उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के तुलसी पुरस्कार श्री आनन्द कुमार सिंह, भोपाल, यशपाल पुरस्कार श्री रामजी भाई,पाण्डेय बेचन शर्मा ‘उग्र’ पुरस्कार श्री राजगोपाल सिंह वर्मा, आगरा,श्रीधर पाठक पुरस्कार श्री शंकर जी सिंह, बलिया, सहित अनेक साहित्यकार सम्मानित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के 46वें स्थापना दिवस के शुभ अवसर पर शुक्रवार, 30 दिसम्बर, 2022 के शुभ अवसर पर वर्ष 2021 में प्रकाशित पुस्तकों पर देय पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन यशपाल सभागार, हिन्दी भवन, लखनऊ में पूर्वाह्न 11.00 बजे किया गया। सम्माननीय अतिथिगण डॉ0 रामकठिन सिंह, वरिष्ठ साहित्यकार, डॉ0 सुधाकर अदीब, वरिष्ठ कथाकार, लखनऊ, आमंत्रित थे। दीप प्रज्वलन, माँ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण, पुष्पार्पण के उपरान्त प्रारम्भ हुए कार्यक्रम में निराला जी अमर पंक्तियाँ ‘वर दे वीणा वादिनी वर दे‘ की संगीतमय प्रस्तुति रिद्धिमा श्रीवास्तव द्वारा प्रस्तुत की गयी। आंमत्रित वरिष्ठ साहित्यकार, श्री रामकठिन सिंह एवं वरिष्ठ कथात्कार, डॉ0 सुधाकर अदीब का उत्तरीय द्वारा स्वागत श्री आर0पी0सिंह, निदेशक, उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा किया गया। अभ्यागतो का स्वागत करते हुए संस्थान के निदेशक, श्री आर0पी0सिंह ने कहा - उ0प्र0हिन्दी संस्थान के स्थापना दिवस की अनन्त शुभकामनाएँ।
उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान की स्थापना 30 दिसम्बर, 1976 को जिन उद्देश्यों को लेकर की गयी थी उनके प्रति हम निरन्तर सजगता से दृढ़ संकल्प होकर कार्य करते रहते हैं। साहित्यकारों/हिन्दी प्रमियों का सम्बल हमें प्राप्त होता रहता है। आज के दिन हिन्दी संस्थान परिवार संकल्प लेता है कि हम इसी प्रकार हिन्दी भाषा एवं साहित्य के साथ-साथ अन्य भारतीय भाषाओं के उन्नयन के प्रति भी सदैव की भांति समर्पित रहेंगे। इसी क्रम में रिद्धिमा श्रीवास्तव जिन्होंने वाणी वंदना प्रस्तुत की उनका भी स्वागत है। हमारे आमंत्रण पर पधारे सभी हिन्दी प्रेमियों का स्वागत है आपका सब का सहयोग हमें निरन्तर मिलता रहता है, मीडिया कर्मियों का स्वागत एवं आभार। डॉ0 सुधाकर अदीब ने कहा- साहित्य सृजन अत्यन्त महत्वपूर्ण दायित्व है हम समाज के लिए रचते हैं और समाज को दिशा भी देते हैं पूर्वज साहित्यकारों से भी हम बहुत कुछ प्राप्त करते है। डॉ0 रामकठिन सिंह ने कहा - बच्चो के लिए लिखने से पूर्व हमें उन विषयों का चयन करना चाहिए जिनसे उनमें संस्कार विकसित हो सकें।
स्थापना दिवस के अवसर पर उ0प्र0हिन्दी द्वारा अयोजित नामित पुरस्कार से सम्मानित श्री तुलसी पुरस्कार श्री आनन्द कुमार सिंह, भोपाल, जयशंकर प्रसाद पुरस्कार श्री विष्णु सक्सेना, गाजियाबाद, श्रीधर पाठक पुरस्कार श्री शंकर जी सिंह, बलिया, निराला पुरस्कार श्री कुमार ललित, आगरा, दुष्यंत कुमार पुरस्कार श्री जसवीर सिंह ‘हलधर‘, देहरादू, महावीर प्रसाद द्विवेदी प्रो0वीना शर्मा, आगरा, भारेन्दु हरिश्चन्द्र पुरस्कार श्री जयवर्धन, गाजियाबाद, प्रेमचन्द्र पुरस्कार श्री श्याम बिहारी श्यामल, वाराणसी, यशपाल पुरस्कार श्री रामजी भाई, लखनऊ, रामचन्द्र शुक्ल पुरस्कार श्री करुणा शंकर उपाध्याय, मुम्बई, सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ पुरस्कार श्री जयश्री पुरवार, नोएडा, पाण्डेय बेचन शर्मा ‘उग्र’ पुरस्कार श्री राजगोपाल सिंह वर्मा, आगरा, मलिक मुहम्मद जायसी पुरस्कार श्री आशाराम ‘जागरथ’, अयोध्या, जगन्नाथदास रत्नाकर पुरस्कार श्री महेश चन्द जैन ‘ज्योति’, मथुरा, मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार श्री प्रताप नारायण दुबे ‘प्रताप’, झांसी, सूर पुरस्कार श्रीमती श्रद्धा पाण्डेय, गाजियाबाद, कबीर पुरस्कार डॉ. अम्बिकेश त्रिपाठी, प्रतापगढ़ , सुब्रह्मण्य भारती पुरस्कार श्री वृजभूषण राय ‘वृज’, गोरखपुर, बाबूराव विष्णु पराड़कर पुरस्कार श्री नरेन्द्र नाथ मिश्र, वाराणसी, सरस्वती पुरस्कार सम्पा. डॉ0 शोभनाथ शुक्ल, संल्तानपुर, भगवानदास पुरस्कार डॉ. रामजी मिश्र, प्रयागराज, हजारी प्रसाद द्विवेदी पुरस्कार श्री रजनीश कुमार शुक्ल, वर्धा, पं. रामनरेश त्रिपाठी पुरस्कार डॉ. मन्नू यादव ‘कृष्ण’, मिर्जापुर, बाबू श्याम सुन्दरदास पुरस्कार डॉ0 वन्दना वशिष्ठ, हापुड़, सम्पूर्णानन्द पुरस्कार डॉ. विनोद कुमार शर्मा, लखनऊ, के.एन. भाल पुरस्कार श्री राजा भइया गुप्ता ‘राजाभ’, लखनऊ,
बीरबल साहनी पुरस्कार श्री सुबोध कुमार, गौतमबुद्धनगर, पं. सत्यनारायण शास्त्रा पुरस्कार डॉ. श्रीधर द्विवेदी, नोएडा, आचार्य नरेन्द्र देव पुरस्कार श्री बृजलाल, लखनऊ, गोविन्दवल्लभ पंत पुरस्कार सुश्री अशोक कुमारी, संत रविदास नगर, डॉ. भीमराव अम्बेडकर पुरस्कार कुँवर अनुपम सिंह, लखनऊ, डॉ. धीरेन्द्र वर्मा पुरस्कार श्री रूमाल सिंह, बुलंदशहर, बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ पुरस्कार श्री अंकुर मिश्रा, कानपुर, महादेवी वर्मा पुरस्कार डॉ. चम्पा कुमारी सिंह, वाराणसी सर्जना पुरस्कार से सम्मानित अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’ पुरस्कार श्री उमाशंकर गुप्त, कानपुर, जगदीश गुप्त पुरस्कार श्री विनोद शंकर शुक्ल ‘विनोद’, लखनऊ, विजयदेव नारायण साही पुरस्कार श्री प्रवीण कुमार, मेरठ, बलबीर सिंह ‘रंग’ पुरस्कार श्री कमल किशोर मिश्र, कमल ‘मानव’,शाहजहाँपुर, अदम गांडवी पुरस्कार श्री चन्द्रभाल सुकुमार, वाराणसी, गुलाब राय पुरस्कार श्री रामावतार गाजीपुर, मोहन राकेश पुरस्कार डॉ0 अरुण कुमार एवं श्री एल0के0 कान्तेश, कानपुर, अमृतलाल नागर पुरस्कार सुश्री सुमति सक्सेना लाल, दिल्ली, नरेश मेहता पुरस्कार श्री सुभाषचन्द्र गांगुली, प्रयागराज रामबिलास शर्मा पुरस्कार डॉ0 प्रेमचन्द्र सिंह, कुशीनगर, निर्मल वर्मा पुरस्कार श्री संजय सिंह, गाजियाबाद, विष्णु प्रभाकर पुरस्कार प्रो0 राजमणि शर्मा, वाराणसी, शरद जोशी पुरस्कार, डॉ0 निर्मला सिंह ‘निर्मल’, लखनऊ, वंशीधर शुक्ल पुरस्कार डॉ. दयाराम मौर्य ‘रत्न’, प्रतापगढ, रामशंकर शुक्ल ‘रसाल’ पुरस्कार श्री तेजवीर सिंह ‘तेज’, मथुरा, भिखारी ठाकुर पुरस्कार, श्री संजीव कुमार त्यागी, गाजीपुर, ईसुरी पुरस्कार श्री कृष्णमोहन नायक, गांधीनगर महोबा, सोहन लाल द्विवेदी पुरस्कार श्री रमेश चन्द्र गोयल (रमेश प्रसून), बुलंदशहर, नज़ीर अकबराबादी पुरस्कार श्री अरविंद पांडेय, चंदौल, काका कालेलकर पुरस्कार श्री पद्मनाभ पाण्डेय, लखनऊ, धर्मवीर भारती पुरस्कार श्री हरिमोहन वाजपेयी ‘माधव’, लखनऊ, धर्मयुग पुरस्कार सम्पा0 श्री कृष्ण बिहारी त्रिपाठी, कानपुर, नन्द किशोर देवराज पुरस्कार श्री राम जन्म सिंह, गोरखपुर विद्यानिवास मिश्र पुरस्कार सुश्री शशिप्रभा तिवारी, दिल्ली, बलभद्र प्रसाद दीक्षित ‘पढ़ीस’ पुरस्कार सुश्री राधिका मिश्रा, प्रयागराज, दौलत सिंह कोठारी पुरस्कार श्री इश्पाक अली, बंग्लौर, होमी जहांगीर भाभा पुरस्कार डॉ. आलोक कुमार श्रीवास्तव, लखनऊ, आचार्य रघुवीर प्रसाद त्रिवेदी पुरस्कार सुश्री जया द्विवेदी, प्रयागराज, ईश्वरी प्रसाद पुरस्कार डॉ0 कृष्ण कुमार पाण्डेय, गोरखपुर, के.एम. मुंशी पुरस्कार डॉ. मंजरी दमेले, एवं डॉ. कमलेश गुप्ता, झॉसी जे.के. मेहता पुरस्कार डॉ. विजय सिंह राघव, बरेली, किशोरदास वाजपेयी पुरस्कार श्री अकबाल बहादुर ‘राही’, बाराबंकी, डॉ. रांगेय राघव पुरस्कार श्री अरुण कुमार ‘मानव’, मेरठ, विद्यावती कोकिल पुरस्कार सुश्री नीतू मुकुल, महोबा, हरिवंश रायबच्चन युवा गीतकार सम्मान श्री राहुल द्विवेदी ‘स्मित’, लखनऊ, पं. बद्री प्रसाद शिंगलू स्मृति सम्मान सुश्री रजनी गुप्ता, लखनऊ को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ0 अमिता दुबे, प्रधान सम्पादक उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर