिकारियों के मध्य एम0ओ0यू0
तथा लीज डीड पर हस्ताक्षर किये गये




लखनऊ: 24 मई, 2022
उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री एवं चिकित्सा शिक्षा, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, मातृ एवं शिशु कल्याण मंत्री, श्री ब्रजेश पाठक की अध्यक्षता में आज एनेक्सी में भारत सरकार के अधिकारियों एवं राज्य स्तरीय अधिकारियों द्वारा जनपद लखनऊ में एन0सी0डी0सी0, नई दिल्ली की शाखा स्थापित किये जाने के लिए भूमि हस्तान्तरण किये जाने के सम्बन्ध में एम0ओ0यू0 तथा लीज डीड पर हस्ताक्षर किये गये।
मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग पर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से श्री प्रणेश चंद्र शुक्ल, संयुक्त सचिव तथा भारत सरकार की ओर से श्री अनिल डी0 पाटिल, अपर निदेशक, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एवं डॉ शिखा वर्धन संयुक्त निदेशक तथा हेड, एन0सी0डी0सी0 ब्रांचेज भारत सरकार के द्वारा हस्ताक्षर किए गए।
श्री पाठक ने बताया कि एन0सी0डी0सी0, नई दिल्ली शाखा स्थापित किये जाने का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में वेक्टर जनित रोगों, संचारी रोगों, गैर संचारी रोगों के प्रकोप की जांच, निगरानी प्रणाली का मूल्यांकन एवं सर्वेक्षण करने तथा किसी भी प्रकार की आपदा के लिए तैयारी व चल रही आपदा और आपदा के बाद की रोकथाम और नियंत्रण उपायों के लिए चिकित्सा अधिकारियों और पैरामेडिकल स्टाफ की क्षमता निर्माण करना है। एनसीडीसी भारत सरकार, अन्य इच्छुक संस्थानों व गैर सरकारी संगठनों के समन्वय के साथ चिकित्सा अधिकारियों और पैरामेडिकल स्टाफ के लिए अल्पकालिक पाठ्यक्रम शुरू करना व यूपीपीएमएचएस और अन्य राज्यों के चिकित्सा अधिकारियों की क्षमता निर्माण के लिए 2 वर्षीय ईआईएस पाठ्यक्रम की शुरुआत करना भी इस शाखा की स्थापना के उद्देश्यों में है।
इसके अतिरिक्त महामारी संभावित बीमारियों और आने वाले खतरों के लिए मौजूदा निगरानी प्रणाली में वृद्धि। आवश्यकता के अनुसार सक्रिय निगरानी प्रणाली के लिए सेट-अप की स्थापना। राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय प्रोटोकॉल के अनुसार मौजूदा, फिर से उभरने की संभावना, उभरते संक्रामक रोगों या आने वाले खतरों का निदान। सैम्पल्स व जैव चिकित्सा अपशिष्टों के परामर्श, संग्रह, परिवहन, हैण्डलिंग, निदान, रिपोर्टिंग और निपटान के क्षेत्र में माइक्रोबायोलॉजिस्ट/ पैथोलॉजिस्ट/चिकित्सा अधिकारियों और पैरामेडिकल स्टाफ की क्षमता का निर्माण भी इस शाखा की स्थापना का मुख्य उद्देश्य है।
उप मुख्यमंत्री को बताया गया कि एन0सी0डी0सी0 की शाखा के सुचारू संचालन के लिए अन्य महत्वपूर्ण सहायक प्रभागों में कीट विज्ञान विभाग, जैव सूचना विज्ञान विभाग, जैव सांख्यिकी विभाग, जलवायु परिवर्तन, पर्यावरण और व्यावसायिक स्वास्थ्य विभाग, जैव प्रौद्योगिकी विभाग, गैर-संचारी रोग का विभाग, माइक्रोबायोलॉजी विभाग-बैक्टीरियोलॉजी, वायरोलॉजी, माइकोलॉजी, अंतरक्षेत्रीय समन्वय का विभाग, जूनोटिक रोगों का विभाग, परजीवी विज्ञान का विभाग, पैथोलॉजी विभाग, वैक्सीन प्रिवेन्टेबल डिजीज (वी0पी0डी0) का विभाग तथा एस0एच0ओ0सी0 विभाग हैं।
अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री अमित मोहन प्रसाद जी के द्वारा अवगत कराया गया कि एन0सी0डी0सी0 के द्वारादेश की एकमात्र बी0एस0एल0 फ़ोर प्रयोगशाला की स्थापना भी उत्तर प्रदेश में जनपद बाँदा मे की जाएगी जिसके लिए जिसके लिए शिमोमी धाम ट्रस्ट, बाँदा के द्वारा 100 एकड़  भूमि उपलब्ध कराई जा रही है।
इस अवसर पर सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण श्री रवींद्र, महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं डा वेदव्रत सिंह, निदेशक संचारी रोग डा अविनाश कुमार सिंह, तथा  राज्य सर्विलांस अधिकारी डा विकासेंदु अग्रवाल भारत सरकार एवं राज्य सरकार के अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर