समयबद्धता पर विशेष रूप से ध्यान दे- स्वतंत्रदेव सिंह


जलशक्ति मंत्री ने राम मनोहर लोहिया परिकल्प संस्थान का किया औचक निरीक्षण

अनुशासन, साफ-सफाई एवं समय से कार्यों के निस्तारण के दिये निर्देश

लखनऊ: 01 जून, 2022



उत्तर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री श्री स्वतंत्रदेव सिंह ने आज राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय मुख्य रूप से श्री ए.के. सिंह, प्रमुख अभियन्ता एवं विभागाध्यक्ष, श्री नरेश चन्द्र उपाध्याय, प्रमुख अभियन्ता (परिकल्प एवं नियोजन) एवं श्री आलोक कुमार जैन, मुख्य अभियन्ता स्तर-1 (परिकल्प एवं शोध) मुख्य रूप से उपस्थित रहे।
जलशक्ति मंत्री ने परिकल्प संस्थान एवं सूचना प्रणाली संगठन में अधिकारियों एवं कमर्चारियों से प्रत्येक कक्ष में जाकर वार्ता की एवं कार्यों की समीक्षा की। अनुशासन, साफ-सफाई के सख्त निर्देश दिये। परिसर में पान के पीकों के दागों को तत्काल प्रभाव से साफ कराते हुए कैमरा लगाने के निर्देश भी दिये तथ ऐसा करने वालों के विरूद्ध सख्त कायर्वाही करने के निर्देश दिये।
श्री सिंह ने परिकल्प संस्थान में ‘‘कांक्रीट कैनवास इन कैनाल लाइनिंग’’ के प्रस्तुतीकरण में प्रतिभाग किया एवं इस तकनीक का प्रयोग एक नहर में लागू करने का सुझाव दिया। परिकल्प संस्थान में चल रहे नवनियुक्त सहायक अभियन्ता के प्रशिक्षण को भी देखा और उन्हें संबोधित किया कि आप विभाग का भविष्य है। अतः मेहनत और लगन से कार्य को सीखे और इसे विभाग में लागू करें। समयबद्धता पर विशेष रूप से ध्यान दे।


जलशक्ति मंत्री ने इसके उपरांत कमाण्ड सेन्टर में बाढ के कार्यों की समीक्षा की। बाढ कार्यों को 15 जून के पहले पूर्ण करने के निर्देश दिये। कमाण्ड सेन्टर मे परिकल्प संस्थान एवं सूचना प्रणाली संगठन के अधिकारियों के साथ बैठक की। परिकल्प के कार्यों की समीक्षा की। परिकल्प के अधिकारियों ने मंत्री जी को सहायक अभियन्ता प्रशिक्षण संस्थान की आवश्यकता एवं स्थापित करने के बारे में अवगत कराया। मा0 मंत्री जी द्वारा इस पर 01 माह के अन्दर कायर्वाही कराने के निर्देश दिये है।
जलशक्ति मंत्री ने परिकल्प संस्थान के सुदृणीकरण हेतु आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिये है। साथ ही निर्देशित किया कि जो प्रावधान परिकल्प संगठन में पूर्व में प्राविधानित थे उनका यथोचित स्तर से अनुमोदन कराते हुए पुनः लागू करने का प्रयास किया जाए। परिकल्प संस्थान में मटेरियल टेस्टिंग लैब एवं कन्सल्टेन्सी के कार्यों को प्रारम्भ किये जाने हेतु योजना तैयार कर आवश्यक औपचारिकताएं पूर्ण करने के निर्देश दिये।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर