23 जून को आज़मगढ़ और रामपुर की जनता करेगी 12 जून 1975 जैसा ऐतिहासिक फैसला - रामगोविंद चौधरी

 



 1975 की तरह ही इस बार भी शुरू हो जाएगी देश और प्रदेश की सरकारों की उल्टी गिनती - पूर्व नेता प्रतिपक्ष 


बलिया। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता पूर्व नेता प्रतिपक्ष, उत्तर प्रदेश रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि आज़मगढ़ और रामपुर की महान जनता आगामी 23 जून को समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार धर्मेन्द्र यादव और आसिम राजा को रिकार्ड मतों से विजयी बनाकर 12 जून 1975 जैसा ऐतिहासिक फैसला देगी। उन्होंने कहा कि जैसे 12 जून के फैसले से श्रीमती इंदिरा गाँधी और उनकी सरकारों की उल्टी गिनती शुरू हो गई थी, वैसे ही 23 जून के फैसले से किसान, जवान, छात्र, महिला, मजदूर, मजबूर, मजलूम, अल्पसंख्यक, दलित, पिछड़ा और अतिपिछड़ा विरोधी डबल इंजन की सरकारों की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी।


शनिवार को यहाँ से आज़मगढ़ के लिए निकलने से पहले अपने आवास पर जुटे समाजवादी साथियों से बातचीत में पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने  न्यायमूर्ति जगमोहन लाल सिन्हा, लोकबन्धु राजनारायण और 12 जून 1975 के फैसले की विशेष रूप से चर्चा की और कहा कि फैसला आने के पहले तक किसी को यह कल्पना भी नहीं थी कि सरकारी साधनों के दुरुपयोग के आधार पर प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गाँधी की सदस्यता रद हो जाएगी।

उन्होंने कहा कि लोकबन्धु राजनारायण की याचिका पर उक्त फैसला आने के साथ ही श्रीमती इन्दिरा गाँधी और उनकी सरकारों की उल्टी गिनती शुरू हो गई और देखते देखते अजेय कांग्रेस का उत्तर भारत से सफाया हो गया।


पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि 12 जून का फैसला न्यायमूर्ति जगमोहन लाल सिन्हा ने सुनाया था। 23 जून का फैसला आज़मगढ़ और रामपुर की महान जनता सुनाएगी। यह फैसला आने के साथ ही केवल जन उत्पीड़न और भयादोहन के लिए बनी डबल इंजन की सरकारों की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि इस फैसले को प्रभावित करने के लिए डबल इंजन की सरकारें अपने लोगों से अनाप शनाप टिपण्णी कराकर माहौल खराब करने का काम कर रही हैं। इससे सावधान रहने की जरूरत है।


पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश की विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष के रूप में सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय अखिलेश यादव की घेरे बन्दी से डबल इंजन की सरकारें घबराई हुई हैं। इससे उबरने के वह पीड़ित समाज के भीतर ही मतभेद पैदा कराने में लगी हैं। इससे भी सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने कहा है कि जनता के मन मिजाज को  प्रभावित करने के लिए सूबे के लगभग सभी मन्त्री आज़मगढ़ और रामपुर में भाजपा कार्यकर्ता के रूप में सरकारी साधनों का दुरुपयोग कर रहे हैं। इसे रोकने के लिए हमको आपको भी अपने अपने सतुआ पिसान के साथ आज़मगढ़ और रामपुर के साथियों के साथ खड़ा होना होगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर