उगापुर मे आशा बाल पुस्तकालय की स्थापना*




*सामाजिक संस्था आशा ट्रस्ट की पहल* 
*समाजसेवी दम्पति मनोज और अनीता के शिक्षण केंद्र पर उपलब्ध होंगी पुस्तकें*

वंचित वर्ग के बच्चों के  लिए समाजसेवी मनोज यादव एवं उनकी पत्नी अनीता देवी द्वारा ऊगापुर गाँव में  संचालित किये जा रहे निःशुल्क शिक्षण केंद्र पर सामाजिक संस्था आशा ट्रस्ट द्वारा में आशा बाल पुस्तकालय की स्थापना की गयी. संस्था द्वारा एक देश समान शिक्षा अभियान के अंतर्गत  सभी को समान और बेहतर शिक्षा के अवसर की उपलब्धता के लिए बाल साहित्य की उपलब्धता कराई जा रही है.

इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए आशा ट्रस्ट के समन्वयक वल्लभाचार्य पाण्डेय ने कहा कि बदलते समय के साथ बच्चों में पढने की रूचि कम हो रही है, सोशल मीडिया पर प्राप्त अधकचरी और असत्य जानकारियों को ही सत्य मानने से  बच्चों में सही गलत की पहचान करने की क्षमता नष्ट हो जायेगी. पढ़ने की आदत से ही बच्चों का सर्वांगीण विकास होगा और वे जागरूक होंगे.

कार्यक्रम संयोजक दीन दयाल सिंह ने कहा कि हमने देश के विभिन्न प्रकाशकों से रोचक बाल साहित्य का चयन किया है जिससे बच्चों में पढने के प्रति उत्साह का संचार हो. 

युवा समाजसेवी मनोज कुमार यादव ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि व्यक्तित्व विकास के लिए  किताबों का बहुत महत्व है, इसमें निहित ज्ञान को आत्मसात करने से हम परिवार, समाज, देश और प्रकृति के प्रति एक जिम्मेदार नागरिक बन सकते हैं.  कार्यक्रम में सूरज पाण्डेय, अनीता देवी आदि की प्रमुख रूप से उपस्थिति रही, कई बच्चों ने कविता भी सुनाई.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर