पशुओं को उत्तम गुणवत्तायुक्त आहार देने से दुग्ध उत्पादन में होगी वृद्धि -धर्मपाल सिंह



 लखनऊ: 01 जुलाई, 2022

उत्तर प्रदेश के पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री श्री धर्मपाल सिंह ने आज यहां पार्क रोड स्थित पीसीडीएफ के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में अम्बेडकर नगर की पराग पशु आहार निर्माणशाला द्वारा नवनियुक्त 27 डीलरों को प्रमाण पत्र वितरित किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि पूर्वांचल के अयोध्या, बस्ती, गोरखपुर एवं आजमगढ़ मण्डल के लिए अम्बेडकर नगर की पशु आहार निर्माणशाला द्वारा निर्मित पराग पशु आहार किसानों एवं पशुपालकों के पशुओं के लिए आवश्यक पोषक तत्वों के पूर्ति के लिए सक्षम होगा, जिससे दुग्ध उत्पादन में वृद्धि होगी।
वितरण समारोह में दुग्ध विकास मंत्री ने पराग पशु आहार की गुणवत्ता, दुधारू पशुओं के लिए उसकी आवश्यकता पर प्रकाश डालते हुए, बताया कि पराग पशुआहार निर्माणशाला अम्बेडकर नगर पूर्णतया आटोमेटिक, कम्प्यूटराईज्ड प्लांट है, जिसकी क्षमता 100 मी0टन प्रतिदिन की है। जो आधुनिक रूप से कम्प्यूटराइज्ड तरीके से संचालित किया जा सकता है।
श्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि दुग्ध विकास एवं पशुधन कृषि का एक महत्वपूर्ण अंग है। जिसमें पशुओं को उत्तम गुणवत्ता का पशुआहार देने से दुग्ध उत्पादन में वृद्धि होगी और स्वस्थ रहेंगे। इससे उनको पौष्टिक आहार मिलेगा, वहीं दूसरी ओर पशु रोग मुक्त भी रहेंगे। दुग्ध विकास विभाग में डीलर्स के लिए प्रथमबार यह प्रमाण पत्र वितरण कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।
इस अवसर पर कार्यक्रम में उपस्थित पशुधन एवं दुग्ध विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव डा0 रजनीश दुबे द्वारा अवगत कराया गया कि उत्तर प्रदेश, देश में दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में प्रथम स्थान रखता है तथा पशु आहार निर्माणशालाओं के माध्यम से दुधारू पशुओं को गुणवत्ता परक पशु आहार उपलब्ध करा कराकर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि की जा सकती है, इसके लिए विभाग को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करना है।
कार्यक्रम में दुग्ध आयुक्त श्री शशि भूषण लाल सुशील, प्रबन्धक निदेशक पीसीडीएफ श्री कुणाल शिल्कू, प्रभारी (आपरेशन) श्री राजेश कुमार सचान के अतिरिक्त विभागीय वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संयोजन एवं संचालन प्रभारी, पराग पशु आहार निर्माणशला अम्बेडकर नगर द्वारा किया गया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर