देखिए दाल गलती हुई नजर नहीं आती

 देखिए दाल गलती हुई नजर नहीं आती

छोड़िए सारी दुनिया दाल ही नहीं खाती


बादल मौसम विभाग की सुनते ना आजकल

छोड़िए हर बात आजकल सुनी नहीं जाती


है झूठ तो सच बोलने की जरूरत क्या है 

छोड़िए सच्चाई कभी किसी को नहीं भाती


पीछे पड़ा हुआ है रोग तो आगे क्यों हैं

छोड़िए नजर सब पर मर्ज की पड़ नहीं पाती


गाली दे रहे सभी तो इसमें नया क्या है 

छोड़िए दिनभर यह दुनिया भजन नहीं गाती 


डॉ एम डी सिंह

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर