प्रत्येक विकास खण्ड में “विकास खण्ड स्तरीय बृहद गो-संरक्षण केन्द्रों” की स्थापना हेतु कार्यवाही प्रारंभ की गयी-धर्मपाल सिंह




लखनऊ: 08 जुलाई, 2022
उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री श्री धर्मपाल सिंह द्वारा आज यहां लोक भवन के मीडिया सेंटर में आयोजित विभागों की उपलब्धियों के संबन्ध में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि पशुधन एवं दुग्ध विकास, अल्पसंख्यक कल्याण, मुस्लिम वक्फ एवं हज, राजनैतिक पेंशन तथा नागरिक सुरक्षा विभाग ने राज्य सरकार के 100 दिन के एजेन्डे के तहत निर्धारित लक्ष्यों एवं कार्याें को सफलता पूर्वक पूरा किया है।
श्री धर्मपाल ने बताया कि प्रदेश में दुग्ध उत्पादन दुग्ध विकास के लिए दुग्ध संघों के सुदृढ़ीकरण हेतु 125 समितियों का गठन तथा 150 समितियों का पुनर्गठन किया गया है। ई-कामर्स पोर्टल से 5000 के लक्ष्य के सापेक्ष 14310 उपभोक्ताओं, महिला स्वयं सहायता समूह एवं पराग मित्रों को जोड़ा जा चुका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के दुग्ध उत्पादकों को दुग्ध सहकारिता के माध्यम से उनके दूध का उचित मूल्य उपलब्ध कराने के साथ-साथ शहरी उपभोक्ताओं को स्वच्छ, शुद्ध तथा विसंक्रमित दूध उपलब्ध कराया जा रहा है।
पशुधन मंत्री ने कहा कि गोवंश सुरक्षा सरकार की प्राथमिकता है। 01 करोड़ टीकाकरण के सापेक्ष 1.31 करोड़ की प्रगति प्राप्त की गयी है। 20 लाख पशुओं में कृत्रिम गर्भाधान के सापेक्ष 2013443 की प्रगति प्राप्त की गयी है। 110000 वर्गीकृत वीर्य (सक्सेड सीमेन) स्ट्रा उत्पादन के सापेक्ष 110324 की प्रगति प्राप्त की गयी है। 50,000 निराश्रित गोवंश आश्रय प्रदान करने के सापेक्ष 50,000 गोवंश को संरक्षित किया गया है। 20 निर्माणाधीन वृहद गो-संरक्षण केन्द्र का निर्माण कार्य को पूर्ण कराना के सापेक्ष 20 केन्द्रों का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया है। अस्थायी गो-सेवा बाड़ा की स्थापना के सापेक्ष 1000 बाड़ों का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया है। 520 मोबाइल वेटनरी यूनिट के संचालन के सापेक्ष समस्त 520 वाहन विभाग को प्राप्त की गयी है।
श्री धर्मपाल सिंह ने बताया कि गो-आश्रय के स्थलीय सत्यापन के लिए गोसंरक्षण पोर्टल विकसित कराया जा रहा है। गोवंश को उपयोगी बनाये जाने के लिए गोबर, गोमूत्र के सार्थक/जनउपयोगी उत्पाद बनाने के लिए सरकार द्वारा प्रत्येक विकास खण्ड में 2000 से 3000 गोवंश धारण क्षमता के “विकास खण्ड स्तरीय बृहद गो-संरक्षण केन्द्रों” की स्थापना हेतु कार्यवाही प्रारंभ की गयी है। इन गोअश्रय स्थलों पर सी0बी0जी0/सी0एन0जी0 प्लान्ट की स्थापना पी0पी0पी0 मोड में कराया जायेगा।
उन्नत पशु प्रजनन की सुविधा पशुपालकों के द्वार पर उपलब्ध कराई जा रही है। उक्त के अतिरिक्त लगभग 90 प्रतिशत मादा संतति की प्राप्ति हेतु वर्गीकृत वीर्य का उत्पादन भी विभागीय केन्द्र बबुगढ़, हापुड़ में किया जा रहा है एवं समस्त जनपदों उपलब्ध है। निबलेट, बाराबंकी स्थित प्रयोगशाला में इन विट्रो फर्टिलाइजेशन तकनीकी से भ्रूण का विकास कर डोनर मादाओं में भू्रण का प्रत्यारोपण कर उन्नत प्रजाति की संतति प्राप्त की जा रही है एवं इसका विस्तार क्षेत्र में भी किया जायेगा।
प्रदेश को खुरपका-मुंहपका से मुक्त करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष 2 चरणों में 1040.72 लाख टीकाकरण पशुपालकों के द्वार पर किया जाना लक्षित है। गाय/भैसों में 4 से 8 माह की मादा संतति को ब्रुसेलोसिस का टीकाकरण भी किया जा रहा है।
अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के उपलब्धियों के बारे में श्री धर्मपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम अन्तर्गत 12 नवीन पेयजल परियोजनाओं का शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण कराते हुए जनोपयोगी बनाया गया है। इन कार्यों से प्रदेश के विभिन्न जनपदों के अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में लोगों को पेयजल की सुविधा प्राप्त करायी गयी। इस कार्य में रू0 32.87 करोड़ की कुल परियोजना लागत आयी। योजनान्तर्गत विभिन्न क्षेत्रों (शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल इत्यादि) की रू0 65.52 करोड़ की 15 नवीन परियोजनाओं के शिलान्यास हेतु तैयारी पूर्ण कर ली गई है।
इन्फास्ट्रक्चर डेवलेपमेन्ट इन माइनाइरिटी इन्स्टीट्यूशन्स (आई.डी.एम.आई.) योजना के तहत प्रदेश के विभिन्न जनपदों में स्थित 24 अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थाओं में आधारभूत संरचना के विकास धनराशि रू0 5.42 करोड से किया गया है। इसके तहत शिक्षण कक्ष, छात्रावास, शौचालय इत्यादि का निर्माण कराया गया। इन कार्यों में लाभान्वित शिक्षण संस्थाओं के छात्र/छात्राओं को शिक्षा हेतु बेहतर सुविधाएं प्राप्त हुई है। मदरसों में आधुनिक शिक्षा को बढ़ावा देने के दृष्टिगत ई-लर्निंग ऐप ;डम्स्।द्ध विकसित किया गया है। इस ऐप में मदरसा पाठ्यक्रम के अनुरूप दीनियात व एन.सी.ई.आरटी पाठ्यक्रम की पाठ्य सामग्री, ऑडियो/वीडियो तथा सामान्य ज्ञान से जुड़ी अध्ययन सामग्री उपलब्ध है।
श्री धर्मपाल सिंह ने बताया कि केन्द्रीय नागरिक सुरक्षा प्रशिक्षण संस्थान उ0प्र0, लखनऊ पर विभागीय अधिकारियों/कर्मचारियों एवं स्वयंसेवकों के अतिरिक्त प्रदेश के अन्य विभागों के अधिकारियों/कर्मचारियों एवं केन्द्रीय सरकार के विभागों यथा उत्तर रेलवे, पूर्वोत्तर रेलवे, नरौरा एटामिक पावर प्लान्ट तथा हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लि0 के कर्मचारियों को कुल 06 प्रशिक्षण पाठयक्रम सत्र के अंतर्गत 208 पदाधिकारियों को नागरिक सुरक्षा उपायों में प्रशिक्षित किया गया। एन0सी0सी0 के 400 कैडटों को नागरिक सुरक्षा विधाओं में प्रशिक्षित किया गया। होमगार्ड्स के 807 स्वयंसेवकों को नागरिक सुरक्षा विधाओं में प्रशिक्षित किया गया। 703 सामान्य नागरिकों को आपदा प्रबन्धन पाठयक्रम में प्रशिक्षित किया गया।
उन्होंने बताया कि स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों व उनके आश्रितों को पेंशन तथा लोकतंत्र सेनानियों व उनके आश्रितों को सम्मान राशि व अन्य सुविधायें समयबद्धरूप से उपलब्ध करायी जा रही है। स्व0सं0से0 व उनके आश्रितों के लिये लखनऊ एवं मथुरा में सेवा सदन के माध्यम से आवास एवं भोजन की सुविधा हेतु सेवा सदनों को बजट उपलब्ध कराया जा चुका है। स्व0 सं0से0 एवं लोकतंत्र सेनानियों से प्राप्त सुझावों एवं शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही करते हुए निस्तारण किया जा रहा है। प्रेस वार्ता में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के राज्यमंत्री श्री दानिश आजाद अंसारी उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के प्रमुख सचिव श्री हिमांशु कुमार, दुग्ध आयुक्त श्री शशिभूषण लाल सुशील, पीसीडीएफ के प्रबंध निदेशक श्री कुणाल सिल्कू, पशुधन विभाग के विशेष सचिव श्री देवेन्द्र पाण्डेय, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की निदेशक सुश्री सी0 इन्दुमती तथा पशुपालन निदेशालय के निदेशक डा0 इन्द्रमणि उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

हत्या का पुलिस ने कुछ ही घंटों मे किया खुलासा

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !