पूर्व मुख्यमंत्री बाबू बनारसी दास जी की 110 वीं जयंती मनायी गयी डा0 अखिलेश दास गुप्ता फाउंडेशन ने संगोष्ठी का किया आयोजन




लखनऊ 08 जुलाई 2022। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व उत्तर प्रदेश  के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू बनारसी दास जी की 110 वीं जयंती 55, पुराना किला स्थित कोठी में डा0 अखिलेश दास फाउंडेशन के तत्वाधान में बाबू जी के परिजनों समर्थकों को व अनुयायियों के मौजूदगी में मनाया गया, इस अवसर पर बाबू जी की पुत्र वधु श्रीमती  अल्का दास गुप्ता चेयरपर्सन  बी.बी.डी. ग्रुप उनके पौत्र विराज सागर दास प्रेसिडेंट बी.बी.डी. ग्रुप तथा बाबू जी की पौत्री सोनाक्षी दास ने अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की, साथ ही बाबू बनारसी दास जी के पुत्र व बी.बी.डी के अधिशासी  निदेशक आर.के. अग्रवाल के अपने पिता के चित्र पर माल्यार्पण कर उनके प्रेरक  प्रसंगों का वर्णन किया। बाबू बनारसी दास नगर विकास कल्याण समिति के अध्यक्ष कैलाश पांडेय, डा0 रेहान अहमद खान बाबू जी के पूर्व निजी सचिव धर्म सिंह पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा0 पी.एस जायसवाल, चंद्र प्रकाश गोयल, राजीव बाजपेई, निहाल खान, के.सी. यादव श्रीमती वंदना राज अवस्थी, ऊषा बाल्मीकि, उमा गुप्ता, शान बक्शी, आशा मौर्या, कमलेश गुप्ता ऋषभ गुप्ता, निकिता भारती, आदि ने भी पुष्पांजलि प्रदान कर बाबू जी को नमन किया दूसरी तरफ बी.बी.डी. परिवार से  जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता अजय श्रीवास्तव, नवीन रस्तोगी, बाबा, रवि विष्वकर्मा, रेहान, आबिद, वसीम खान, अतीक अंसारी सर्वेष अवस्थी, नृपेन्द्र, सिंह, महेष राठौर, धीरज गुप्ता, प्रदीप कुमार, सनी कष्यप, राम प्रसाद आदि ने भी बाबू जी को नमन किया।

इस अवसर पर उपस्थित जन समूह को सम्बोधित करते हुए बाबू जी के निजी सचिव रहे धर्म सिंह ने बताया कि 28 फरवरी 1979 को बाबू जी उ0प्र0 के मुख्यमंत्री बने और 18 फरवरी 1990 तक उन्हांेने प्रदेश की बागडोर संभाली इस छोटे से कार्यकाल में उन्होंने सहकारिता राज्य कर्मचारियों, शिक्षा, कानून व्यवस्था, भाषा व कौमी एकता की अनूठी मिसाल कायम की जो आज भी प्रासंगिक है, पूर्व सुशील दुबे व राजीव बाजपेयी के अतिरिक्त अशोक सिंह आदि ने श्रद्धांजलि अर्पित किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !