शब्द निष्ठा पुरस्कार- 2025



आचार्य रत्न लाल 'विद्यानुग' स्मृति अखिल भारतीय स्तर की ग्यारहवीं शब्द निष्ठा प्रतियोगिता (क) एवं (ख) के अन्तर्गत शब्द निष्ठा पुरस्कार- 2025 हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित की जाती हैं। प्रविष्टि हेतु किसी प्रकार का शुल्क नहीं है। दोनों प्रतियोगिताएँ इस बार सभी के लिए खुली हुई हैं अर्थात् नये अथवा शब्द निष्ठा के पूर्व में किसी भी विधा में पूर्व विजेता भी भाग ले सकते हैं। दोनों प्रतियोगिताओं की कुल पुरस्कार राशि ₹ 31000 है।


प्रतियोगिता के लिए नियम व शर्तें 

(क) कहानी-संग्रह पुरस्कार :

इसके अन्तर्गत जनवरी, 2024 से दिसम्बर, 2024 के बीच प्रकाशित कहानी-संग्रह की एक प्रति भेजनी होगी। इस हेतु केवल एक पुरस्कार ₹ 11000 का देय होगा। 

(ख) लघुकथा पुरस्कार :

इसके अन्तर्गत किसी भी व्यक्ति द्वारा केवल एक लघुकथा एक प्रति में जो मौलिक, अप्रकाशित तथा अप्रसारित हो, भेजी जा सकेगी। इस आशय का प्रमाण पत्र लघुकथा के साथ भेजना अनिवार्य होगा। लघुकथा यथासंभव अधिकतम 300 शब्दों की हो।

इसके अन्तर्गत कुल पुरस्कार राशि ₹ 20000 होगी जिसमें राशि का समायोजन निम्नानुसार किया जाएगा:

प्रथम पुरस्कार: ₹ 5000

द्वितीय पुरस्कार: ₹ 3000

तृतीय पुरस्कार: ₹ 2000

शेष 10 पुरस्कार : ₹ 1000 प्रत्येक के लिए। 

कहानी-संग्रह एवं लघुकथा भेजने की अंतिम तिथि 15 जनवरी, 2025 होगी। परिणाम मार्च, 2025 के अंतिम सप्ताह में घोषित किए जाएँगे।

सभी विजेताओं को पुरस्कार राशि अविलम्ब उनके खाते में ऑनलाइन भेज दी जाएगी। इसके अतिरिक्त उन्हें प्रशस्ति पत्र तथा संस्था की एक पुस्तक रजिस्टर्ड डाक से भेजी जाएगी।  

कृपया प्रविष्टि के साथ अपना लेखकीय परिचय भी भेजें। कोई भी व्यक्ति दोनों प्रतियोगिताओं में भाग ले सकेंगे लेकिन विजेता केवल एक में ही हो सकेंगे।

प्रत्येक प्रविष्टि का निष्पक्षता से मूल्यांकन होगा। परिणाम की घोषणा के साथ ही विजेताओं की लघुकथाएँ शब्द निष्ठा पटल पर रखी जाएँगी।

संयोजक का निर्णय अंतिम तथा सर्वमान्य होगा।

कृपया अपना 2024 में प्रकाशित कहानी-संग्रह तथा लघुकथा संयोजक के पते पर रजिस्टर्ड डाक से अथवा व्यक्तिश: भेजें। मेल अथवा वाट्सएप पर लघुकथा स्वीकार नहीं की जाएगी। 

प्रविष्टि भेजने की अंतिम तिथि 15 जनवरी, 2025 है।

नोट: विज्ञप्ति अंतिम तिथि से लगभग 9 माह पूर्व जारी करने की मंशा यह है कि सम्भागी अंतिम तिथि की प्रतीक्षा न करें, मूल्यांकन का कार्य निर्बाध गति से चलता रहे ताकि कहानी-संग्रह ठीक प्रकार से पढ़े जा सकें।


निवेदक:

डाॅ. अखिलेश पालरिया

(सेवानिवृत्त प्रमुख मुख्य चिकित्सा अधिकारी)

संयोजक 

शब्द निष्ठा पुरस्कार

पता:

कला रत्न भवन,

पाल बिचला,

भरोसा अगरबत्ती ऑफिस के पास,

अजमेर (राज.) 305007



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,