श्रम-20 विचार-विमर्श समूह जी20 भारत में एल20: श्रमिक वर्ग के लिए कार्यरत


हिरण्मय पंड्याअध्यक्षभारतीय मजदूर संघ (बीएमएस);

और श्रम-20 के अध्यक्ष

 

कोविड-19 महामारी ने हमें वैश्विक जनस्वास्थ्य के क्षेत्र में चुनौतियों और कमियों के प्रति सचेत किया है। महामारी के सदमे ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों को समान रूप से प्रभावित किया। वैज्ञानिक समुदायस्वास्थ्यकर्मियोंनीति निर्माताओंजागरूक नागरिकों के अथक और सहयोग से जुड़े प्रयासों के कारणहम अब काफी हद तक इससे उबर चुके हैं। हालाँकिदुनिया भर कुछ घटनाक्रमोंजैसे मुद्रास्फीति की उच्च दर और रूस-यूक्रेन संघर्षके कारण स्थितियों के सामान्य होने में बाधायें उत्पन्न हुई हैं। श्रमिकों और कंपनियों के कुछ समूहों पर अनुपात से अधिक कुप्रभाव के कारण श्रम बाजार की असमानताओं में भी वृद्धि हुई हैजिसने विकसित तथा विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के बीच अंतर को और बढ़ाया है। इसके साथ हीसरकारों और नागरिक समाज के समन्वित प्रयासों ने संसाधनों के समान वितरण के लिए एक सेतु का काम किया है। उदाहरण के लिएसामाजिक सुरक्षा पर विशेष ध्यान सेखासकर लॉकडाउन अवधि के दौरानलोगों को इस कठिन समय का मुकाबला करने में मदद मिली। यह उन श्रमिकों के लिए भी सहायक थाजिनकी या तो नौकरी चली गई थी या उन्हें वेतन में कटौती का सामना करना पड़ रहा था। सरकार और नागरिक समाज के बीच यह सामंजस्यन केवल संकट को कम करने में सहायक सिद्ध हुआबल्कि इसने नीतिगत योजनायें भी तैयार कीजो दीर्घकालिक राहत प्रदान करने में सफल रहीं।

हालांकिअभी भी बहुत कुछ किया जाना शेष है। भारत की जी20 अध्यक्षतास्थिति का जायजा लेनेइन चुनौतियों की गंभीरता का आकलन करने और राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हमारी प्रतिबद्धताओं के नवीनीकरण का अवसर प्रदान करती है। नवीनतम आंकड़ों के अनुसारएक मजबूत सुधार के बावजूदवैश्विक स्तर पर काम के घंटों की संख्यापूर्व-कोविड स्तरों से 1.5 प्रतिशत नीचे बनी हुई है। यह लगभग 40 मिलियन पूर्णकालिक नौकरियों की हानि के बराबर है। इसके अतिरिक्तअंतर्राष्ट्रीय श्रम बाजार में भी भिन्नताएं बढ़ रहीं हैं। उदाहरण के लिएसेवा प्रदाता और सेल्स जैसे "निम्न और मध्यम कुशल" नौकरियों की तुलना में "उच्च कुशलउच्च भुगतान वाले" व्यवसायों में मजबूत वापसी हुई है। इन घटनाक्रमों से असमानता प्रत्यक्ष रूप से बढ़ी है तथा गरीब एवं वंचित समुदायऔर  गरीब हो रहे हैं तथा हाशिए पर जाने के लिए बाध्य हैं। महामारी के कारण देखभाल (कार्य) अर्थव्यवस्था पर भी बहुत प्रभाव पड़ाजिसका बोझ महिलाओं को अधिक अनुपात में सहन करना पड़ा। इन मुद्दों की पहचान करना एक महत्वपूर्ण कदम हैजो हमें संरचनात्मक और प्रणालीगत समाधानों पर रणनीतिक रूप से विचार-विमर्श करने की सुविधा देगा तथा जो त्वरित और समावेशी वापसी (रिकवरी) के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेंगे। इस संदर्भ मेंकार्रवाई-उन्मुख लक्ष्यों के आधार पर काम करना समय की मांग है - एक ऐसा अवसरजो जी20 सभी हितधारकों को प्रदान करता है।  

जी-20 की बैठक आम सहमति बनाने और उन मुद्दों पर मिलकर काम करने के लिए बेहद उपयुक्त समय पर हो रही हैजो न केवल सतत विकास लक्ष्यों को प्राप्त करनेबल्कि सभी क्षेत्रों को सहनीय बनाने के लिए भी आवश्यक हैं। यह वैश्विक श्रम बाजार के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैजहां बदलती कार्यप्रणाली और आर्थिक अस्थिरताश्रमिक वर्ग को कमजोर बनाती है। इन उद्देश्यों को देखते हुएश्रम-20 (एल-20) सभी ट्रेड यूनियनों के लिए अंतर्राष्ट्रीय श्रम मुद्दों और सामाजिक श्रम आंदोलनों पर विचार-विमर्श करने का एक मंच बन जाएगा तथा यह मंच बाद में उन समाधानों को सामने रखेगाजिन पर राष्ट्रीय संदर्भों में कार्रवाई की जा सकती है।  

एल-20 के विशेष ध्यान का एक और महत्वपूर्ण क्षेत्र है - दुनिया भर में श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा और संरक्षा का कवरेज बढ़ाना। सामाजिक सुरक्षा एक गतिशील अवधारणा हैजिसके स्वरूप और जिसकी परिभाषा में समय के साथ बदलाव हुए हैं। तेजी से हुए तकनीकी बदलावों ने सामाजिक सुरक्षा और संरक्षा के नए आयामों का पता लगाना आवश्यक बना दिया है। 'गिग एंड प्लेटफॉर्म वर्ककी शुरुआत के साथकंपनियों की जीवन-अवधि छोटी होती जा रही है और एक नए प्रकार का नियोक्ता-कर्मचारी संबंध विकसित हो रहा हैजिसके बारे जानकारी व समझ अभी भी प्रारंभिक चरण में है। रोजगार से जुड़े सामाजिक सुरक्षा के नियमजो पहली औद्योगिक क्रांति के बाद उभरे थे और जो दूसरी औद्योगिक क्रांति के दौरान परिपक्व हुएउन्हें उद्योग 4.0 के युग में फिर से लिखे जाने की आवश्यकता है।

जी20 के विभिन्न कार्य और विचार-विमर्श समूहों ने उपरोक्त मुद्दों पर चर्चा की है। हाल ही में बालीइंडोनेशिया के जी20 राजनेताओं की घोषणा’ में तथा अन्य दस्तावेजों में भी इनका उल्लेख किया गया है। इन महत्वपूर्ण चिंताओं पर ध्यान देने और कार्रवाई योग्य लक्ष्यों को रेखांकित करने के लिए जी20 के तहत नीति वक्तव्य और फ्रेमवर्क विकसित किए गए हैं। कोविड-19 महामारी से रिकवरी को बढ़ावा देने के लिए एल-20 के प्रतिनिधि समग्र रणनीतियों की अवधारणा को अंतिम रूप देने के उद्देश्य से बैठक में भाग लेंगे। श्रमिकों को सामाजिकआर्थिक और राजनीतिक व्यवधानों से भी संरक्षित करने की आवश्यकता है। इस संदर्भ मेंआगे की कार्ययोजनाअब तक की उपलब्धियों की पड़ताल करने और उन मुद्दों की पहचान करने से जुड़ी हैजहां अधिक प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पादशिक्षा और कौशल स्तरमहिला श्रम बल भागीदारीसामाजिक सुरक्षा कवरेजजनसांख्यिकीय चरण आदि के सन्दर्भ में देशों के बीच भारी अंतर मौजूद है। हम विभिन्न अनुभवों के साथ यहां आते हैं और यही हमारी ताकत है। वैश्विक कौशल अंतररोजगार के नए रूपगिग और प्लेटफॉर्म अर्थव्यवस्था का उदयप्रभावी सामाजिक सुरक्षा का विस्तारसामाजिक सुरक्षा का स्थायी वित्तपोषण और अंतर्राष्ट्रीय श्रम बल गतिशीलता के मुद्दों पर हम सभी को कुछ योगदान देना है।

इन मुद्दों के बीचजी20 प्रक्रियाओं और एल-20 जैसे विचार-विमर्श समूहों की भागीदारी को आपस में जोड़ने वाले घटकश्रम कल्याण की प्रगति से जुड़ी प्रतिबद्धता को सशक्त बना रहे हैं और इन्हें 'एक पृथ्वीएक परिवारएक भविष्यके विज़न में निहित समानता और सामाजिक न्याय के सिद्धांतों से मार्गदर्शन प्राप्त हो रहा है। 

***********

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर