बाढ़ कार्यों के गुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन और बाढ़ से होने वाली सम्भावित क्षति को न्यून से न्यूनतम करने हेतु सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग तत्पर एवं दृढ़ संकल्प -जलशक्ति मंत्री, श्री स्वतंत्र देव सिंह

लखनऊः दिनांकः 18 जनवरी, 2023 उत्तर प्रदेश सरकार के जलशक्ति मंत्री श्री स्वतंत्र देव सिंह ने आज यहां तेलीबाग स्थित डा राम मनोहर लोहिया परिकल्प भवन स्थित सभागार में ‘‘बाढ़ पर चिंतन’’ विषय पर विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक की। इस अवसर पर बाढ़ से बचाव के संबंधी कार्य करने वाले विभिन्न संगठनों द्वारा बाढ़ प्रबंधन हेतु किए गए कार्य एवं महत्वपूर्ण सुझाव भी दिया गया। इसके साथ ही विभिन्न संगठनों द्वारा बाढ़ बचाव संबंधी अब तक पूर्ण की गयी परियोजनाओं की सक्सेस स्टोरी, वर्तमान में निर्माणाधीन तथा भविष्य की परियोजनाओं के बारे में प्रशतुतिकरण भी दिया गया। जल शक्ति मंत्री ने इस अवसर पर कहा कि निर्माणाधीन बाढ़ परियोजनाओं के समस्त कार्य किसी भी स्थिति में रुकने ना पाएँ तथा आगामी 15 जून तक अवश्य पूर्ण करा लिए जांय जिससे जनता को उनका अधिकतम लाभ प्राप्त हो सके। निर्माणाधीन परियोनाओं से संबंधित समस्त अवर अभियंताओं का एक व्हाट्सऐप ग्रूप बनाया जाय जिसपर किसी भी निर्माणाधीन परियोजना के कार्य रुकने की स्थिति में तसमय सूचित किया जाय एवं तत्काल उच्च अधिकारियों द्वारा उसका समाधान कराया जाय। जल शक्ति मंत्री ने कहा कि विगत वर्षों की भाँति वर्ष 2023 में भी प्रदेश में बाढ़ कार्यों की परियोजनाओं को अभियान चलाकर पूर्ण करायें। उत्तर प्रदेश राज्य बाढ़ नियंत्रण परिषद की स्थायी संचालन समिति के द्वारा कुल 288 बाढ़ परियोजनाएं अनुमोदित की गयी, जिन्हें आगामी वर्षाकाल के पूर्व युद्ध स्तर पर कार्य कराकर पूर्ण करा लिया जाय। परियोजनाओं के गठन में नवीन तकनीकी विधियों का समावेश किया जाए। बाढ़ परियोजनाओं के क्रियान्वयन धरातल पर पूर्ण पारदशिर्ता से एवं गुणवत्तापूर्ण ढंग से सुनिश्चित कराएं। परियोजना के पूर्ण हो जाने पर क्षेत्रीय जनता को अत्यधिक लाभ होगा एवं बाढ़ कार्य के समय जान-माल की सुरक्षा हो सकेगी। जल शक्ति मंत्री ने इस अवसर पर कहा कि मा0 मुख्यमंत्री जी के कुशल नेतृत्व में सम्पूर्ण प्रदेश, विशेषकर सिंचाई विभाग चहुँमुखी प्रगति पर है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में विभाग के अधिकारियों द्वारा दिन-रात सजग रहकर बाढ़ कार्यों का सम्पादन कर संवेदनशील स्थलों को सुरक्षित किया गया एवं जनधन की हानि होने नहीं दी गयी। बाढ़ परियोजनाओं के कार्य मानसून के पूर्व पूरे होने से जनता जनार्दन की बाढ़ के भय से मुक्त होकर सुरक्षित जीवन यापन की कल्पना साकार हुई है। इससे प्रदेश में बाढ़ प्रभावित जनपदों एवं संवेदनशील क्षेत्रों की जनता लाभान्वित हुई तथा आबादी व कृषि योग्य भूमि सुरक्षित हुई। जल शक्ति मंत्री ने कहा कि प्रदेश विकास के पथ पर तेजी से अग्रसर है। बाढ़ कार्यों के गुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन और बाढ़ से होने वाली सम्भावित क्षति को न्यून से न्यूनतम करने हेतु सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग तत्पर एवं दृढ़ संकल्प है। इस संकल्प का मूल तत्व सबका साथ, सबका विकास एवं सबका विश्वास है। श्री सिंह ने इस अवसर पर विभागीय अधिकारियों की सराहना भी की और कहा कि प्रदेश में अधिकांश नदियाँ विगत वर्षों की अपेक्षा इस वर्ष खतरे के निशान से ऊपर अत्यधिक लम्बी अवधि तक रही परन्तु विभागीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा तत्परता से अत्यन्त सूझ-बूझ का परिचय देते हुए तत्काल आवश्यक सुरक्षात्मक कार्य कराये गये। श्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के यशस्वी मा0 मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की प्रेरणा से सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के नई बाढ़ परियोजनाओं को प्रदेश में विधान सभा निवार्चन होने के उपरान्त युद्धस्तर पर प्रारम्भ किया गया और बाढ़काल से पूर्व सीमित समय में पूर्ण पारदर्शिता एवं गुणवत्ता के साथ समयबद्ध रूप से पूर्ण किया गया। समुचित नीति के अभाव में प्रायः नई बाढ़ परियोजनाएँ अत्यन्त विलम्ब से प्रारम्भ हो पाती थी तथा बाढ़ के पूर्व परियोजनाओं के पूर्ण न होने से प्रदेश वासियों को अत्यन्त कठिनाईयों का सामना करना पड़ता था, परंतु वर्तमान सरकार ने इस समस्या को दूर कर तेजी से परियोजनाओं को पूरा करा रही है। बाढ़ पर चिंतन विषय पर आयोजित बैठक में प्रमुख सचिव, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग श्री अनिल गर्ग, विशेष सचिव श्रीमती अनीता सिंह वर्मा, प्रमुख अभियन्ता एवं विभागाध्यक्ष श्री एन0सी0 उपाध्याय, प्रमुख अभियंता यंत्रिक श्री देवेंद्र अग्रवाल, प्रमुख अभियन्ता (परि0 एवं नियो0) श्री ए0के0 जैन, मुख्य अभियन्ता, अनु0 एवं नियो0 (बाढ़) श्री के0बी0 लाल, अधीक्षण अभियन्ता, अनु0 एवं नियो0 (बाढ़) श्री हरिओम् गुप्ता, सहित अन्य सम्बंधित अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

आपकी लिखी पुस्तक बेस्टसेलर बने तो आपको भी सही निर्णय लेना होगा !

पौष्टिकता से भरपूर: चंद्रशूर