गैर पारंपरिक क्षेत्र में भी स्वरोजगार के अवसर: कार्यकारी संचालक

सेडमैप चैंजमेकर क्लब का प्रथम आयोजन
भोपाल। गैर-पारंपरिक क्षेत्र में रोजगार-स्वरोजगार की संभावनाओं को तलाशने के उद्देश्य से गठित सेडमैप चैंजमेकर क्लब द्वारा उद्यमिता भवन में ‘‘ओपन माइक शो’’ का आयोजन किया गया। कॉलेज छात्र-छात्राओं ने मिलकर गीत-संगीत से भरपूर यादगार कार्यक्रम प्रस्तुत किया। दर्शकों ने मनमोहक कार्यक्रम में प्रत्येक कलाकार का भरपूर समर्थन किया। कॉमेडियन, मिमिक्री, कहानीकार, गायक, कवि, चित्रकार और बैण्ड प्रस्तुतियांे ने दर्शकों को मनोरंजन से भरपूर दुनिया की सैर कराई। इस अवसर पर उद्यमिता विकास केंद्र मध्यप्रदेश (सेडमैप) की कार्यकारी संचालक श्रीमती अनुराधा सिंघई ने बताया कि युवा अपनी रूचि, इच्छाओं, आकांक्षाओं को आजीविका से जोड़ सकें इसके लिए मध्यप्रदेश के सभी 52 जिलों में चेंजमेकर क्लब विकसित किए जा रहे हैं, एक वर्ष में 30 लाख युवाओं को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है, जो युवाओं को एक मंच प्रदान करेगा, जिससे उन्हें सॉफ्ट स्किल एवं हार्ड स्किल के विकास हेतु एक नया आयाम मिलेगा। इस मंच के माध्यम से युवाओं को अपनी प्रतिभा दिखाने का अवसर मिलेगा, जिससे वह अपने जीवन स्तर को ऊंचा उठा सकेंगे। उन्होंने बताया कि चैंजमेकर क्लब के माध्यम से एक ऐसा वातावरण निर्मित करना है, जिससे युवाओं के भीतर छिपी योग्यता एवं क्षमता विकसित हो सके। उन्होंने कहा कि सामाजिक परिवर्तन के लिए जरूरी है कि युवा पहले स्वयं के जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाएं। चैंजमेकर्स प्रोग्राम के माध्यम से युवाओं को टिकाऊ आजीविका एवं समृद्धि प्रदान करने के उद्देश्य से प्रतिभाओं को तराशा जाएगा। चैंजमेकर्स कार्यक्रम कई नए कलाकारों के लिए एक मंच प्रदान करना और इनोवेटर्स के जरिए नए रास्ते को खोलने की कुंजी है। अरेरा हिल्स स्थित उद्यमिता भवन में चैंजमेकर क्लब का पहला सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किया गया। युवाआंे के लिए, युवाओं द्वारा संचालित ओपन माइक शो के माध्यम से, एक ऐसा कार्यक्रम आयोजित किया गया जो युवाओं के भीतर छिपे कलाकार की कला को बाहर लाता है। कार्यक्रम में नई ऊर्जा और उत्साह के साथ कुछ उभरती हुई प्रतिभाएं सामने आईं, जिन्हें सेडमैप की कार्यकारी संचालक श्रीमती अनुराधा सिंघई और ज्यूरी सदस्यों ने सम्मानित किया। सेडमैप के पीएमयू प्रमुख डॉ. वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि चैंजमेकर्स प्रोग्राम एक बड़ी सोच के साथ प्रारंभ किया गया है, और इस प्रकार के प्रोग्राम निरंतर जारी रहेंगे ताकि सेडमैप अपने लक्ष्य की पूर्ति सरलतापूर्वक कर सके। कार्यक्रम में संगीत के सुखदायक पलों का दर्शकों ने अनुभव किया तो मिमिक्री ने गुदगुदाया भी। गीत गायन, माउथ बीट और स्टोरी टेलिंग का भावपूर्ण प्रदर्शन भी मनमोहक रहा। सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुति के लिए मयूख को 11 हजार रूपए एवं ट्राफी प्रदान की गई। जबकि सभी प्रतिभागियों को सेडमैप की ओर से प्रमाण-पत्र एवं स्मृति चिन्ह वितरित किए गए। कार्यक्रम में 35 से अधिक प्रतिभागी जोश और उत्साह से सम्मिलित हुए। सभी ने कार्यक्रम को भरपूर सराहा। विनायक ग्रुप के बंसी बैण्ड ने एक से बढ़कर एक गीत पेश किए तो किसी ने यात्रा संस्मरण, दादाजी की चिट्ठियों से जुड़े किस्से सुनाए। चित्रकला और एकल संगीत की प्रस्तुति भी मनभावन रही। कार्यक्रम का संचालन प्रिया प्रकर्ष ने किया। पुरस्कार वितरण के साथ ही रिशिता, मोहम्मद इलियास, अक्षत सिंह, एंजेला, और जान्हवी ने कार्यक्रम को सफल बनाने में योगदान देने वालों के प्रति आभार व्यक्त किया।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर