रिसर्च एण्ड डेवलपमेण्ट योजना के अन्तर्गत 25.07 लाख रुपये मंजूर विभिन्न जनपदों के 11 राजकीय एवं अनुदानित महाविद्यालयों के 13 शिक्षक करेंगे शोध कार्य



लखनऊः 15 नवम्बर, 2022

उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के राजकीय एवं अनुदानित महाविद्यालयों के शिक्षकों को शोध कायों हेतु रिसर्च एण्ड डेवलपमेन्ट योजना के अंतर्गत 25.07 लाख रूपये मंजूर किये हैं। उत्तर प्रदेश राज्य उच्च शिक्षा  परिषद के अधीन गठित विशेषज्ञ समिति की संस्तुति के पश्चात ् यह धनराशि मंजूर की गई है।
उच्च शिक्षा विभाग ने इस सम्बन्ध में आवश्यक शासनादेश जारी कर दिये है। शासना- देश  के अनुसार प्रदेश के विभिन्न जनपदों में स्थित 11 राजकीय एवं अनुदानित महाविद्यालयों के 13 शिक्षकों के लिए विभिन्न विषयों पर शोध कार्य हेतु यह धनराशि  मजूंर की गई है। रिसर्च एण्ड डेवलपमेन्ट योजना के अन्तर्गत कानपुर स्थित दयानन्द वुमेन्स ट्रेनिंग कालेज की प्रो0 रत्ना गुप्ता के शोध कार्य हेतु 1.88 लाख रूपये, प्रयागराज स्थित महिला सेवा सदन डिग्री कालेज की प्रो0 अमिता शुक्ला के शोध कार्य हेतु 1.91 लाख रूपये, जौनपुर स्थित डॉ0 राम मनोहर लोहिया राजकीय महाविद्यालय के डा0 अमित कुमार सोनकर के शोध कार्य हेतु 1.5,56,200 रूपये भदोही स्थित काशी नरेश राजकीय स्नाकोत्तर महाविद्यालय के डा0 मनोज सिंह यादव के शोध कार्य हेतु 1,56,200 रूपये तथा डा0 प्रियंक श्रीवास्तव के शोध कार्य हेतु 2.86 लाख रूपये मंजूर किये गये हैं।
इसी प्रकार प्रतापगढ़ स्थित मुनीशवर दन्त स्नात्कोत्तर महाविद्यालय के डॉ प्रदीप कुमार सिंह के शोध कार्य हेतु 1.15 लाख रूपये तथा डॉ0 पीयूष कान्त शर्मा के शोध कार्य हेतु 1.32 लाख रूपये गाजियाबाद स्थित एम0एम0एच0 कालेज के डॉ0 अनिरूद्ध कुमार भार्गव के शोध कार्य हेतु 3,75,100 रूपये, पीलीभीत स्थित राजकीय स्नात्कोत्तर महाविद्यालय के डा0 सुनील कुमार के शोध कार्य हेतु 1.65 लाख रूपये, हाथरस स्थित एस0आर0डी0ए0 (पी0जी0) कालेज की डा0 रंजना गुप्ता के शोध कार्य  हेतु 1.98 लाख रूपये, सीतापुर स्थित आर0एम0 पी0पी0जी0 कालेज के डा0 शशांक कुमार के शोध कार्य हेतु 1.65 लाख रूपये प्रतापगढ़ स्थित स्नातकोत्तर महाविद्यालय के डा0 अखिलेश कुमार पाण्डेय के शोध कार्य हेेतु 1.65 लाख रूपये, तथा प्रयागराज स्थित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय की डा0 स्वाति चौरसिया के शोध कार्य हेतु 2,14,500 रूपये मंजूर किये गये हैं।
इस सम्बन्ध में जारी शासनादेश में निर्देश दिये गये हैं कि रसर्च एण्ड डेवलपमेन्ट, योजना के अंतर्गत स्वीकृत की जा रही धनराशि का व्यय इस योजना के दिशा-निर्देशों के अनुसार उपकरण, शोध सहायक/केमिकल, ग्लासवेयर, उपभोज्य वस्तुए आदि/यात्रा व्यय और फील्ड कार्य एवं डाटा कलेक्शन आदि आकस्मिक व्यय पर किया जायेगा।
 शासनादेश द्वारा निर्गत रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट योजना के दिशा निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा तथा परियोजना के अंतर्गत कराये गये शोध कार्यों की निर्धारित समय-सीमा पर समीक्षा की जाएगी एवं शासन को नियमित रूप से प्रगति रिपोर्ट उपलब्ध करायी जाएगी योजना से संबंधित कार्यों हेतु किसी भी दशा में कोई भी नियुक्ति नहीं की जाएगी तथा कोई डिप्लोमा/ प्रशिक्षण कोर्स संचालित नहीं किये जाएंगे, योजनांतर्गत स्वीकृत धनराशि का मदवार उपयोगिता प्रमाण पत्र व प्रगति आख्या शासन को संकलित रूप में उपलब्ध कराया जायेगा, योजनांतर्गत राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर निर्गत दिशा-निर्देश प्रभावी रहेंगे। निदेशालय स्तर पर योजना के दिशा-निर्देशों के अनुसार कार्यक्रमों की मानीटरिंग की जायेगी तथा शासन को अवगत कराया जायेगा। योजनांतर्गत जो भी बुक्स/प्रकाशन किये जाएँगे उसमें योजना का नाम एवं उच्च शिक्षा विभाग, उत्तर प्रदेश शासन का उल्लेख अवश्य किया जायेगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर