सिंधी भाषा के व्यापक प्रचार-प्रसार हेतु आगामी 24-25 जून को लेह में होगा संगोष्ठी का आयोजन


 



सिंधी भाषा में अनुवादित अथवा लिखित, पुस्तकों के प्रकाशनार्थ आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी

उत्तर प्रदेश सिंधी अकादमी द्वारा अकादमी कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेन्स का आयोजन किया गया

अकादमी उपाध्यक्ष श्री नानक चन्द लखमानी ने अकादमी द्वारा संचालित कार्यक्रमों तथा भावी योजनाओं की जानकारी दी

लखनऊ  06 मई, 2022

उत्तर प्रदेश सिंधी अकादमी के उपाध्यक्ष श्री नानक चन्द लखमानी की अध्यक्षता में आज यहां इन्दिरा भवन स्थित सिंधी अकादमी कार्यालय में प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। उन्होंने अकादमी द्वारा संचालित विभिन्न गतिविधियों, कार्यक्रमों तथा भावी योजनाओं की विस्तृत जानकारी दी।
इस अवसर पर प्रेस प्रतिनिधियों से संबोधित करते हुए श्री लखमानी ने बताया कि इस वर्ष अकादमी द्वारा संचालित की जाने वाली विभिन्न योजनाओं की जानकारी देते हुए कि आजादी के 75वें अमृत महोत्सव वर्ष के दौरान अकादमी द्वारा ऐसे साहित्यकार, जिन्होेंने 60 वर्ष की आयु पूर्ण कर ली हो एवं निरन्तर सिंधी साहित्य की सेवा की हो, ऐसे 10 लब्धप्रतिष्ठित साहित्यकारों/लेखकों को रू0 21000.00 धनराशि उसके जीवनकाल में एक बार प्रदान की जायेगी। इसके अलावा प्रदेश के सिंधी विषय से स्नातक तीन वर्षीय पाठ्यक्रम में प्रतिवर्ष उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को रू0 6000.00 एवं दो परास्नातक पाठ्यक्रम में प्रतिवर्ष उत्तीर्ण होने पर रू0 7000.00 प्रोत्साहनवृत्ति प्रदान की जायेगी। इसके अलावा लेखकों द्वारा सिध्ंाी भाषा में अनुवादित अथवा लिखित, पुस्तकों के प्रकाशनार्थ आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।
श्री लखमानी ने बताया कि सिंधी भाषा, कला एवं संस्कृति के संरक्षण व संवर्द्धन हेतु आगामी 12 मई, 2022 को लखनऊ मंे तथा 31 मई, 2022 को गोरखपुर में सिंधी पारिवारिक फिल्म ‘‘घर गुरूअ जो दार‘‘ का मंचन कराया जायेगा। अकादमी द्वारा इस वित्तीय वर्ष सेें सिंधी सरल शिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत सिंधी देवनागरी लिपि सिखाने के लिए ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन किया जायेगा। इसके अलावा सिंधी भाषा के प्रचार-प्रसार हेतु सिंधी भाषण गायन तथा, सिंधी निबन्ध प्रतियोगिताओं का आयोजन आगरा, मथुरा, लखनऊ में कराया जाना प्रस्तावित है। इन प्रतियोगिताओं में छात्रों को पुरस्कृत किये जाने के साथ ही सिंधी पढ़ाने वाले अध्यापकों को भी सम्मानित किये जाने की योजना है।
अकादमी के उपाध्यक्ष ने बताया कि सिंधी भाषा के प्रचार-प्रसार हेतु आगामी 24-25 जून 2022 को लेह में एक विचार संगोष्ठी कराये जाने की योजना है। उन्होंने यह भी बताया कि सिंधी अकादमी द्वारा संचालित विभिन्न कार्यक्रमों एवं आयोजनों के व्यापक प्रचार-प्रसार की भी योजना बनाई गई है। इसके अलावा उन्होंने वित्तीय वर्ष 2021-22 की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए बताया कि ऑनलाईन सिंधी छात्र प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया गया। कार्यक्रम में 300 से अधिक छात्रों ने प्रतिभाग किया, प्रतिभागी विजयी छात्रों को धनराशि रू0 3000, 2000, 1000 से पुरस्कृत किया गया। कक्षा 03 से 12 तक के छात्रों को धनराशि रू0 1200.00 से 5000.00 तक की प्रोत्साहनवृत्ति वितरित की गयी तथा हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट सिंधी विषय में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्रों को धनराशि रू0 11000.00 (रू0 ग्यारह हजार मात्र) प्रदान की गई।
इस अवसर पर सिंधी अकादमी के निदेशक श्री हरिबख्श सिंह ने बताया कि अकादमी द्वारा सिंधी शिक्षक मानदेय व्यवस्था के अन्तर्गत हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट सिध्ंाी विषय से पढ़ाने वाले शिक्षको को प्रति छात्र रू0 5000 की दर से मानदेय प्रदान किया गया। इसके अतिरिक्त पुस्तकों का प्रकाशन, सिंधी भगति, संगोष्ठियों का आयोजन, पुस्तकों के प्रकाशन हेतु लेखकों को आर्थिक सहायता, सूफी कलाम आदि कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। उन्होंने यह भी अवगत कराया कि 10 अप्रैल 1967 कोें सिध्ंाी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में सम्मिलित किया गया था। अकादमी द्वारा 10 अप्रैल को सिंधी भाषा दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस अवसर पर प्रतिवर्ष विभिन्न कार्यक्रमों को आयोजन किया जाता है। विगत 11 अप्रैल, 2022 को अकादमी द्वारा सिध्ंाी भाषा दिवस के उपलक्ष्य मंे विचार संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
इसके साथ ही उपाध्यक्ष जी नानकचन्द्र लखमानी द्वारा यह भी अवगत कराया गया कि अमर शहीद हेमू कालाणी, राजा दाहिर सेन, भगवान झूलेलाल, अमर शहीद संत कंवरराम, बाबा आसूदाराम आदि महापुरूषों एवं स्वतन्त्रता सेनानियों की जीवन को पाठ्यक्रम में लागू कराये जाने, अकादमी के कार्यालय (सिंधु संस्कृति भवन हेतु) के लिए 5 एकड़ भूमि आवंटित किये जाने, इन्दिरा भवन में अकादमी सभागार हेतु कक्ष आवंटन के संबंध में शासन से पत्राचार किया गया है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर