वूका वर्ल्ड’ पर राष्ट्रीय सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि वक्ता डॉ. पुनीत द्विवेदी पुणे आमंत्रित

-



पुणे (महा०) इंदौर के मॉडर्न ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूट्स के समूह निदेशक डॉ. पुनीत द्विवेदी में पुणे में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि वक्ता के रूप में ‘वूका विश्व’ की प्राथमिकताओं, करणीय एवं अकरणीय कार्यों, निर्णय लेने की क्षमता, नेतृत्व शैली एवं नेतृत्व के विभिन्न वैश्विक आयामों के बारे में चर्चा की। “न्यू फ्रन्टियर्स इन मैनेजमेंट ऑफ़ सस्टेनेबल बिज़नेस डेवलपमेंट इन वूका वर्ल्ड” विषय पर डी. वॉय. पी. आई. एम. आर (डी. पी. यूनिवर्सिटी) पुणे में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में इंदौर के शिक्षाविद डॉ. पुनीत कुमार द्विवेदी मुख्य वक्ता के रूप में आमंत्रित थे। अपने वक्तव्य में डॉ. पुनीत ने बदलते वैश्विक परिदृश्य में ‘वूका विश्व’ की परिकल्पना के प्रभावों पर चर्चा की। बतादें कि मध्य भारत स्टार्टअप कम्यूनिटी इकोसिस्टम में अप्रतिम योगदान देने वाले डॉ. पुनीत मॉडर्न ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूट्स इंदौर में प्रोफ़ेसर एवं समूह निदेशक की भूमिका में कार्यरत हैं एवं मॉडर्न इंक्युबेटर के मुख्य परामर्शदाता हैं।अपने अभिभाषण में डॉ. पुनीत द्विवेदी ने प्राचीन भारतीय प्रबंधन से वूका वर्ल्ड को सीख लेने की बात कही एवं महाभारत के युद्ध में कुशल नेतृत्व के प्रभाव की चर्चा की। डॉ. पुनीत द्विवेदी ने वोलाटाईल की जगह विजन, अनसर्टेनिटी (अनिश्चितता) की जगह अंडरस्टैंडिंग, कॉम्प्लेक्सिटी ( अस्पष्टता) की  जगह क्लारिटी एवं एम्बिगुईटी की जगह एजिलिटी (त्वरित) की चर्चा पर ध्यान आकर्षित किया। त्वरित व्यवस्थित समझ के साथ लिये व्यावसायिक निर्णय ही लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये आवश्यक हैं। बदलते वैश्विक परिदृश्य में यही समय की माँग है। उक्त दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में संस्था की निदेशक डॉ. मेघना बिल्लारे ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। डॉ. पुनीत के साथ अनेय अतिथियों में श्री अनूप मालवीया ( फ़ाऊंडर एवं सीईओ- ह्वाइट पेस बिज़नेस प्रा० लि०, श्री अविनाश ठाकुर, डॉ.सोमनाथ पाटिल एवं डॉ. पराग कालकर आदि उपस्थित रहे। दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में के उद्घाटन कार्यक्रम का संचालन डॉ. प्रियंका धूत ने किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर