भाषा विश्वविद्यालय में फैकल्टी डिवेलपमेंट प्रोग्राम का शुभारम्भ



लखनऊ: 08 जून, 2022


  ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय के वाणिज्य विभाग में हाइब्रिड मोड में दिनक 8 जून से 13 जून तक फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया जा रहा है। आज कार्यक्रम का आरंभ कार्यक्रम संयोजक प्रो. एहतेशाम अहमद ने शोध की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए किया। उन्होंने इस बात का भी उल्लेख किया कि नयी शिक्षा नीती में शोध पर इसलिए बल दिया गया है क्योंकि शोध से ही विभिन्न क्षेत्रों में नये नये आयामों का सृजन किया जा सकता है।
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ, आदिल, सहायक आचार्य, छ प् ज् , हमीरपुर  ने शोध पत्र के गुढ़वात्तापूर्ण लेखन की तकनीकी बारीकियों से अवगत कराया। उन्होंने उल्लेख किया कि यदि हमें अपना शोध पत्र  श्।श् ग्रेडिंग वाले जर्नल में छपवाना है तो फंनेल दृष्टिकोण अपनाते हुए हमें विश्व की पृष्ठभूमि से उसे जोड़ना होगा। उन्होंने यह भी बताया कि पहले हमें जर्नल का चुनाव करना चाहिए और उसके आधार पर अपनी मैन्यूस्क्रिप्ट तैयार करनी चाहिए। उन्होंने सभी शिक्षकों को अच्छे जर्नल का चुनाव करने एवं अपने शोध पत्र की गुणवत्ता बढ़ाने के कई तरीक़े भी बताए।
कार्यक्रम के  मुख्य अतिथि प्रो. एस. ए. अंसारी, सेवानिवृत,  वाणिज्य संकाय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय प्रयागराज ने शोध की नैतिकता पर बल देते हुए आधारभूत शोध से प्रेरणा लेने की बात कही। कार्यक्रम का संचालन डॉ. नीरज शुक्ल, सह संयोजक ने किया। धन्यवाद ज्ञापन, आयोजन सचिव डा. जैबुन निसा ने दिया। कार्यक्रम में प्रतिभागियों के अतिरिक्त आंतरिक एवं बाहरी विश्वविद्यालयों के सौ से अधिक शिक्षकों ने प्रतिभाग किया।  

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर