विश्व में भारतीय संविधान सबसे श्रेष्ठ व जन भावनाओं के अनुरुप -ब्रजेश पाठक

लखनऊः 03 दिसम्बर, 2019

 

उत्तर प्रदेश के विधायी एवं न्याय मंत्री श्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि पूरी दुनिया में भारतीय संविधान सबसे श्रेष्ठ एवं जन भावनाओं के अनुरुप है। भारतवासी अपने संविधान का सबसे अधिक मान करते हैं।

श्री पाठक आज स्थानीय अमीनाबाद इण्टर कालेज के सभागार में भारत के प्रथम राष्ट्रपति डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद जी के जन्म दिवस पर उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा ''भारतीय संविधान की 70वीं वर्षगांठ'' पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर संविधान के मूल कर्तव्यों के सम्बंध में काॅलेज के बच्चों और शिक्षकों तथा उपस्थित गणमान्य नागरिकों को शपथ दिलाई। इस अवसर पर निबन्ध प्रतियोगिता में सफल छात्रों को पुरस्कृत भी किया।

अपने सम्बोधन में श्री पाठक ने कहा कि हमारे देश का संविधान राष्ट्र के समग्र विकास के लिए  प्रेरित करने वाले उच्च आदर्शों का प्रतीक है। यह संविधान भारत की प्रभुता, एकता और अखण्डता की रक्षा करने और उसे अक्षुण्ण रखने की प्रेरणा देता है। उन्होंने कहा कि उच्च आदर्शों से युक्त भारत का संविधान सभी लोगों में समरसता और समान भातृत्व की भावना का निर्माण करता है। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा संविधान है, जो धर्म, भाषा, और प्रदेश अथवा वर्ग पर आधारित सभी भेदभाव से परे है। साथ ही हमारी सामाजिक संस्कृति की गौरवशाली परम्परा का भी द्योतक है।

विधायी एवं न्याय मंत्री ने भूतपूर्व राष्ट्रपति डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि देश की आजादी के बाद संविधान लागू होने पर देश के पहले राष्ट्रपति का पदभार उन्होंने संभाला। राष्ट्रपति के तौर पर उन्होंने कभी भी अपने संवैधानिक अधिकारों में राजनीतिज्ञों को दखलअंदाजी का मौका नहीं दिया और हमेशा स्वतंत्र रुप से कार्य करते रहे।

इस अवसर पर प्रमुख सचिव न्याय श्री दिनेश कुमार सिंह ने भारतीय संविधान की प्रमुख विशेषताओं पर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण के विकास का प्रतीक हमारा संविधान सामाजिक मूल्यों को सुदृढ़ करता है। यह वैज्ञानिक दृष्टिकोण के विकास के साथ ही सार्वजनिक सम्पत्ति की रक्षा करने और व्यक्तिगत व सामूहिक गतिविधि में उत्कृष्टता बढ़ाता है। उन्होंने कहा कि सबको शिक्षा प्रदान करने और नागरिकों के हितों की रक्षा करने में भारतीय संविधान सशक्त भूमिका का निर्वहन कर रहा है। 

इस अवसर पर उ0प्र0 राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव श्री अजय त्यागी, विशेष सचिव न्याय श्री रणधीर सिंह, विशेष सचिव न्याय श्री राजेश उपाध्याय, विशेष सचिव न्याय श्री विपिन सिंह, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव श्रीमती पूर्णिमा सागर, प्रधानाचार्य अमीनाबाद इण्टर काॅलेज सहित बड़ी संख्या में छात्र तथा गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सबसे बड़ा वेद कौन-सा है ?

कर्नाटक में विगत दिनों हुयी जघन्य जैन आचार्य हत्या पर,देश के नेताओं से आव्हान,