प्रभारी राज्यमंत्री बाराबंकी धर्मवीर प्रजापति ने विकास कार्यों की समीक्षा बैठक की




उत्तर प्रदेश के राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कारागार एवं होमगार्ड एवं बाराबंकी जनपद के प्रभारी मंत्री श्री धर्मवीर प्रजापति की अध्यक्षता में जनपद बाराबंकी में विकास कार्यो, अपराध एवं कानून व्यवस्था, महिला संबंधी अपराधों/पास्को एक्ट के अन्तर्गत पंजीकृत मामलों में विवेचना तथा अभियोजन की प्रगति, अनुसूचित जाति/जनजाति के व्यक्तियों के विरुद्ध अपराधों के क्रम में पंजीकृत मामलों की विवेचना तथा अभियोजन की प्रगति एवं गैंगस्टर अधिनियम के अन्तर्गत चिन्हित अपराधी/माफियाओं के विरुद्ध कार्यवाही की प्रगति की समीक्षा की गयी। 



राज्यमंत्री ने मलिन बस्ती गांधी नगर में साफ-सफाई की स्थिति देखी, साथ ही उन्होंने कहा कि साफ-सफाई निरंतर बने रहने से बीमारियों से बचा जा सकता है। बैठक के दौरान घरौनी योजना, आईजीआरएस पोर्टल, निर्माण परियोजनाएं, कानून व्यवस्था, सामूहिक विवाह सहित अन्य योजनाओं के बारे में विस्तार से चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बिचौलियों को खत्म करना जरूरी है। जनता योजनाओं का सीधा लाभ प्राप्त करें। उन्होने कहा कि किसी भी कल्याणकारी योजना से पात्र व्यक्ति वंचित न रहने पाये। सभी पात्र व्यक्ति को जागरूक होकर सरकार की योजनाओं का लाभ प्राप्त करना चाहिए। जनता की समस्याओं का समयबद्ध निस्तारण किया जाना अधिकारियों का दायित्व होना चाहिए। अधिकारी स्वयं जमीनी स्तर पर शिकायतों का निस्तारण करें। उन्होंने कोरोना से बचाव के लिए अपील की। बच्चों की ड्रेस के लिए सरकार पैसे दे देती है आप सभी बच्चों की ड्रेस गुणवत्ता वाली बनवाये। राज्यमंत्री ने चौपाल के दौरान ग्राम वासियों की समस्याओं के निराकरण के निर्देश दिए।


जिलाधिकारी डॉ आदर्श सिंह ने कहा कि कोई भी व्यक्ति यदि पात्र है और योजना से वंचित है तो वह ब्लाक स्तर या मुख्यालय स्तर पर जानकारी लेकर उस योजना से आच्छादित हो सकता है। जिस प्रकार निजी सामानों का संरक्षण करते है, ठीक उसी प्रकार से सरकारी सामानों का भी संरक्षण करें। जनपद बाराबंकी में जल जीवन मिशन कार्यक्रम के अन्तर्गत विकास खण्ड देवा में मउजानीपुर ग्राम पाइप पेयजल योजना वर्ष 2021-22 में स्वीकृत हुई है, यह योजना सौर ऊर्जा से संचालित की जायेगी। योजना की तकनीकी स्वीकृत विभाग द्वारा एवं वित्तीय स्वीकृत के पश्चात धनावंटन केन्द्र सरकार द्वारा किया गया है। स्वीकृत लागत रु0 234.94 है।


इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती एकता सिंह, अपर जिलाधिकारी, परियोजना निदेशक, जिला विकास अधिकारी, उप कृषि निदेशक, अपर जिला सूचना अधिकारी सहित सम्बन्धित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर