विभागाध्यक्ष वार्ता को तैयार नही,अखिर आज से आन्दोलन करेंगे डिप्लोमा इंजीनियर्स



लोनिवि विभागाध्यक्ष के मनमाने रवैये के खिलाफ प्रान्तव्यापी आन्दोलन की आज से शुरूआत
लखनऊ, 12 जून। संगठन में तोड़फोड़ तथा अन्य चार सूत्रीय मांगों पर वार्ता के लिए आन्दोलन नोटिस दिए जाने के बावजूद विभागाध्यक्ष लोकनिर्माण विभाग मुख्य सचिव के बार बार जारी आदेशों का निरादर करते हुए संघ से वार्ता के लिए तैयार नही है। संघ ने विभागाध्यक्ष की हिटलरशाही के विरोध में 13 जून से प्रस्तावित आन्दोलन में जाने की तैयारी कर ली है।  विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग के मनमाने रवैये, तथा अपने ही विभाग के 100 वर्ष पुराने प्रतिष्ठित कार्मिक संघ में तोड़फोड़ की राजनीति एवं लम्बित मांगों के प्रति नकारात्मक रवैये से परेशान डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ ने प्रान्तीय आपातकालीन बैठक में सर्वसम्मति से आन्दोलन का कार्यक्रम घोषित कर दिया था। संघ द्वारा दिये गए संघर्ष नोटिस के अनुसार प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता कर समस्याओं का निराकरण करने हेतु विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग को 12 जून तक का समय दिया गया था परंतु आज 12 जून तक न तो विभागाध्यक्ष द्वारा प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता की गई ना ही किसी भी समस्या का निस्तारण किया गया , अपितु एकपक्षीय उत्पीड़न की धमकी अवश्य दी जा रही है। विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग की हठधर्मिता के कारण प्रदेश के जूनियर इंजीनियर में भयंकर आक्रोश व्याप्त है और वे आंदोलन करने को विवश है।प्रदेश भर में आंदोलन की पूरी तैयारियां कर ली गई है। इस क्रम में अपनी पांचसूत्रीय मांगों हेतु प्रदेश के सभी जनपद मुख्यालय पर सभी डिप्लोमा इंजीनियर्स कल दिनांक 13 जून 2022 को धरना देते हुए ज्ञापन सौंपेंगे । 16 जून तक प्रतिनिधिमंडल के साथ वार्ता एवं समस्याओं का निराकरण ना किए जाने पर दिनांक 17 जून 2022 को  प्रदेश के समस्त मंडल मुख्यालयों पर सभी डिप्लोमा इंजीनियर्स धरना देते हुए ज्ञापन सौंपेंगे। दिनांक 21 जून 2022 तक सकारात्मक वार्ता एवं समस्याओं का समाधान ना होने पर दिनांक 22 जून 2022 से प्रदेश मुख्यालय पर प्रदेश स्तरीय धरना अनवरत चलेगा तथा दिनांक 24 जून  को अनिश्चित कालीन कार्य वहिस्कार, हड़ताल तथा जेल भरो आंदोलन जैसे कठोर कार्यक्रम करने का निर्णय लिया जाएगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर