राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान का हुआ भव्य आरंभ कवि सम्मेलन


 


साहित्य समागम कार्यक्रम आरंभ का आयोजन राज्य कर्मचारी साहित्य संस्थान उत्तर प्रदेश द्वारा लखनऊ विश्वविद्यालय के समाज कार्य विभाग राधाकमल मुखर्जी सभागार में दिनांक 7 जनवरी 2024 को किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के अध्यक्ष डॉ अखिलेश कुमार मिश्रा आईएएस द्वारा किया गया। कार्यक्रम अत्यंत ही सरगर्वित रहा।  आई.ए.एस. अखिलेश कुमार मिश्रा,आई.पी.एस अखिलेश निगम,पूजा यक्ष, दीपू सिंह चौहान, सरला शर्मा,

 विजय त्रिपाठी,सुनील बाजपेई

,इंद्रासन सिंह इंदू,मनीष गुप्त कबीर,गीतिका चतुर्वेदी,सुधा मिश्रा ,रामराज भारती,श्रवण कुमार द्वारा किए गए काव्य पाठ से श्रोतागण झूम उठे।हर कवियों ने अपनी कविता से समाज के विभिन्न रंगों से लोगों को परिचित भी कराया।

कार्यक्रम में संस्थान की महामंत्री डॉ सीमा गुप्ता ने संस्थान की विभिन्न गतिविधियों से लोगों को परिचित कराया। साथ में ही संस्थान के विभिन्न उपलब्धियों और आगामी योजना से भी लोगों को अवगत कराई। महामंत्री डॉ. सीमा गुप्ता ने बताया कि संस्थान द्वारा उत्कृष्ट पुस्तकों के लिए 1-1लाख धनराशि के 24 पुरस्कारों का वितरण फरवरी 2024 में किया जाना है और पुस्तकों के आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 20 जनवरी 2024 है।


कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिलेश निगम आईपीएस द्वारा इस कार्यक्रम को अत्यंत ही सारगर्भित एवं संदेशपरक बताया गया। संस्थान के अध्यक्ष डॉ अखिलेश कुमार मिश्रा आईएएस द्वारा बताया गया कि शीघ्र ही संस्थान द्वारा कई नए साहित्यिक प्रोग्राम लॉन्च किए जाने हैं जिसमें परिचयात्मक कार्यक्रम,चरण स्पर्श,कार्यशाला, साहित्य एक प्रतियोगिता, कवि मंच के नए कलेवर साहित्य जगत के लिए अत्यंत ही खास होने वाला है। कार्यक्रम में वाणी वंदना डॉ हरि अग्रवाल द्वारा,  स्वागत भाषण डॉ उमेश चंद्र वर्मा, एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉक्टर दिनेश चंद्र अवस्थी द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर संस्थान के अधिकांश सदस्य पदाधिकारी मौजूद थे और देश-विदेश के सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं अन्य श्रोतागण भी मौजूद रहे।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,