जननायक श्री राहुल गांधी जी ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के माध्यम से सभी पृष्ठभूमि के लोगों से मिल रहे हैं-ममता चौधरी

 


लखनऊ, 06 फरवरी 2024।


जननायक श्री राहुल गांधी जी ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ के माध्यम से सभी पृष्ठभूमि के लोगों से मिल रहे हैं। श्री राहुल गांधी जी के द्वारा लगातार चलाए जा रहे अभियान के जो पांच न्याय हैं- युवा न्याय, नारी न्याय, किसान न्याय, आर्थिक न्याय, भागीदारी न्याय, जिनको लेकर श्री राहुल गांधी जी पूरे देश में भारत जोड़ो न्याय यात्रा के माध्यम से अलख जगा रहे हैं, इसी क्रम में उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस भी प्रदेश में अधिक से अधिक महिलाओं से मिलकर उनकी समस्याओं को जानने एवं समझने हेतु लगातार प्रयासरत है। हमें अलग-अलग सुझाव मिले हैं और हम ’नारी न्याय’के रूप में अपनी मांगों को रेखांकित कर रहे हैं। उक्त बातें आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पर आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस कमेटी मध्य जोन की अध्यक्ष श्रीमती ममता चौधरी जी ने कहीं। उन्होंने मीडिया के माध्यम से केंद्र एवं प्रदेश की भाजपा सरकार से ‘‘ नारी न्याय’’ के तहत निम्न मांगे की।

1) आर्थिक सशक्तिकरण
श्रीमती ममता चौधरी ने कहा कि महंगाई/ मूल्य वृद्धि - लगातार महंगाई और इसे नियंत्रित करने में सरकार की विफलता के कारण महिलाओं के लिए अपना घर चलाना मुश्किल हो गया है, जिसमें एलपीजी गैस, खाद्य तेल, खाद्यान्न, किराने का सामान जैसी आवश्यक वस्तुओं की कीमतों को विनियमित करने में विफलता भी शामिल है। इसलिए इन सभी वस्तुओं की कीमत को आपातकालीन आधार पर विनियमित और नियंत्रित करने और उस पर पर्याप्त सब्सिडी प्रदान करने की आवश्यकता है।

महिला कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि समान काम के लिए समान वेतन - विश्व असमानता रिपोर्ट 2022 के अनुसार, भारत में पुरुष श्रम आय का 82 प्रतिशत कमाते हैं, जबकि महिलाएं इसका 18 प्रतिशत कमाती हैं। इसके अलावा कृषि और वेतनभोगी वर्ग में लगी महिलाएं पुरुषों की तुलना में लगभग 20 प्रतिशत कम कमाती हैं। इसलिए हम मांग करते हैं कि सरकार को यह सुनिश्चित करने के लिए नियम लाने की जरूरत है कि लिंग-अंतर समानता को जल्द से जल्द पाटा जाए।

2) सामाजिक सशक्तिकरण
श्रीमती ममता चौधरी ने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल/प्राथमिक प्रसव केंद्र - कांग्रेस शासन के दौरान, गांवों में खोले गए अधिकांश प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र अब या तो बंद हो गए हैं या बिना किसी मेडिकल स्टाफ के संचालित हो रहे हैं। महिलाओं के लिए बुनियादी स्वास्थ्य देखभाल ढांचे का पूरी तरह से अभाव है और भारत में 15 से 49 वर्ष की आयु की अधिकांश 57þ महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं। इसके अलावा गांवों में प्रसव केंद्रों की कमी का मतलब है कि महिलाओं को प्रसव के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है, जिससे जोखिम बढ़ जाता है और सबसे गंभीर चरण में महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा पैदा हो जाता है। सरकार को पूरे भारत में, खासकर ग्रामीण इलाकों में बुनियादी स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को सुनिश्चित करने के साथ-साथ एक व्यापक स्वास्थ्य पैकेज लाने की जरूरत है।

उन्होंने मांग करते हुए कहा कि शिक्षा - कांग्रेस ने सभी के लिए मुफ्त प्राथमिक शिक्षा शुरू करने में मदद की और आईआईटी और आईआईएम सहित कई प्रतिष्ठित संस्थान स्थापित किए। भारत में शिक्षा व्यवस्था चरमरा रही है और भाजपा सरकार शिक्षा के लिए बजटीय आवंटन लगातार कम कर रही है। भारत में प्राथमिक और मध्य विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है और सरकार इन पदों को जानबूझकर अतिथि शिक्षकों से नहीं भर रही है क्योंकि सेवा शर्तों को हटाने के साथ उन्हें कम पारिश्रमिक पर रखना आसान है। साथ ही स्कूल जाने वाली लड़कियाँ सुरक्षित महसूस नहीं करतीं और देशभर से स्कूल जाते समय लड़कियों को परेशान किए जाने की कई खबरें आती रहती हैं। युवा लड़कियों को शारीरिक, मानसिक और साइबर हिंसा से बचाने के लिए बुनियादी सुरक्षा सुनिश्चित करने के साथ-साथ शिक्षा को सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए।

श्रीमती ममता चौधरी ने कहा कि स्वच्छता/शौचालय - भारत में अधिकांश महिलाएं शौचालयों और स्वच्छता सुविधाओं की कमी के कारण सार्वजनिक स्थानों पर भाग लेने में असमर्थ हैं और गंभीर स्वच्छता संबंधी समस्याओं से पीड़ित हैं। सरकार के ’स्वच्छ भारत अभियान’ के बावजूद, अधिकांश गांवों में बुनियादी शौचालयों और स्वच्छता सुविधाओं का अभाव है और निचली जातियों की बस्तियों में विशेष भेदभाव होता है। हमारी मांग है कि शहरों और गांवों में हर 5 किलोमीटर की दूरी पर महिलाओं के लिए मुफ्त सार्वजनिक शौचालय स्थापित किए जाएं।

3) राजनीतिक सशक्तिकरण
श्रीमती ममता चौधरी ने राजनीति के क्षेत्र में महिलाओं की बात करते हुए कहा कि राजनीतिक प्रतिनिधित्व - कांग्रेस ने पंचायत स्तर पर महिलाओं के लिए आरक्षण प्रदान करने वाला पंचायती राज अधिनियम लाया, जिससे जमीनी स्तर पर लाखों महिलाओं को प्रतिनिधित्व मिला। हम महिला आरक्षण अधिनियम को तत्काल लागू करने के लिए भी प्रतिबद्ध हैं और इसकी मांग करते हैं। हालाँकि, भाजपा महिला प्रतिनिधित्व अधिनियम में बाधा डालकर और इसके कार्यान्वयन को अनिश्चित काल के लिए निलंबित करके भारत की महिलाओं के खिलाफ एक बड़ा धोखा कर रही है। यह वर्तमान सरकार के कई जुमलों में से एक है जो पर्याप्त प्रतिनिधित्व की पेशकश किए बिना भारतीय महिलाओं के वोटों को लुभाने की कोशिश कर रही है। हम महिला आरक्षण अधिनियम के तत्काल कार्यान्वयन और आगामी लोकसभा चुनावों के दौरान इसके प्रभावी कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए सरकार की दृढ़ प्रतिबद्धता का आह्वान करते हैं। हिंसा के खिलाफ संरक्षण और न्याय की आवश्यकता - भाजपा सरकार ने महिलाओं के खिलाफ सबसे जघन्य अपराध करने वालों की रक्षा करके, बिलकिस बानो मामले में अपराधियों को रिहा करने, मणिपुर मामले में बहरा कर देने वाली चुप्पी के साथ, न्याय के लिए महिलाओं की लड़ाई पर एक शैतानी रुख दिखाया है। महिला पहलवान मामले में बीजेपी सांसद को बचाना ताजा मामला है। हम भाजपा की महिला नेताओं सहित सरकार से मांग करते हैं कि महिलाओं के खिलाफ लगातार हो रहे अन्याय के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया जाए, जिसमें महिलाओं के खिलाफ इस्तेमाल की जाने वाली अपमानजनक भाषा और सड़कों और ऑनलाइन पर बेरोकटोक ट्रोल संस्कृति के खिलाफ प्रभावी कदम उठाए जाएं।

महिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती ममता चौधरी ने कहा कि महिलाओं की गरिमा - भाजपा के शासनकाल के दौरान, हमने महिलाओं की गरिमा का लगातार उल्लंघन होते देखा है और भाजपा नेता अपने संवैधानिक अधिकारों के अनुरूप अपने मन की बात कहने वाली महिलाओं के खिलाफ सख्त गैरकानूनी कार्रवाई कर रहे हैं। हम इसकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं और यह सुनिश्चित करने का आह्वान करते हैं कि सभी नागरिकों की तरह महिलाओं को भी उनके निजी जीवन के सभी पहलुओं में संवैधानिक सुरक्षा और सम्मान सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने कहा कि हम अखिल भारतीय महिला कांग्रेस में इस देश के संवैधानिक मूल्यों और उन महिलाओं के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं जो इस देश की आधी आबादी हैं लेकिन जिनके मुद्दे पूरे देश को प्रभावित करते हैं।

प्रेसवार्ता में उत्तर प्रदेश महिला कांग्रेस की प्रभारी श्रीमती विद्या नेगी, जोनल अध्यक्ष बुन्देलखण्ड करिश्मा ठाकुर, पूर्वी शहला अहरारी, सुशीला शर्मा, अनामिका यादव, मेहताब जायसी, सुषमा मिश्रा, सिद्धीश्री, सौम्या, शीला मिश्रा, विभा त्रिपाठी, लता दुबे, सुमन प्रजापति, डॉ0 पूर्णिमा, सुनीता, रज़िया कादिर, सुशीला रावत, आशा कनौजिया आदि प्रमुख रूप से मौजूद रही।


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,