10,009 युवाओं को मासिक वृत्तिका के साथ उद्योगों/अधिष्ठानों में हेतु पंजीकृत कराते हुये अप्रेन्टिसशिप शुरु-कपिल देव अग्रवाल



लखनऊ: 10 जुलाई, 2022
प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री कपिल देव अग्रवाल  ने आज लोकभवन में 100 दिवस की अवधि में व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग, उ0प्र0 शासन के अधीन संचालित इकाईयों द्वारा किये गये जनोपयोगी कार्य एवं प्राप्त की गयीं उपलब्धियों की जानकारी प्रेस वार्ता के माध्यम से दी। उन्होंने बताया कि व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग, उ0प्र0 शासन के द्वारा प्रदेश के युवाओं को औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से दीर्घकालिक व्यावसायिक प्रशिक्षण तथा उ0प्र0 कौशल विकास मिशन के द्वारा विभिन्न क्षेत्रों से सम्बन्धित कौशलों में अल्पकालीन प्रशिक्षण प्रदान कराया जाता है। उन्होंने बताया कि 25 मार्च, 2022 को उ0प्र0 सरकार के गठन के पश्चात व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग, उ0प्र0 शासन के अधीन संचालित इकाईयों हेतु 100 दिवस की कार्य-योजना को स्वीकृत किया गया।
व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने बताया कि लोक कल्याण संकल्प पत्र, 2022 में “विश्वकर्मा तकनीकी उन्नयन कार्यक्रम” को प्रारम्भ किये जाने का उल्लेख है, जिसके अन्तर्गत प्रत्येक ब्लॉक में आई0टी0आई0 की स्थापना की जानी है। इस कार्य को चरणबद्ध रुप में पूर्ण किये जाने के क्रम में 100 दिवस की अवधि में प्रदेश के 172 असेवित अर्थात आई0टी0आई0 विहीन विकास खण्डों में से 10 में नवीन आई0टी0आई0 की स्थापना निजी क्षेत्र के माध्यम से कराई गई है। इन 10 नवीन आई0टी0आई0 में अगस्त, 2022 के प्रशिक्षण सत्र से अभ्यर्थियों को प्रवेश प्रदान करते हुये उनका प्रशिक्षण प्रारम्भ कराया जायेगा। इस प्रकार यह कार्य पूर्ण हो गया है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना (सीएमएपीएस)-10 हजार युवाओं को अप्रेन्टिसशिप कराई जानी है, जिसके सापेक्ष 10,009 युवाओं को मासिक वृत्तिका के साथ उद्योगों/अधिष्ठानों में हेतु पंजीकृत कराते हुये अप्रेन्टिसशिप शुरु करा दी गई है। जायेगा। इस प्रकार निर्धारित लक्ष्य से अधिक युवाओं को अप्रेन्टिसशिप कराये जाने के परिपेक्ष्य में यह कार्य पूर्ण हो गया है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के राजकीय आई0टी0आई0 के दैनिक क्रिया-कलापों के अनुश्रवण तथा उनमें उपलब्ध सामग्रियों के क्रय, वितरण व निष्प्रयोजन ऑन-लाईन मोड में किये जाने के क्रम में “स्मार्ट डैश-बोर्ड” तथा इनवेन्टरी मैनेजमेन्ट सिस्टम से सम्बन्धित पोर्टल का विकास एवं संचालन किये जाने का निर्णय लिया गया है। दोनो कार्यों से सम्बन्धित पोर्टल विकसित कर संचालित कर दिये गये हैं। अतः इस कार्य के अन्तर्गत निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त कर लेने के क्रम में यह कार्य पूर्ण हो गया है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के राजकीय आई0टी0आई0 केसफल/प्रमाणीकृत प्रशिक्षार्थियों सेवायोजित कराये जाने के क्रम में वहां पर निरन्तर कैम्पस प्लेसमेंट को आयोजित किये के दृष्टिगत टेªनिंग काउसलिंग एवं प्लेसमेन्ट सेल (टीसीपीसी) की स्थापना व टेªनिंग काउसलिंग एवं प्लेसमेन्ट आफीसर (टीसीपीओ) की तैनाती का निर्णय लिया गया है। साथ ही साथ प्रत्येक माह एक नियत तिथि पर प्लेसमेन्ट डे का आयोजन भी कराये जाने का निर्णय लिया गया है। उक्त कार्यों की पूर्ति के अन्तर्गत प्रशासकीय विभाग द्वारा शासनादेश निर्गत कर दिया गया है तथा समस्त नोडल राजकीय आई0टी0आई0 में टीसीपीसी की स्थापना व टीसीपीओ की तैनाती भी कर दी गई है। शासनादेश में प्लेसमेन्ट डे के आयोजन हेतु प्रत्येक माह की 21 तिथि को निर्धारित किया गया है। कार्य की प्रगति के अन्तर्गत माह मई व जून, 2022 की तिथि 21 को प्रदेश के समस्त जनपदों के नोडल राजकीय आई0टी0आई0 में का सफल आयोजन कराया जा चुका है, जिनके द्वारा कुल 4521 अभ्यर्थियों को प्रतिष्ठित कम्पनियों/अधिष्ठानों में सेवायोजन हेतु चयनित कराया गया है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश के चिन्हित राजकीय आई0टी0आई0 न्यू एज टेªड्स को स्थापित करते हुये अगस्त, 2022 के सत्र से अभ्यर्थियों के प्रवेश प्रदान करते हुये उनका प्रशिक्षण प्रारम्भ कराये जाने का निर्णय लिया गया है। इस कार्य की पूर्ति के अन्तर्गत विभिन्न स्वीकृतियों को जारी किये जाने से सम्बन्धित कार्य पूर्ण करा लिये गये हैं तथा संस्थानों के स्तर पर की जाने वाली समस्त तैयारियों को भी पूर्ण कर लिया गया है। प्रदेश सरकार द्वारा स्वीकृत किये गये 15 नवीन राजकीय आई0टी0आई0 का निर्माण कार्य पूर्ण करा लिया गया है तथा इनके भवन लोकार्पण हेतु पूर्ण रुप से तैयार हैं।
व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने उ0प्र0 कौशल विकास मिशन द्वारा 100 दिन में किये गये कार्यों की जानकारी देते हुए बताया कि प्रस्तावित कार्ययोजना के अनुसार 10 हजार युवाओं को प्रशिक्षित व सेवायोजित कराना लक्षित तथा आवंटित लक्ष्य 15,197। सेवायोजन प्रशिक्षण प्रदाता द्वारा स्वयं, प्लेसमेंट एजेन्सीज भी सहयोग हेतु अनुबंधित किया गया। उन्होंने बताया कि एवियेशन सेक्टर में आवंटित लक्ष्य 1026 है। जेवर, कुशीनगर तथा अयोध्या में नये एयरपोर्ट के निर्माण होने के कारण रोजगार की अधिक संभावनायें हैं।  
श्री अग्रवाल ने बताया कि महिला संरक्षण गृह की संवासनियों/किशोर सुधार गृह के निरूद्ध किशोरों के प्रशिक्षण हेतु आवंटित लक्ष्य 395 है। चिन्हित जनपद में अयोध्या, मऊ, वाराणसी, गाजीपुर एवं हरदोई है। पाइलेट प्रोजेक्ट के रूप में क्रियान्वित परियोजना। परिणामों के आधार पर आगे विस्तार किया जाए। हेल्थ सेक्टर के अन्तर्गत कुल आवंटन 30,562 है। लक्ष्य आवंटन में विप्रो जीई हेल्थकेयर, अपोलो हॉस्पिटल, हिन्दुस्तान लैटेक्स फैमिली प्लानिंग प्रमोशनल ट्रस्ट (एचएलएफपीपीटी) जैसे विशेषज्ञ संस्थान सम्मिलित है। गत वर्ष कोविड वॉरियर्स का परीक्षण अत्यंत सफल रहा।
श्री अग्रवाल ने बताया कि नये सेक्टर्स में कौशल प्रशिक्षण दिये जाने हेतु तथा रोजगार की बेहतर संभावनाओं हेतु हाइड्रोकार्बन, ग्रीन जॉब्स तथा रबर इत्यादि में लक्ष्य आवंटन किया गया है। हाइड्रोकार्बन में एसडीआई सोसायटी (गेल इण्डिया की संस्था), ग्रीन जॉब्स में यूपी नेडा तथा रबर में पीजी इलेक्ट्रोप्लास्ट जैसी ख्याति प्राप्त संस्थाओं को लक्ष्य आवंटित है। कुल लक्ष्य 1323 आवंटित किया गया है। उन्होंने बताया कि लाजिस्टिक सेक्टर की मांग को देखते हुए परिवहन विभाग के सहयोग से वाहन चालकों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। लाजिस्टिक सेक्टर में आवंटित लक्ष्य 5211 है। पिंक बस सेवा हेतु महिलायें भी भारी वाहन चालन में प्रशिक्षित दिया जा रहा है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर