अद्भुत दीपक!

नेशनल मेरिट एवार्ड से सम्मानित कुम्हार पाड़ा कोंडागांव (बस्तर) निवासी श्री अशोक चक्रधारी ने बनाया है अद्भुत दीपक! माटी के दिए के ऊपर गुम्बद में तेल भरकर दिए को ऊपर करते हुए पलट कर रख देते हैं, गुम्बद की टोंटी में से तेल टपक कर दिया भर जाता है।जैसे ही दिया भर जाता है वैसे ही टोंटी में से तेल की धार कम होकर स्वत: बंद हो जाती है और जब दिये का तेल कम होने लगता है पुन: टोंटी का तेल बूंद-बूंद करके और बहुत धीरे धीरे टपकना शुरू हो जाता है। यह दिया लगातार बारह से चौबीस घंटे तक जल सकता है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !