सुल्तानपुर के 6 संपर्क मार्गों के लिए 3 करोड़ 15 लाख 13 हजार धनराशि अवमुक्त


लखनऊः 08.09.2019

उत्तर प्रदेश शासन द्वारा पूर्वांचल विकास निधि में ;राज्यांशद्ध अनुदान संख्या. 56 के अंतर्गत जनपद सुल्तानपुर की 6 परियोजनाओं के  क्रियान्वयन  हेतु वर्ष 2019.20  में अवशेष धनराशि रू 3 करोड़ 15 लाख 13 हजार अमुक्त की गई है ।यह जानकारी देते हुए प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभागए श्री नितिन रमेश गोकर्ण ने बताया की इस संबंध में शासनादेश जारी कर दिया गया है ।सुल्तानपुर के 6 संपर्क मार्गों के लिए रू 11 करोड़ 73 लाख 58 हजार की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की गई थी और 11 करोड़ 49 लाख 81 हजार की तकनीकी स्वीकृति प्रदान की गई ।इन संपर्क मार्गों के लिए 8 करोड़ 34 लाख 68 हजार रुपए की धनराशि पूर्व में ही अवमुक्त की जा चुकी है ।  जारी की गई धनराशि मुख्य विकास अधिकारी के निवर्तन पर रखे जाने की स्वीकृति प्रदान की गई है। इस कार्य  की कार्यदाई संस्था निर्माण खंडए. 3 लोक निर्माण विभाग सुल्तानपुर है।
निर्गत धनराशि से जो कार्य कराये जाने है उनमें जनपद सुलतानपुर में बसुही  से शाहबडेपुर सदरपुर पकड़ी कला परशुरामपुर संपर्क मार्ग एबजेठी  नहर के पुल से नहर की पटरी होते हुए  बुधइयापुर संपर्क मार्ग एकामतागंज बभनगंवा मार्ग से नहर की पटरी होते हुए जगदीशपुर सलाहपुर होते हुए बदरुद्दीनपुर संपर्क मार्ग से बरुआ जगदीशपुर संपर्क मार्ग का  कार्यए  दहलवा पूरब से जंगल होते हुए निषाद बस्ती गोमती किनारे तक संपर्क मार्ग । जुड़ारा वर्मा बस्ती से होते हुए वर्मा पाल बस्ती से उंचहरा पड़ान बस्ती होते हुए पुरुषोत्तम लाल बस्ती तक संपर्क मार्ग और  गौहानी से अजितपुर माइनर से होते हुए जवाहरलाल स्मारक विद्यालय गरयें तक संपर्क मार्ग का निर्माण  कार्य  है।  
शासनादेश में निर्देशित किया गया है यह धनराशि केवल निर्धारित परियोजनाओं पर ही मानक एवं विशिष्टियो के अनुरूप  ही व्यय की जाएगी ।इसका उपयोग किसी प्रयोजन के लिए नहीं किया जाएगा ।इससे  इतर व्यय वित्तीय अनियमितता होगी मुख्य विकास अधिकारी सुल्तानपुर का दायित्व होगा कि स्वीकृत कार्यों के अवशेष  कार्य कड़ी निगरानी में समयबद्ध ढंग से पूर्ण कराए । यह सुनिश्चित किया जाए कि आवंटित  धनराशि  का दुरूपयोग व फंडिंग की डुप्लीकेसी न हो और कार्य समय से पूरे हों।



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,